लाइव टीवी
LIVE NOW

संसद LIVE: नागरिकता संशोधन बिल अब कल राज्यसभा में होगा पेश, BJP ने जारी किया व्हिप

नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment) Bill 2019) के कानून बन जाने से अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के कारण भारत आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोग भारत में नागरिकता के लिए आवेदन करने के पात्र बन जाएंगे.

Hindi.news18.com | December 11, 2019, 10:43 AM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated December 11, 2019

हाइलाइट्स

8:56 pm (IST)
 राज्यसभा गुरुवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित

8:47 pm (IST)
 राज्यसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक बहुमत से पारित हो गया है. इस बिल के पक्ष में कुल 230 वोट पड़े, जिसमें पक्ष में 125 वोट और विपक्ष में 105 वोट पड़े.

8:10 pm (IST)
नागरिकता बिल को सेलेक्ट कमेटी में भेजने और अगले सेशन में लाने की मांग का विपक्ष का प्रस्ताव गिरा

8:06 pm (IST)
वोटिंग में हिस्सा नहीं ले रही शिवसेना

7:36 pm (IST)
 गृह मंत्री अमित शाह ने कहा मैं जो बिल लेकर आया हूं वह किसी की भावनाएं आहत करने के लिए नहीं है, न ही देश के किसी समुदाय को परेशान किया जाएगा.

7:35 pm (IST)
7:33 pm (IST)
 गृह मंत्री अमित शाह ने कहा पाकिस्तान में ईसाइयों के साथ बहुत बुरा सलूक हो रहा है वहां उनको अछूत समुदाय माना जाता है 

7:30 pm (IST)
 गृह मंत्री अमित शाह ने कहा पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के अल्पसंख्यकों में सिख और हिंदू लड़कियों का अपहरण कर जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया. यहां 428 हिंदू पूजास्थलों में से सिर्फ 20 बचे

7:28 pm (IST)

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा लाखों-करोड़ों लोग नर्क की यातना में जी रहे थे. क्योंकि वोट बैंक के लालच के अंदर आंखे अंधी हुई थी, कान बहरे हुए थे, उनकी चीखें नहीं सुनाई पड़ती थी. नरेन्द्र मोदी जी ने केवल और केवल पीड़ितों को न्याय करने के लिए ये बिल लेकर आए हैं

7:27 pm (IST)
 गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कांग्रेस और पाकिस्तान के नेताओं के बयान एक समान हैं. सर्जिकल स्ट्राइक, 370 और नागरिकता बिल  पर पाकिस्तान और कांग्रेस के नेताओं के बयान एक जैसे

LOAD MORE
नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill 2019) सोमवार को लोकसभा से पास हो गया. देर तक चली बहस के बाद रात करीब पौने 12 बजे वोटिंग की प्रक्रिया पूरी हुई. इस दौरान नागरिकता संशोधन बिल के पक्ष में कुल 311 वोट पड़े, जबकि विपक्ष में सिर्फ 80 वोट आए. लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक को मंजूरी मिलने के बाद अब केंद्र सरकार इसे बुधवार को राज्यसभा में पेश कराएगी. इस बिल का असम, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल में जोरदार विरोध हो रहा है.

दोनों सदनों से पास होने के बाद इस बिल को राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा. राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद ये बिल कानून बन जाएगा. इस बिल के कानून बन जाने से अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के कारण भारत आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोग भारत में नागरिकता के लिए आवेदन करने के पात्र बन जाएंगे.

संसद से जुड़ी खबरों और ताजा अपडेट्स के लिए जुड़े रहे News18 के साथ...