जहां छोटे से कमरे में पीएम मोदी ने बिताए कई साल, कल करेंगे वहां का दौरा

यही वो दौर था, जब मोदी के पास मीडिया से जुड़े काम भी थे. वो अहमदाबाद में सभी प्रमुख अखबारों के ऑफिस नियमित तौर पर जाते थे.

News18Hindi
Updated: May 25, 2019, 10:15 PM IST
News18Hindi
Updated: May 25, 2019, 10:15 PM IST
गुजरात के अहमदाबाद में स्थित खानपुर बीजेपी के लिए बड़ी खास जगह है. यहां पर बीजेपी का ऑफिस है. उससे भी खास बात यह है कि यही वो जगह है, जहां एक तरह से पीएम मोदी ने अपने करियर की शुरुआत की थी. पीएम मोदी ही नहीं, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी यहीं से सियासी सफर की शुरुआत की. मोदी ने पार्टी के लिए काम करते हुए इसी खानपुर ऑफिस के एक कमरे में कई साल बिताए हैं.

एक दिलचस्प तथ्य यह भी है कि मोदी-मोदी का जो नारा पूरे देश में गूंजता है, उसकी शुरुआत भी इसी ऑफिस से हुई थी. मोदी ने साल 2007 का विधानसभा चुनाव जीता था, जिसके बाद ऑफिस के सामने रैली हुई थी. इस रैली में मोदी-मोदी का नारा लगा था. एक और दिलचस्प तथ्य यह है कि चुनाव गुजरात विधानसभा का जीता, लेकिन मोदी ने वो भाषण हिंदी में दिया था. साफ था कि वो सिर्फ राज्य नहीं, पूरे देश में संदेश पहुंचाना चाहते थे.





मोदी रविवार की शाम करीब पांच बजे अहमदाबाद पहुंचने वाले हैं. एयरपोर्ट पर स्वागत समारोह के बाद वो बीजेपी के उसी ऑफिस में जाएंगे, जहां से उनका सफर शुरू हुआ था. जब वह गुजरात बीजेपी के महासचिव थे, तब उन्होंने लंबा वक्त इसी ऑफिस में रहते हुए बिताया था. इस बार वो मां से मिलने के बाद रात्रि प्रवास गांधीनगर के राजभवन में करेंगे. अगली सुबह उन्हें वाराणसी रवाना होना है.



यहां मोदी ने बिताए 8 साल
खानपुर ऑफिस में मोदी ने जिंदगी के करीब आठ साल बिताए हैं. यह इलाका मुस्लिम बहुल माना जाता है. साल 1984 में बीजेपी ने खडिया से अपना ऑफिस खानपुर शिफ्ट किया था. गुजरात बीजेपी के लिहाज से देखा जाए तो खानपुर इस पार्टी का पांचवां कार्यालय है. इससे पहले के चार कार्यालय मानक चौक और खडिया में थे. साल 1987 में मोदी आरएसएस से बीजेपी में आए. तब उन्होंने इसी ऑफिस में रहना शुरू किया.
Loading...

यही वो दौर था, जब मोदी के पास मीडिया से जुड़े काम भी थे. वो अहमदाबाद में सभी प्रमुख अखबारों के ऑफिस नियमित तौर पर जाते थे. ज्यादातर अखबारों के ऑफिस इसी इलाके के आसपास हैं. गुजरात के प्रमुख अखबार गुजरात समाचार का ऑफिस बीजेपी के खानपुर ऑफिस के ठीक सामने ही है. उस दौर में बीजेपी ऑफिस में टाइपराइटर, साइक्लो स्टाइल मशीन और बाद में कंप्यूटर लाने का श्रेय भी मोदी को ही जाता है.



इसी दफ्तर के छोटे से कमरे में रहते थे मोदी
साल 1995 तक मोदी इसी ऑफिस के एक छोटे से कमरे में रहा करते थे. साल 1995 में खजुराहो एपिसोड के बाद वो दिल्ली आ गए. साल 2012 तक गुजरात में बीजेपी का पूरा कामकाज खानपुर ऑफिस से ही चलता था. शुरुआत में यह एक कमरे का छोटा सा ऑफिस था. फिर इसका विस्तार हुआ और दो कमरे बन गए. फिर ऊपरी मंजिल पर कुछ हिस्सा बनाया गया. बाद में पूरी ऊपरी मंजिल बनाई गई.

ये सारे विस्तार 19 साल में हुए. अब इसे अहमदाबाद सिटी ऑफिस के तौर पर जाना जाता है. साल 2012 में जब मोदी ने गुजरात चुनावों में जीत की हैट्रिक लगाई थी, तब मुख्य मीटिंग और जश्न खानपुर ऑफिस के बाहर ही हुआ था. इस इलाके को जेपी चौक नाम से जाना जाता है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...