चुनावी नौटंकी में सपा ने कहा 'अंडरवियर', तो ईसी ने योगी, माया से कहा 'अंडरस्टैंड!'

लोकसभा चुनाव की सुर्खियों में सोमवार को आज़म खान पर भाषा की मर्यादा तोड़ने का आरोप लगा तो आपत्तिजनक बयानों के लिए योगी और मायावती पर एक्शन लिया गया. दौरों, गठजोड़, टिकट घोषणा के बीच भाजपा का मुद्दा कांग्रेस ने चुपचाप चुराने की चाल चली.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: April 15, 2019, 10:06 PM IST
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: April 15, 2019, 10:06 PM IST
गर्मी बढ़ती जा रही है, जनता पर इमोशनल अत्याचार बढ़ता जा रहा है और बात 'बोल वचन' से 'गाली-गलौज' तक बढ़ गई है. चुनावों में ये सब कब नहीं हुआ? अब भी हो रहा है यानी देश वहीं है, वैसा ही है. 'सोये हुए' चुनाव आयोग को सुप्रीम कोर्ट ने जगाया तो हड़बड़ाकर उसने योगी और माया के जुमलों पर कुछ घंटों के लिए बैन कर दिया. पीएम मोदी कठुआ में रैली करने पहुंचे तो कश्मीर के खानदानों को कोसा और राहुल गांधी ने फतेहपुर में 'अच्छे दिन' और 'चौकीदार चोर' की बातें दोहराईं. शशि थरूर घायल हुए, महबूबा बाल बाल बचीं. पूर्वांचल में भोजपुरिया, बिहार में 'पीके' और दिल्ली में 'हम साथ साथ हैं' वाली चुनावी नौटंकी चलती रही.

READ: राफेल केस: 'चौकीदार चोर है' पर फंसे राहुल

'अली' और 'बजरंग बली' के जुमले कुछ रोज़ पहले ही चुनावी मैदान में गरजे थे. चुनाव आयोग कान में रूई ठूंसे बैठा था इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने एक डंडा फटकार कर जगाया. हड़बड़ाकर जागे चुनाव आयोग ने कहा कि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ अगले 72 और बसपा सुप्रीमो मायावती अगले 48 घंटे चुनाव प्रचार नहीं करेंगे. मतलब ये कि इसका कोई इलाज नहीं है कि इन घंटों के बाद वो क्या बोलेंगे! फिर कुछ बोलेंगे, तो फिर देखा जाएगा. वहीं, महाराष्ट्र में शिवसेना के संजय राउत ने चुनाव आयोग को ठेंगा दिखाकर कहा कि अगर 'मन की बात' कहने में कायदे कानून आड़े आएं तो भाड़ में जाएं. यानी मन की बात करने का हक सबका है.


Loading...

READ: मायावती की एक तो योगी आदित्यनाथ की तीन रैलियां रद्द

चुनावी बयार में 'बोल बचन' की मर्यादा हर बार लांघी जाती रही है और इस बार यूपी में सपा के आज़म खान ने ये कारनामा किया. 'हमने तो पहले ही समझ लिया था कि इनका कच्छा खाकी है', जैसा बयान देकर आज़म ने अपनी बेबाकी का एक और सबूत देते हुए कहा कि 'कोई मुझे दोषी साबित कर दे तो चुनाव नहीं लड़ूंगा, मैंने किसी का नाम नहीं लिया था'. बयान में नाम तो नहीं लिया था लेकिन निशाने पर जयाप्रदा थीं, खबरों के बाज़ार में यही चर्चा चलती रही.

lok sabha elections 2019, narendra modi, rahul gandhi, bjp, congress, लोकसभा चुनाव 2019, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी, बीजेपी, कांग्रेस

READ: जया प्रदा पर दिए बयान को लेकर आजम खान के खिलाफ FIR

अमेठी की 'तुलसी' ने इसे पूरी नारी ​जाति का अपमान करार दिया, तो किसी ने सवाल उठाया कि निर्भया के लिए आंसू बहाने वाली समाजवादी पार्टी की जया बच्चन चुप क्यों हैं? तो आरएसएस के एक नेता ने आज़म मियां को इस्लाम से बेदखल किए जाने की मांग कर डाली. फ़िलहाल चुनाव आयोग ने इस पर डीएम से रिपोर्ट तलब की है. अब देखना ये है कि सुप्रीम कोर्ट के कुछ कहने से पहले आयोग कुछ करेगा कि नहीं. इधर, सपा के सर्वेसर्वा अखिलेश ने आज़म का बचाव किया और कहा कि आज़म ने जया प्रदा के लिए ऐसा नहीं कहा था. अखिलेश की मान भी लें तो सवाल ये है कि किसी के भी 'अंडरवियर' की बात करना ही क्यों?

lok sabha elections 2019, narendra modi, rahul gandhi, bjp, congress, लोकसभा चुनाव 2019, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी, बीजेपी, कांग्रेस

कहा सुनी की ये कलह यहीं शांत नहीं हुई. बिहार में पिछले कुछ दिनों से चल रही 'पीके' की फिल्म बराबर हाउसफुल है. लालू और राबड़ी के सपूत तेजस्वी ने प्रशांत किशोर और नीतीश कुमार पर चुनावी माइलेज के लिए निशाने लगाए. वहीं, उन्होंने रामविलास पासवान के वारिस चिराग को भी आड़े हाथों लिया. दोनों के बीच ज़बानी जंग चलती रही. बिहार में बच्चे अपने अपने बापों की विरासत पुरानी तर्ज़ पर ही बखूबी संभालेंगे, इसके सबूत मिलते रहे.

कहा सुनी के बाद अब बात बयानबाज़ी की. पीएम नरेंद्र मोदी जम्मू कश्मीर के कठुआ में चुनावी सभा में पहुंचे तो 'कांग्रेस पर लूट' और राज्य के दो खानदानों अब्दुल्ला और महबूबा पर राज्य की जनता को नोचने, निचोड़ने के इल्ज़ाम लगाए. कठुआ रेप कांड का ज़िक्र मोदी के भाषण में हुआ हो, इसकी खबर नहीं आई. उधर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी यूपी के फतेहपुर सीकरी में अपनी 'न्याय' स्कीम को दोहराते रहे और फिर मोदी पर हमला बोलते हुए जनता को याद कराया कि सरकार 'अच्छे दिन' से 'चौकीदार चोर है' तक पहुंची.

READ:  'चारों तरफ PM मोदी की पब्लिसिटी हो रही, आखिर पैसा कहां से आ रहा?'

 

lok sabha elections 2019, narendra modi, rahul gandhi, bjp, congress, लोकसभा चुनाव 2019, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी, बीजेपी, कांग्रेस

वोटर यही सवाल पूछ रहे हैं कि पार्टियों की मीडिया सेल क्या एक ही स्पीच नेताओं को पकड़ाकर छुट्टी पर चली गई है? देश के किसी भी कोने में जाएं, नेता वही कह रहे हैं जो टीवी के ज़रिए देश हफ्तों से सुन रहा है. वैसे, राहुल गांधी के लिए सोमवार ज़रा भारी रहा क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने उनसे जवाब मांग लिया कि 'जनाब, हमने जो कहा, उस अर्थ का अनर्थ करते हुए क्यों जनता को बरगला रहे हैं?' राहुल दिल्ली में आम आदमी पार्टी के सामने भी बैकफुट पर दिखे, जब केजरीवाल के लिए हल्के से कहा कि 'ये बस कहते हैं कि सब मिले हैं, खुद क्यों नहीं मिलते'.



अब दो हादसों का ज़िक्र. शशि थरूर के लिए सोमवार को शायद शनि तुला राशि में खिन्न था इसलिए उनका सर फूट गया. उधर, कश्मीर में न जाने दरगाह में कौन सी मन्नत मांगकर लौट रही थीं कि महबूबा मुफ्ती के काफिले पर अनंतनाग में पथराव हो गया.

READ: कौन जीतेगा तिरुअनंतपुरम?

अब चुनाव की फिल्मी खबरों की बात. अब पूर्वांचल की जनता को सिनेमा हॉल के बजाय रैलियों के शो बुक करवाने होंगे क्योंकि आज़मगढ़ से निरहुआ के बाद बीजेपी ने 'भोजपुरी फिल्मों के शाहरुख खान' रवि किशन को गोरखपुर सीट से खड़ा कर दिया. उधर, मुंबई में कांग्रेस के टिकट पर चुनावी मैदान में उतरीं उर्मिला ने पहले क्रिकेट खेला और फिर बोलीं कि 'जान को खतरा है'. बीजेपी और कांग्रेसी कार्यकर्ता भिड़ गए थे तो फिल्मों में नकली फाइट सीन देख चुकीं उर्मिला को असली लड़ाई से शायद डर लग गया.

lok sabha elections 2019, narendra modi, rahul gandhi, bjp, congress, लोकसभा चुनाव 2019, नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी, बीजेपी, कांग्रेस

अंतत: कहानी उस खिचड़ी की, जो मध्य प्रदेश में पक रही है. भोपाल सीट से दिग्विजय के खिलाफ उमा भारती का नाम सामने आया तो वो बोलीं कि 'मैं कितनी बार दिग्गी राजा को मात दूं? अब कोई और लड़े'. उमा ने टरका दिया तो अब फिर भाजपा खाली हाथ खड़ी है. लोग तो ये भी कहने लगे हैं कि चुनाव से पहले ही बीजेपी प्रत्याशी तय कर ले तो अच्छा.

READ: उमा भारती के सुझाए इन सात नामों ने मचाई हलचल

इस बीच, दिग्गी ने भाजपा के मुद्दों पर डाका डाल दिया है. नियम से मंदिर जा रहे हैं, घाट घाट पर पूजा पाठ कर रहे हैं और रामनवमी पर राम मंदिर बनवाने का ऐलान कर चुके हैं. एक दर्जन मंदिरों के फेरों के साथ ही, दिग्गी एक दरगाह पर भी मत्था टेक आए हैं ताकि 'हिंदुत्व' के चक्कर में 'इस्लामत्व' न छूट जाए. यानी आज़म खान ने जहां 'अंडरवियर' से सुर्खियां बटोरीं, वहीं भाजपा और संघ के 'ओवरकोट' को छीनने की ये खबर अंडरप्ले हो गई.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

काम अभी पूरा नहीं हुआ इस साल योग्य उम्मीदवार के लिए वोट करें

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

Disclaimer:

Issued in public interest by HDFC Life. HDFC Life Insurance Company Limited (Formerly HDFC Standard Life Insurance Company Limited) (“HDFC Life”). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI Reg. No. 101 . The name/letters "HDFC" in the name/logo of the company belongs to Housing Development Finance Corporation Limited ("HDFC Limited") and is used by HDFC Life under an agreement entered into with HDFC Limited. ARN EU/04/19/13618
T&C Apply. ARN EU/04/19/13626