होम /न्यूज /राष्ट्र /स्टालिन को भा रहा कांग्रेस का साथ, मुलाकात में नहीं बनी KCR की बात!

स्टालिन को भा रहा कांग्रेस का साथ, मुलाकात में नहीं बनी KCR की बात!

स्टालिन - केसीआर के मुलाकात की फाइल फोटो

स्टालिन - केसीआर के मुलाकात की फाइल फोटो

क्षेत्रीय पार्टियों को एकजुट करने की अपनी कवायद जारी रखते हुए केसीआर ने यहां स्टालिन के अलवरपेट स्थित आवास पर उनसे मुला ...अधिक पढ़ें

    तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) के अध्यक्ष और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने सोमवार को डीएमके चीफ एमके स्टालिन से मुलाकात की. दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात एक घंटे से ज्यादा चली, जिस दौरान उन्होंने लोकसभा चुनावों के बाद एक वैकल्पिक मोर्चा बनाने पर विचार-विमर्श किया.

    डीएमके सूत्रों ने बताया कि क्षेत्रीय पार्टियों को एकजुट करने की अपनी कवायद जारी रखते हुए केसीआर ने यहां स्टालिन के अलवरपेट स्थित आवास पर उनसे मुलाकात की और संघीय मोर्चा बनाने को लेकर चर्चा की.

    सूत्रों ने बताया कि दोनों नेताओं ने 23 मई को लोकसभा चुनावों के नतीजों के ऐलान के बाद राष्ट्रीय स्तर पर पैदा होने वाली राजनीतिक स्थिति को लेकर चर्चा की.

    वहीं इस बैठक के बाद  वैकल्पिक मोर्चे में DMK को शामिल करने की कोशिशों को सोमवार को उस वक्त करारा झटका लगा, जब DMK अध्यक्ष एमके स्टालिन ने केसीआर से अपील की कि वह अपनी पार्टी का समर्थन कांग्रेस को दें. DMK सूत्रों ने बताया कि क्षेत्रीय पार्टियों को एक साथ लाने की अपनी कवायद जारी रखते हुए केसीआर ने यहां स्टालिन के आवास पर उनसे मुलाकात की और एक संघीय मोर्चा बनाने के अपने प्रस्ताव पर उनसे चर्चा की.

    यह भी पढ़ें: सिद्धारमैया ने दिया जेडीएस नेता का दिया जवाब, कहा- इतिहास मुझे याद रखेगा

    एक घंटे से ज्यादा चली बैठक में स्टालिन ने केसीआर से कहा कि उनकी पार्टी ने कांग्रेस के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन किया है और उन्होंने प्रधानमंत्री पद के लिए राहुल गांधी के नाम की वकालत भी की है.

    समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार DMK सूत्रों ने बताया कि 'स्टालिन ने राव से अनुरोध किया कि वह केंद्र में कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार को TRS का समर्थन दें.' राव ने कुछ दिन पहले केरल के मुख्यमंत्री और माकपा नेता पी विजयन से मुलाकात की थी.

    स्टालिन से चर्चा के दौरान राव ने यकीन जाहिर किया कि लोकसभा चुनावों में क्षेत्रीय पार्टियां बड़ी संख्या में सीटों के साथ प्रभावशाली ताकत के तौर पर उभरेंगी और न ही कांग्रेस, न ही भाजपा को सरकार बनाने के लिए पर्याप्त सीटें मिलेंगी. राव ने DMK प्रमुख से कहा कि ऐसी स्थिति पैदा होने पर 'राष्ट्रीय पार्टियों' के समर्थन से क्षेत्रीय पार्टियों द्वारा संचालित सरकार बन सकती है.

    यह भी पढ़ेंबीजेपी नेता सुनील देवधर ने कहा - टीएमसी के दलाल बन चुके हैं जादवपुर के डीएम

    इस पर DMK पक्ष, जिसमें स्टालिन के अलावा वरिष्ठ नेता दुरईमुरुगन और टी आर बालू शामिल थे, ने कहा कि केंद्र में सिर्फ कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार के लिए अनुकूल माहौल है. DMK ने यह भी कहा कि केंद्र में क्षेत्रीय पार्टियों द्वारा संचालित सरकार बनाने का विचार सफल नहीं होने के आसार हैं, क्योंकि अलग-अलग राज्यों को लेकर कुछ पार्टियों के रुख अलग-अलग हैं.

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: BJP, DMK, K Chandrashekhar Rao, Lok Sabha Election 2019, Narendra modi, Rahul gandhi, TRS

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें