• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Lok Sabha Election Result 2019: इन आंकड़ों पर नज़र डाल लीजिए, समझ आ जाएगा कि बीजेपी ने क्या खास किया है

Lok Sabha Election Result 2019: इन आंकड़ों पर नज़र डाल लीजिए, समझ आ जाएगा कि बीजेपी ने क्या खास किया है

फोटो- Twitter

फोटो- Twitter

Lok Sabha Election Result 2019: अनिल जैन के लिए कहा जाता है कि छत्तीसगढ़ में सभी सांसदों को बदलने के फैसले के पीछे उनका हाथ है. प्रकाश जावड़ेकर राजस्थान में जाति समीकरण को साधने में लगे थे.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से लगातार इस बात की समीक्षा हो रही है कि आखिर बीजेपी के पक्ष में क्या-क्या गया है. सबसे बड़ा फैक्टर तो नरेंद्र मोदी हैं ही. मोदी के साथ ‘चाणक्य’ अमित शाह. अमित शाह के साथ उनके सिपहसालारों से लेकर बूथ कार्यकर्ताओं और पन्ना प्रमुख तक सबने अपना काम सही तरीके से अंजाम दिया है. कुछ आंकड़े हैं, जो दिखाते हैं कि इन लोगों के काम का नतीजा क्या निकला है.

अमित शाह की टीम में कैलाश विजयवर्गीय को पश्चिम बंगाल की जिम्मेदारी दी गई थी. उन्होंने वहां हिंदुत्व सहित तमाम मुद्दों पर फोकस करके बीजेपी समर्थकों को लामबंद किया. मोदी और अमित शाह की रैलियां कैसे होंगी, उसकी पूरी जिम्मेदारी भूपेंद्र यादव के पास थी. देवेंद्र फडणवीस ने पश्चिमी महाराष्ट्र में एनसीपी की योजनों को कुंद बनाने में अहम भूमिका निभाई.

यह भी पढ़ें:  Lok Sabha Election Results 2019: ओडिशा की पुरी सीट पर 11 हज़ार से ज़्यादा वोटों से हारे संबित पात्रा

मनोहरलाल खट्टर के जिम्मे हरियाणा में जाट वोटर्स को एक साथ नहीं आने देना था. उन्होंने भूपेंद्र सिंह हुड्डा का असर कम करने की कोशिश की, जिसमें कामयाबी मिली. सुनील बंसल के पास उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी थी, जहां कोर वोटर्स पर नजर रखना उनकी जिम्मेदारी थी. अनिल जैन के लिए कहा जाता है कि छत्तीसगढ़ में सभी सांसदों को बदलने के फैसले के पीछे उनका हाथ है. प्रकाश जावड़ेकर राजस्थान में जाति समीकरण को साधने में लगे थे.

देखिए बीजेपी के ग्राफ ने कैसे छलांग लगाई
इस चुनाव में 224 सीटें ऐसी हैं, जहां बीजेपी ने 50 फीसदी से ज्यादा वोट पाए हैं. पिछली बार ऐसी सीटों की तादाद 136 थी. इससे वोट शेयर किस कदर बढ़ा है, वो समझ आता है. बीजेपी ने सबसे ज्यादा 74.5 फीसदी वोट सूरत में पाए. अमित शाह लगातार कहते रहे हैं कि बीजेपी को अपना वोट शेयर 50 फीसदी के पार ले जाने की जरूरत है, जिसके बाद कोई गठबंधन इस पार्टी को छू नहीं सकता. वो इस ओर तेजी से आगे बढ़ते दिखी दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election Results 2019: बीजेपी-कांग्रेस में 188 सीटों पर थी सीधी लड़ाई, 174 पर बीजेपी ने परचम लहराया

News18 Illustration


इस चुनाव में बीजेपी ने 2014 में जीती सीटों में 81.8 फीसदी वापस जीती हैं. दूसरी तरफ कांग्रेस महज 37.2 फीसदी सीटें ही दोबारा जीत सकी है. जब राष्ट्रीय अध्यक्ष ही अपनी सीट न बचा पाएं, तो बाकियों का क्या कहेंगे. राहुल गांधी अमेठी से हारे हैं. यहां 1977 के बाद गांधी परिवार का कोई उम्मीदवार नहीं हारा था. उनके अलावा, बहुत से ऐसे उम्मीदवार हारे हैं, जो पिछली बार जीते थे. पिछले चुनाव में बीजेपी ने छह सीटें पांच लाख से ज्यादा अंतर से जीती थीं. इस बार इनकी संख्या 15 हो गई है.

इन राज्यों में वोट शेयर का प्रतिशत जरूर देखिए
अहम राज्यों में वोट शेयर ही देखेंगे, तो बीजेपी का असर समझ आ जाएगा. पश्चिम बंगाल में 40 के करीब वोट शेयर है, जो पिछली बार के मुकाबले ढाई गुना है. 2014 में 16.34 फीसदी वोट मिले थे. हरियाणा में वोट शेयर 34.74 से बढ़कर 57.98 हो गया. झारखंड में 40 से 50 और उत्तर प्रदेश में 42 से 49 फीसदी के करीब वोट शेयर बढ़ा.

कर्नाटक में पिछली बार 43 प्रतिशत वोट मिले थे. इस बार 51 फीसदी से ज्यादा हैं. दिल्ली में 32 से बढ़कर वोट शेयर 56 से ज्यादा हो गया. छत्तीसगढ़ में 32.97 से वोट शेयर 50.07 हो गए. हिमाचल प्रदेश में 53 से बढ़कर 69, मध्य प्रदेश में 41 से बढ़कर 57, राजस्थान में 38 से बढ़कर 58 और उत्तराखंड में 46 से बढ़कर 60 फीसदी से भी ज्यादा वोट शेयर हो गया. नरेंद्र मोदी के गृहराज्य गुजरात में वोट शेयर 49.05 से बढ़कर 62.21 हो गया.

यह भी पढ़ें:  लोकसभा चुनाव 2019: हिमाचल में 40 साल के सियासी इतिहास के ये रिकॉर्ड टूटे

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज