चुनावी नौटंकी: मोदी की आंधी, राहुल का 'कॉमेडी तूफान' और सिद्धू के कटाक्ष

उत्तर और पश्चिम भारत के कई हिस्सों में मौसम ने करवट ली तो कुछ इलाकों में चुनावी गर्मी से भी राहत मिली. दूसरे चरण के मतदान से ऐन पहले दक्षिण में बयानों की चुनावी नौटंकी चली तो दूसरी ओर सिद्धू, योगी और पीएम मोदी सुर्खियों में बने रहे.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: April 17, 2019, 9:07 PM IST
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: April 17, 2019, 9:07 PM IST
सियासी पारा, खास तौर से उत्तर भारत में इस कदर चढ़ गया था कि मौसम को करवट बदलना पड़ी. आंधी, तूफान और बारिश के बाद कुछ तेवर तो ठंडे हुए लेकिन महाराष्ट्र और दक्षिण से चुनावी गर्मी बढ़ाने वाले जुमले उठे. 'पीएम अपना घर संभालें, दूसरों के घर में न झांकें' और 'वो गोरे हैं और ये काले' जैसे 'असंस्कारी' कटाक्षों के बीच सिद्धू बुधवार को भी चुप नहीं बैठे. गुजरात के अहमदाबाद में सिद्धू ने पीएम मोदी को फिर निशाने पर लिया तो भीड़ को लाफ्टर शो का मज़ा आ गया. एक लाफ्टर शो राहुल की केरल रैली में भी हुआ. वहीं, स्वयं पीएम मोदी महाराष्ट्र में गरजे तो गुजरात में उनकी रैली से पहले ही टेंट उड़ गया. उधर, भोपाल सीट पर हफ्तों से चल रही भाजपा की कश्मकश ने साध्वी प्रज्ञा की शरण में जाकर विश्राम लिया.

READ: भोपाल से दिग्विजय सिंह के खिलाफ लड़ेंगी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर



शुरूआत नवजोत सिंह सिद्धू के कटाक्षों से. 'लोगों के पेट खाली हैं और उन्हें बाबा रामदेव बनाया जा रहा है', 'जेब खाली है और बैंक अकाउंट खुलवाया जा रहा है' जैसे व्यंग्य करते हुए पंडाल में जुटी भीड़ को सिद्धू ने पूरी तरह एंटरटेन किया. पिछले ही दिन सिद्धू ने बिहार में रैली की थी और मुसलमानों से एकजुट वोट कर 'मोदी को सुलटाने' वाला भाषण दिया था, जिसकी शिकायत चुनाव आयोग से की जा चुकी है. हो सकता है आज़म खान, योगी और मायावती की तरह उन्हें भी कुछ घंटों के लिए चुप रहना पड़ जाए.

READ: सिद्धू ने PM मोदी पर फिर किया कटाक्ष



वैसे सिद्धू के बयानों की आलोचना करके बीजेपी अपना धर्म निभा रही है, वहीं सिद्धू के पक्ष में बीजेपी के शत्रु यानी बिहारी बाबू के सुर बुधवार को गूंजे. पहले उन्होंने सिद्धू के बयान को 'ज़ुबान फिसलना' बताया और फिर कहा कि 'सिद्धू की आलोचना सिर्फ इसलिए की जा रही है क्योंकि वो 'सर जी' की पार्टी में नहीं हैं'. अब शत्रु की ज़ुबान पहले ट्वीट में फिसली या दूसरे, ये तो वही बता सकते हैं.

सिद्धू की रैली में ठहाके लगे, तो वहीं, केरल में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की चुनावी सभा कॉमेडी सर्कस बन गई. राहुल अंग्रेज़ी में भाषण दे रहे थे और पीएम मोदी और उनकी सरकार को कोस रहे थे, लेकिन उन्हें एक ही बात दो-तीन बार कहना पड़ी. अस्ल में, उनके अंग्रेज़ी भाषण को जनता को समझाने के लिए एक ट्रांसलेटर की व्यवस्था की गई थी लेकिन ट्रांसलेटर शायद कान का कच्चा था, तो एक बार में बात सुन नहीं पा रहा था. राहुल हर बात दोहराते रहे और खुद भी हंस पड़े. पहली बार मोदी को कोसते हुए राहुल को हंसते देखकर लोगों को भी दोगुना मज़ा आया.

READ: राहुल कर रहे थे मोदी की आलोचना, कुछ ऐसा हुआ



वहीं, कर्नाटक में कुमारस्वामी के एक बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी के पूर्व विधायक राजू ने ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया, जिसे सुनकर सबके कान खड़े हो गए. 'मोदी गोरे हैं तो अच्छे दिखते हैं, कुमारस्वामी काले हैं और दिन में 100 बार भी नहाएं तो भी भैंस ही दिखेंगे'. कांग्रेस के 'सारे मोदी चोर हैं' वाले बयान को भाजपा जहां पूरे पिछड़े वर्ग का अपमान करार दे रही है, उससे सवाल किया जा रहा है कि राजू के इस बयान से कितना बड़ा वर्ग अपमानित होता है?

इसी तरह के आपत्तिजनक बयानों के कारण चुनाव आयोग ने कुछ नेताओं को चुप करवा दिया था. उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने गुर समझाया कि चुप रहकर भी सुर्खियों में कैसे रहा जाता है. अयोध्या में एक 'दलित' के घर जाकर भोजन किया. साधु संतों से मुलाकात की. हनुमान की शरण में गए. कल यानी गुरुवार को भी उन्हें चुप रहना है तो योगी चुप रहने के लिए काशी प्रस्थान करेंगे और वहां देवताओं के दरबार में प्रणाम करेंगे. और शायद कुछ ऐसा भी करेंगे, जो अभी बताया नहीं गया.

lok sabha election 2019, bjp, congress, narendra modi, rahul gandhi, लोकसभा चुनाव 2019, बीजेपी, कांग्रेस, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी

READ: EC बैन के आखिरी दिन वाराणसी में रहेंगे सीएम योगी

वहीं, मायावती 'वाणी वनवास' को अपने वारिस को लॉंच करने में बिता रही हैं और आज़म खान के 'खामोश दौर' में उनके लख़्ते जिगर शोर मचाने की कोशिश कर रहे हैं. वहीं, मेनका गांधी कार्यकर्ताओं के साथ वक्त बिता रही हैं और शायद यही समझा रही हैं कि उनके भाषणों को एडिट करके कैसे वीडियो सार्वजनिक किए जाएं.

इन बोलती बंद नेताओं में से ज़्यादातर की ज़बानें तब खुल पाएंगी, जब गुरुवार को दूसरे दौर की वोटिंग हो चुकी होगी. इधर, पीएम मोदी का गरजना, बरसना जारी है. महाराष्ट्र के माढ़ा में चुनावी रैली में पीएम मोदी ने कांग्रेस को जमकर कोसा और 'चौकीदार' व 'चोर' संबंधी कांग्रेस के बयानों को पूरी पिछड़ी जाति के लिए शर्मनाक करार दिया. पीएम के तेवर देखकर ही मौसम ने भी तेवर बदले और गुजरात में उनकी सभा से पहले ही, वहां तूफान आया और टेंट उड़ गया.

READ: पिछड़ा होने के कारण कांग्रेस ने मुझे गालियां दी अब चोर कह रहे हैं: PM मोदी

lok sabha election 2019, bjp, congress, narendra modi, rahul gandhi, लोकसभा चुनाव 2019, बीजेपी, कांग्रेस, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी

महाराष्ट्र की सभा में ही पीएम मोदी ने शरद पवार को भी भला-बुरा कहा तो पवार से रहा नहीं गया. पवार ने साफ कह दिया कि 'अपना घर चलाना आता नहीं है और पीएम दूसरों के घरों में झांकते रहते हैं'. शरद पवार की घरेलू कलह को लेकर मोदी पहले भी चुनावी सभाओं में टिप्पणी कर चुके हैं इसलिए पवार गुस्से में प्रतिक्रिया दे गए.

प्रतिक्रिया कैसे दी जाती है, ये कांग्रेस के शातिर पॉलीटिशियन या चाणक्य कहे जाने वाले दिग्विजय सिंह ने फिर साबित किया. अस्ल में, भोपाल सीट पर उनके खिलाफ बीजेपी कई दिनों से परेशान थी कि किसे उम्मीदवार बनाए. साध्वी प्रज्ञा के नाम की घोषणा बुधवार को जब तक औपचारिक रूप से नहीं हुई तब तक दिग्गी ने कोई बयान नहीं दिया. फिर शांति से कहा कि 'उम्मीद है कि प्रज्ञा के आने के बाद भोपाल में शांति और अहिंसा कायम रहेगी'. हौले से ताना देने की इस कला की हर तरफ चर्चा है.



READ: साध्वी प्रज्ञा पर दिग्विजय सिंह ने दिया पहला रिएक्शन

इन तमाम सुर्खियों के अलावा देश के चुनाव में पाकिस्तान की बात होती रही. गिरिराज सिंह ने कांग्रेस पर पाकिस्तान के इशारे पर काम करने का तंज़ कसा तो रक्षा मंत्री निर्मला ने कहा कि इमरान खान ने जो मोदी को समर्थन देने वाली बात कही, उस बयान के पीछे भी कांग्रेस का हाथ हो सकता है. वहीं, एक खुफिया खबर और आई कि चुनावों के दौरान आगामी दिनों आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद आतंकी हमला कर सकता है. वही जैश, जिसके ठिकानों पर पिछले दिनों एयर स्ट्राइक के बाद दो से तीन सौ आतंकियों को मारे जाने का दावा किया गया था.

READ: पीएम समेत कई बड़े नेता नक्सलियों के निशाने पर

देश के कुछ राज्यों में तूफान के बीच बिहार में बुधवार को चुनावी सन्नाटा सा पसरा रहा. हो सकता है कि ये वहां किसी तूफान से पहले की शांति हो. लेकिन, बिहार के बॉर्डर पर भोजपुरिया सुपरस्टार रवि किशन ने मुंह खोला. पहले योगी का आशीर्वाद लिया और फिर बयान देकर विपक्ष के लिए कहा कि 'ज़िंदगी झंड बा, फिर भी घमंड बा' और फिर अपनी दावेदारी के बारे में कहा कि 'मैं तो सिर्फ चेहरा मात्र हूं, वोट तो मोदी जी के लिए मांगूंगा'. यानी उन्होंने जुम्मा जुम्मा चार दिन की सियासत में बड़े गुर सीखने की मिसाल दी.

READ: तीन राज्यों में आंधी-बारिश से गई 34 लोगों की जान

lok sabha election 2019, bjp, congress, narendra modi, rahul gandhi, लोकसभा चुनाव 2019, बीजेपी, कांग्रेस, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी

और आखिरकार केजरीवाल की बात कांग्रेस के साथ नहीं बनी तो नहीं बनी. 'आप' को जेजेपी से मिलना गवारा हुआ लेकिन कांग्रेस से नहीं. उधर, नमो टीवी पर कुछ प्रोग्राम दिखाने पर रोक लग गई और बाबा रामदेव अंदर की खबर निकालकर लाए कि मोदी को हराने के लिए कुछ इस्लामिक देश फंड दे रहे हैं. यानी इस्लामिक देशों से काला धन आ रहा है, वो भी सरकार के ही खिलाफ और सरकार कोई एक्शन नहीं ले रही! इसके अलावा गुरुवार को होने वाले मतदान से जुड़ी खबरों में ये रहा कि चुनाव आयोग ने पूरी तैयारी कर ली है लेकिन ये तैयारी पूरी हुई कि नहीं, ये तो मतदान के बाद ही पता चलेगा.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

ये भी पढ़ें :
आजम पर भड़के साक्षी महाराज, कहा- तत्काल पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाएं अखिलेश
लाहौल-स्पीति के लोगों का सांसदों से हुआ मोहभंग, कहा- 5 साल तक नजर नहीं आते ये
राहुल गांधी के खिलाफ ‘अभद्र टिप्पणी’ मामले में हिमाचल BJP अध्यक्ष सतपाल सत्ती पर FIR
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार