• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • बालुरघाट लोकसभा सीट: क्या TMC फिर से दिखा पाएगी 2014 वाला कमाल?

बालुरघाट लोकसभा सीट: क्या TMC फिर से दिखा पाएगी 2014 वाला कमाल?

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

इस सीट पर फिलहाल टीएमसी का कब्जा है. 2014 में टीएमसी की अर्पिता ने रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी के प्रशांत कुमार मजुमदार को हराया था

  • Share this:
    पश्चिम बंगाल की 42 लोकसभा सीटों में से एक बालुरघाट भी है. बालुरघाट लोकसभा सीट पहले एससी कैटगरी के लिए रिजर्व थी. लेकिन 2009 से ये सामान्य सीट है. बालुरघाट लोकसभा सीट के अंतर्गत सात विधानसभा (इटाहार, कुशमंडी, कुमारगंज, बालुरघाट, तापन (एसटी), गंगारामपुर, हरीरामपुर) आती हैं. इस सीट पर फिलहाल टीएमसी का कब्जा है. 2014 में टीएमसी की अर्पिता ने रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी के प्रशांत कुमार मजुमदार को हराया था.

    ऐसे में 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी ने एक बार फिर अर्पिता घोष पर ही भरोसा जताया है. दूसरी ओर बीजेपी और कांग्रेस भी टीएमसी को इस सीट पर कड़ी टक्कर दे सकती हैं. बीजेपी ने सुकान्त मजूमदार को टिकट दिया है. वहीं कांग्रेस ने अब्दुस सादिक सरकार को टिकट दिया है. जब कि सीपीआई (एमएल) की ओर से मानस चक्रबर्ती टक्कर दे रहे हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के बावजूद ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में शानदार प्रदर्शन किया था और 42 लोकसभा सीटों में से 34 पर जीत हासिल की थी. दो-दो सीटों पर सीपीएम और बीजेपी ने जीत दर्ज की थी, जब कि चार सीटें कांग्रेस के खाते में आईं थीं.

    बालुरघाट लोकसभा सीट पर पहली बार चुनाव 1952 में हुए और कांग्रेस के उम्मीदवार सुसील रंजन ने जीत हासिल की. इसके बाद 1952 से लेकर 1977 तक बालुरघाट लोकसभा सीट पर कांग्रेस का कब्जा रहा. हालांकि बीच में एक बार 1962 में सीपीआई के उम्मीदवार सरकार मुर्मू ने जीत जरूर दर्ज की थी. लेकिन 1967 में फिर से कांग्रेस ने वापसी कर ली थी.

    रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी का झंडा


    बालुरघाट सीट पर 1977 के बाद शुरूआत हुई एक बड़े बदलाव की. ये बदलाव लेकर आई रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी. आरएसपी के टिकट से पहली बार पलाश बर्मन ने 1977 में चुनाव लड़ा और जीत हासिल की. इसके बाद आरएसपी ने 2014 तक किसी और पार्टी की इस सीट पर वापसी नहीं होने दी.



    पलाश बर्मन 1977 से लेकर 1996 तक लगातार पांच बार चुनाव जीते. उनके बाद आरएसपी ने रोनेन बर्मन को बालुरघाट लोकसभा सीट से चुनाव लड़ाया. रोनेन बर्मन ने भी जीत का सिलसिला जारी रखा और वो 1996 से लेकर 2009 तक इस सीट से सांसद रहे. उन्होंने चार बार बालुरघाट से चुनाव जीता. रोनेन के बाद प्रशांत कुमार मजुमदार ने आरएसपी के टिकट से चुनाव लड़ जीत हासिल की. लेकिन 2014 में आखिरकार आरएसपी का विजय रथ ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस ने रोक दिया. 2014 के लोकसभा चुनाव में टीएमसी उम्मीदवार अर्पिता घोष ने प्रशांत कुमार मजुमदार को मात दी और पहली बार बालुरघाट पर टीएमसी का परचम लहरवाया.

    ये भी पढ़ें:

    मालदा उत्तर लोकसभा सीट: कांग्रेस पर है अपना दबदबा बनाए रखने का दबाव

    दमदम लोकसभा सीट: टीएमसी के दिग्गज सौगत रॉय के लिए मुकाबला आसान नहीं

    झाड़ग्राम लोकसभा सीट: TMC के सामने है सीट बचाने की चुनौती, मुकाबले में BJP

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज