जेटली बोले- PM पद के लिए एकतरफा हो गया है मुकाबला, 2014 से बड़ा होगा मोदी जनादेश

अरुण जेटली ने अपने हालिया ब्लॉग में कहा कि किसी भी क्षेत्रीय दल के नेता जमीन पर के वास्तविक रुझान को समझ नहीं पा रहे हैं.

News18Hindi
Updated: May 11, 2019, 10:28 AM IST
जेटली बोले- PM पद के लिए एकतरफा हो गया है मुकाबला, 2014 से बड़ा होगा मोदी जनादेश
अरुण जेटली की फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: May 11, 2019, 10:28 AM IST
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को दावा किया कि मौजूदा चुनाव में प्रधानमंत्री पद के लिए मुकाबला 'एकतरफा' हो चुका है. उन्होंने भरोसा जताया कि 'मोदी जनादेश' 2014 से भी बड़ा हो सकता है. जेटली ने यह भी कहा कि आम चुनाव का रिजल्ट आने में मात्र 13 दिन बचे हैं. ऐसे में पारंपरिक राजनीतिक विरोधियों ने खुले या दबे तौर पर इस बात की आशा शुरू कर दी है कि भारतीय वोटर बुद्धिमान नहीं है और वह एक मिला-जुला निर्णय देगा.

अपने हालिया ब्लॉग में जेटली ने कहा, 'प्रधानमंत्री मुकाबला लगभग एकतरफा हो गया है. मतदाता स्पष्ट हैं कि वह पांच साल की सरकार चाहते हैं, न कि पांच महीने की. मतदाता के सामने 'मोदी बनाम अराजकता' का विकल्प है. जाहिर है कि मतदाताओं के विवेक पर भरोसा करना पड़ेगा. ‘मोदी जनादेश’ 2014 से भी बड़ा हो सकता है.'



बता दें 2014 के आम चुनाव में बीजेपी ने 282 सीटें जीतकर पूर्ण बहुमत हासिल किया था. जबकि, कांग्रेस को केवल 44 सीटें मिली थीं. जेटली ने 'दि होप्स ऑफ द लूजर्स (पराजितों की उम्मीदें)' शीर्षक के एक फेसबुक पोस्ट में कहा, 'जब मतों की गिनती में मात्र 13 दिन बचे हैं, तो पारंपरिक राजनीतिक विरोधियों ने खुले या दबे तौर पर इस बात की आशा शुरू कर दी है कि भारतीय वोटर बुद्धिमान नहीं है और वह एक मिला-जुला निर्णय देगा. 23 मई 2019 को यह धारणा पूरी तरह से गलत साबित होगी.'

यह भी पढ़ें:  ममता ने नायडू को लौटाया खाली हाथ, कहा- लोकसभा रिजल्ट तक न करें मुलाकात



जेटली ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कांग्रेस को दो अंकों की पार्टी में बदल दिया है और उनकी पार्टी के लोगों को पूरी उम्मीद है कि वे 2019 में दोहरे अंक की सीमा को तोड़ सकते हैं. उन्होंने कहा, 'उनकी महत्वाकांक्षा का स्तर निराशाजनक रूप से अपर्याप्त है. मायावती चुनौती देने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं. ममता बनर्जी और चंद्रबाबू नायडू का मानना ​​है कि वे विपक्ष के सूत्रधार हैं. केसीआर का सपना गैर-भाजपा, गैर-कांग्रेस पार्टियों के गठबंधन का है.'

जेटली ने कहा कि किसी भी क्षेत्रीय दल के नेता जमीन पर के वास्तविक रुझान को समझ नहीं पा रहे हैं.
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...