चुनावी नौटंकी: चुनावी गालियां, 'चोर, चोर' का शोर और योगी, माया के बाद सिद्धू के 'मुसलमान' की नौटंकी

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: April 16, 2019, 10:54 PM IST

चुनाव आयोग ने मायावती, आज़म खान और सीएम योगी की सभाओं पर बैन लगाया तो मंगलवार को नवजोत सिंह सिद्धू ने सांप्रदायिक बयानबाज़ी की. राहुल का अपनी टिप्पणी पर प्रतिक्रियाएं मिलीं. गठबंधन, उम्मीदवारी और रैलियों की खबरें बदस्तूर आती रहीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2019, 10:54 PM IST
  • Share this:
'सारे मोदी चोर हैं', चुनावी नौटंकी में राहुल गांधी ने इतना कहा तो लेने के देने पड़ गए. बीजेपी ने बदला लेते हुए राहुल को गालियां दीं. वहीं, बीजेपी के एक गणमान्य ने पीएम मोदी को 'चित्रगुप्त' बना दिया तो बिहार की 'तेजस्वी वाणी' ने भाजपा को 'गंगा मैया का अवतार' घोषित किया. सियासी नौटंकी यहीं बंद नहीं हुई. चुनाव आयोग ने 'बहनजी' और योगी को चुप रहने को कहा तो सिद्धू वाचाल हो गए और 'मुसलमान वोट बैंक' फिर सुर्खियों में आया. आज़म के चुप रहने के बावजूद गाली गलौज का माहौल बना रहा. दिल्ली में कौन मिला हुआ है, कौन नहीं? ये सवाल उछलता रहा तो रैलियों में एक दूसरे को कोसना बदस्तूर जारी रहा.

READ: रविशंकर प्रसाद का हमला, पूछा- सिद्धू का बयान देश को कैसे मजबूत करता है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना चुनावी रथ लेकर ओडिशा पहुंचे और बदस्तूर कांग्रेस का बैंड बजाना जारी रखा. इस बार भी कहा कि 'कांग्रेस ने अन्याय किया' लेकिन नया ये था कि इस बार 60 नहीं '55 साल से' कहा. नवीन पटनायक सरकार को भी कोसा और राहुल गांधी की टिप्पणी 'सारे मोदी चोर हैं', पर भी जवाब दिया. राहुल के इस इल्ज़ाम पर बिहार की सरकार में शामिल रहे सुशील मोदी को ज़्यादा गुस्सा आ गया और उन्हें लगा कि इस बयान से उनका सम्मान खतरे में है इसलिए मानहानि का मुकदमा ठोकने की धमकी दे दी.


Loading...

READ: कांग्रेस ने 55 साल तक देश में घोर अन्याय किया: PM मोदी

उत्तर भारत के कई हिस्सों में आंधी और बारिश हुई तो देश के जिन जिन हिस्सों में सियासी ज़ुबानें खुलीं, वहां ओले गिरे या बिजलियां. बताते हैं कि राहुल से फौरन हिसाब ​किताब चुकाते हुए हिमाचल के बीजेपी नेता सतपाल सत्ती ने अपने भाषण में ऐसा फेसबुक पोस्ट पढ़ डाला, जिसमें राहुल के लिए अभद्र गालियां लिखी हुई थीं. फिर क्या था? सत्ती के खिलाफ एफआईआर हो गई.

lok sabha election 2019, bjp, congress, narendra modi, rahul gandhi, लोकसभा चुनाव 2019, भाजपा, कांग्रेस, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी

अब कांग्रेस कहां चुप बैठने वाली थी? कांग्रेस के एक समर्थक ने सत्ती की 'काली ज़ुबान' काटने वाले को 10 लाख के इनाम का ऐलान कर दिया. फिर उनके खिलाफ एफआईआर हो गई. हमारे देश की संस्कृति है कि गाली गलौज देश की सड़कों पर भले रोज़ हो, लेकिन संसद पहुंचने वाली सड़क पर हो, तो आपत्तिजनक है.

READ: सत्ती की ‘काली जुबां’ काटने पर 10 लाख देने की घोषणा करने वाले कांग्रेस समर्थक पर FIR

सुनते हैं कि चुनाव आयोग ने एक 'गाली सुनो समिति' बनाई है और ऐसे तमाम बयानों, भाषणों वगैरह पर कान रख रहा है. वोटर इसलिए खुश हैं कि उनके नेता उनके ही जैसी ज़ुबान बोलते हैं. ऐसी ही ज़ुबानों को कुछ घंटों तक ताले में रखने के आदेश चुनाव आयोग ने दिए लेकिन फिर नवजोत सिंह सिद्धू की ज़ुबान खुली तो गुगली निकली. सिद्धू ने 'बहनजी' से एक कदम आगे बढ़कर मुसलमानों से कहा कि 'एकजुट होकर वोट देना और मोदी को सलटा देना'. शायद चुनाव आयोग इस बयान की रिकॉर्डिंग भी मंगाएगा.



खुलकर धमकाने के अलावा धमकी का दूसरा अंदाज़ होता है 'प्यार से धमकी देना'. गुजरात के दाहोद में मोदी को 'चित्रगुप्त' की तरह चित्रित करते हुए बीजेपी के एमएलए कटारा ने प्यार से वोटरों को धमकाया कि 'मोदी सीसीटीवी से सब देखते हैं कि किसने बीजेपी को वोट दिया और किसने नहीं. अगर यहां से कम वोट मिले, तो फिर कम सुनी जाएगी'. जैसे मेनका ने खुलकर कहा था 'मुसलमान वोट नहीं देंगे तो जब काम के लिए आएंगे तो फिर मैं उनका काम नहीं करूंगी', वही 'मोदी' नाम की आड़ में कहा गया.

दूसरी ओर, बिहार में लालू खानदान मंगलवार को भी चुनावी नौटंकी में बना रहा. न्यूज़ 18 के साथ खास इंटरव्यू में लालू के सपूत तेजस्वी यादव ने बीजेपी पर जो कटाक्ष किया था, वह मंगलवार को चर्चा में आया. तेजस्वी ने कहा कि 'हम भी भाजपा में चले जाते तो हमारे सारे पाप धुल जाते, हम भी राजा हरिश्चंद्र कहलाते'. बीजेपी न हुई, गंगा का अवतार हो गई लेकिन ऐसा होने में मुश्किल ये है कि भाजपा ने खुद ही गंगा की सफाई के लिए मंत्रालय भी बनाया था.

READ: 'बीजेपी में चले जाते तो हम भी राजा हरिश्चंद्र हो जाते'

सोमवार को राहुल ने केजरीवाल पर तंज़ कसते हुए कहा था कि 'केजरीवाल यू टर्न ले रहे हैं लेकिन हमारे दरवाज़े तो खुले हैं'. इस पर केजरीवाल ने चुटकी ली थी कि 'काहे का यू टर्न? सच में हाथ मिला रहे हो कि दिखावा कर रहे हो?' एक दिन बाद यानी मंगलवार को केजरीवाल के दूत सिसौदिया बोले कि अगर हाथ मिलाना है तो ठीक से मिलाओ यानी सिर्फ दिल्ली नहीं, ​हरियाणा और चंडीगढ़ में भी गठबंधन करना पड़ेगा. मतलब किसी दुकान का एक पूरा पैकेज है, सुविधानुसार कांट छांट नहीं होगी. सीट शेयरिंग की शर्तों के बीच उधर, शेयर बाज़ार उछल पड़ा तो निवेशकों की चांदी हो गई.

lok sabha election 2019, bjp, congress, narendra modi, rahul gandhi, लोकसभा चुनाव 2019, भाजपा, कांग्रेस, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी

READ: 'जिस कांग्रेस को जहर बताते थे अब उसी को चाटने जा रहे हैं केजरीवाल'

हाथ मिलाने और गले मिलने की इस नौटंकी के बीच ​हरियाणा सरकार में मंत्री अनिल विज ने भी फटे में टांग अड़ाते हुए कहा कि केजरीवाल याद करें कि वो कांग्रेस को ज़हर कहते थे और अब ज़हर चाटने जा रहे हैं. वैसे, ये खेल बिगाड़ने की रणनीति भाजपा ने इस बार अपना रखी है. दिल्ली से दूर मुंबई में मंगलवार को फिर उर्मिला एक चुनावी सभा करने पहुंची तो वहां ​लगातार दूसरे दिन भाजपाई खेल बिगाड़ने पहुंच गए. अपनी नारेबाज़ी करने लगे और फिर कांग्रेसियों के साथ भिड़ गए. उर्मिला इतना कुछ बोलना चाहती हैं लेकिन ये भाजपाई हैं कि उन्हें कोई रैली करने और कुछ बोलने ही नहीं दे रहे.

दुश्मनी में कोई कसर न छोड़ने की तमाम खबरों के बीच एक खुशगवार झोंका तब आया जब घायल शशि थरूर का हाल चाल जानने के लिए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण अस्पताल पहुंच गईं. दुश्मनी अपनी जगह लेकिन इंसानियत अपनी जगह. और अब चुनावी परदे की फिल्मी खबरें. बीजेपी के शत्रु हो चुके बिहारी बाबू की श्रीमती जी यानी पूनम सिन्हा को सपा ने टिकट दे दिया ताकि वो बीजेपी राज के नाथ को टक्कर दे सकें. वहीं, कहते हैं कि बीजेपी इस बार चंडीगढ़ की जगह अमृतसर से 'उम्मीद की अनुपम किरण' को उतार सकती है.

READ: रक्षामंत्री को अस्पताल में देख भावुक हुए शशि थरूर

वहीं, पूर्वांचल में भोजपुरी फिल्मों के हीरो रवि किशन अपनी चुनावी यात्रा शुरू कर रहे हैं तो कहा जा रहा है कि 'योगी' का हाथ उनके सिर पर है. रवि किशन को शायद बाद में एहसास होगा कि अभिनेता रहते हुए उन्हें कितनी जातियों के लोग प्यार करते थे और नेता बनते ही किस जाति के लोग उन्हें वोट देंगे.

lok sabha election 2019, bjp, congress, narendra modi, rahul gandhi, लोकसभा चुनाव 2019, भाजपा, कांग्रेस, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी

READ: ब्राह्मण बनाम ठाकुर की राजनीति में कितना कारगर होगा बीजेपी का 'शुक्ला' दांव?

वहीं, पश्चिम बंगाल में खबर है कि मोदी की बायोपिक पर बैन के बाद ममता बनर्जी पर बनी फिल्म आने वाली है. इस फिल्म पर बैन न लगे इसलिए फिल्मकारों का खेमा कह रहा है कि यह बायोपिक नहीं है बल्कि ममता के जीवन से प्रेरित नारी सशक्तिकरण की एक फिल्म है. यानी सुप्रीम कोर्ट को मजबूरन अब एक और फिल्म देखना पड़ेगी.

READ: महिलाओं की एंट्री पर विवाद, मस्जिदों में नमाज़ भी पढ़ा रही हैं महिलाएं

नारी सशक्तिकरण का एक और मुद्दा तब सामने आया जब मस्जिदों में औरतों के नमाज़ पढ़ने को लेकर बहस छिड़ गई. एक इमाम ने कहा कि ये कोई मुद्दा नहीं है, जबरन चुनावी चकल्लस में इसे तूल दिया जा रहा है. कुल मिलाकर, नारी सशक्तिकरण की ब्रांड एंबेसडर बसपा सुप्रीमो मायावती को चुनाव आयोग के कहने पर मौन व्रत रखना पड़ा तो योगी हनुमान चालीसा का पाठ करते रहे. वहीं आज़म खान अपने निजी संबंध निभाने चले गए तो औरतों पर और ज़्यादा बयानबाज़ी मंगलवार को हुई नहीं.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

ये भी पढ़ें
JJP-AAP गठबंधन पर अनिल विज का तंज, 'जीरो में जीरो जोड़ें तो भी नतीजा जीरो ही रहेगा'
गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति में उठा-पटक, बैंसला के बीजेपी में जाने से बढ़ी गुटबाजी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 16, 2019, 8:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...