• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • सूरत लोकसभा सीट: बीजेपी के गढ़ में क्या इस बार होगी कांग्रेस की वापसी?

सूरत लोकसभा सीट: बीजेपी के गढ़ में क्या इस बार होगी कांग्रेस की वापसी?

इस सीट पर मुख्‍य मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच में ही बताया जा रहा है.

इस सीट पर मुख्‍य मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच में ही बताया जा रहा है.

सूरत लोकसभा सीट बीजेपी का गढ़ रही है. 2014 के लोकसभा चुनाव में भी इस सीट पर बीजेपी ने ही बाजी मारी थी.

  • Share this:
    गुजरात की 26 लोकसभा सीटों में से एक सूरत लोकसभा सीट है. कारोबार के लिहाज से सूरत न सिर्फ गुजरात का बल्कि देश का अहम शहर है. इसके अलावा राजनीतिक तौर पर भी इस शहर की खास पहचान है. देश के पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई इसी सीट से चुनाव लड़कर संसद पहुंचे थे. मोरारजी देसाई इस सीट से पांच बार सांसद रहे थे. उन्होंने पहली बार इस सीट पर 1957 के आम चुनाव में जीत दर्ज की. इसके बाद 1977 के चुनाव तक वो जीतते रहे.

    सूरत लोकसभा सीट के अंतर्गत सात विधानसभा सीटें- ओलपाड, वरच्छा रोड, सूरत पश्चिम, सूरत पूर्व, करंज, सूरत उत्तर और कटा ग्राम आती हैं. बीजेपी का गढ़ रही है. 2014 के लोकसभा चुनाव में भी इस सीट पर बीजेपी ने ही बाजी मारी थी. बीजेपी उम्मीदवार दर्शना जरदोश ने बड़े अंतर से जीत दर्ज की थी. उन्होंने सात लाख से ज्यादा वोट हासिल किए थे. जब कि दूसरे स्थान पर कांग्रेस के नैषाध देसाई रहे थे. उन्हें 1 लाख 85 हजार 222 वोट ही मिले थे. 2014 में इस सीट पर 14,84,068 मतदाता थे, जिसमें 8,03,823 पुरुष और 6,80,239 महिला मतदाताएं थी.



    वहीं 2019 के चुनाव में इस सीट पर कुल 13 उम्मीदवार मैदान में हैं. लेकिन कड़ी टक्कर बीजेपी और कांग्रेस में देखने को मिल रही है. बीजेपी ने दो बार से सांसद दर्शना जरदोश पर एक बार फिर भरोसा किया है. जब कि कांग्रेस ने बीजेपी उम्मीदवार को टक्कर देने के लिए अशोक अधेवड़ा को मैदान में उतारा है.

    सूरत लोकसभा सीट 1989 बीजेपी लगातार जीत दर्ज करती आ रही है. काशीराम राणा ने पहली बार 1989 में इस सीट पर बीजेपी को जीत दिलाई. इसके बाद 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 के लोकसभा चुनावों में उन्होंने लगातार छह बार जीत दर्ज की. काशीराम राणा के बाद बीजेपी की दर्शना जरदोश ने 2009 का चुनाव जीता. वो सूरत लोकसभा सीट से जीतने वाली पहली महिला उम्मीदवार हैं. दर्शना ने 2014 में भी जीत हासिल की थी.

    लद्दाख लोकसभा सीट पर पहली बार 2014 लोकसभा चुनाव में कमल खिला था.

    लोकसभा की 543 सीट पर किस पार्टी का कौन सौ उम्मीदवार कहां से चुनाव लड़ रहा है, ये जानकारी देने के लिए अब आपको मोबाइल या लैपटॉप पर यहां-वहां नहीं भटकना पड़ेगा. न्यूज18 हिन्दी आपको एक ही पेज पर 543 सीटों के नाम, उन पर चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के नाम, किस चरण में कौन सी तारीख को वोट डाले जाएंगे, ये बताएगा. अब ज़रा एक नज़र डालते हैं चुनाव की उन छोटी-छोटी तैयारियों पर जिन्हें हम नज़रअंदाज़ कर जाते हैं.

    ये भी पढ़ें: BJP की सरकार नहीं बनी तो निफ्टी में आएगी बड़ी गिरावट: रिपोर्ट

    ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election 2019: प्रियंका से लेकर मोदी तक, भगवान की शरण में पहुंचे नेता

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज