अमित शाह के डिनर में गूंजा 'मोदी-मोदी', पढ़िए NDA मीटिंग की 10 बड़ी बातें

अमित शाह के डिनर में NDA नेता गठबंधन की जीत के प्रति काफी आश्वस्त नज़र आए. इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सम्मानित भी किया गया.

News18Hindi
Updated: May 22, 2019, 4:44 PM IST
News18Hindi
Updated: May 22, 2019, 4:44 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों में बस अब एक दिन रह गया है. हालांकि, ज़्यादातर एग्जिट पोल में NDA (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) को भारी बहुमत मिलने का दावा किया गया है. मंगलवार देर शाम बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने दिल्ली के अशोका होटल में NDA के नेताओं को डिनर पर बुलाया था. इस डिनर में NDA नेता गठबंधन की जीत के प्रति काफी आश्वस्त नज़र आए. इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सम्मानित भी किया गया.

इस मीटिंग में शिवसेना, जदयू, एआईएडीएमके, अकाली दल, लोजपा, पीएमके, डीएमडीके, अपना दल, असम गण परिषद, आरपीआई, नेशनल पीपल्स पार्टी, गोवा फ़ॉरवर्ड पार्टी, इंडीजीनियस पीपल्स फ्रन्ट ऑफ़ त्रिपुरा, आरएलपी, तमिल मनीला कांग्रेस, निषाद पार्टी सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट समेत कई और छोटी पार्टियां भी शामिल हुईं. पढ़िए इस मीटिंग की 10 ख़ास बातें..



1. मोदी के सम्मान में प्रस्ताव पारित
NDA की बैठक में सभी पार्टियों के नेताओं ने मोदी के सम्मान में सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव भी पारित किया. इस प्रस्ताव में कहा गया है कि NDA सच्चे अर्थों में भारत की विविधता और गतिशीलता का प्रतिनिधित्व करता है. प्रस्ताव में NDA को भारत के 130 करोड़ लोगों के सपनों और आकांक्षाओं का गठबंधन बताया गया है. इसमें कहा गया है कि पीएम मोदी के नेतृत्व में इस गठबंधन ने ये साबित कर दिया है कि ये भारत के आम लोगों की आवाज़ बना है. प्रस्ताव में कहा गया कि NDA भारतीय राजनीति का प्रमुख स्तंम्भ बन चुका है.

2. योजनाओं की तारीफ
NDA में शामिल अन्य पार्टियों में प्रस्ताव में उज्ज्वला योजना, जनधन योजना, आयुष्मान योजना, 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने समेत अन्य कल्याणकारी योजनाओं की जमकर तारीफ की है. इसमें कहा गया है कि इन योजनाओं में पिछले पांच साल में लोगों को सशक्त बनाया है.


Loading...

3. वोट बैंक की राजनीति नहीं चलेगी
पेश किए गए प्रस्ताव में वोट बैंक की राजनीति के खिलाफ संकल्प लिया गया है. वोट बैंक की राजनीति की जगह 'राष्ट्र निर्माण' की राजनीति को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया गया है.

4. पश्चिम बंगाल हिंसा की निंदा
NDA की बैठक में पारित हुए प्रस्ताव में चुनावों के दौरान पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा की भी आलोचना की गई. इसके अलावा इस बात की भी निंदा की गई कि विपक्ष ने बीते पांच सालों में लगातार संवैधानिक संस्थाओं को निशाना बनाया है जिससे उनकी छवि को नुकसान पहुंचा है.

5. मोदी ने क्या कहा?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान की तुलना 'तीर्थयात्रा' से की. पीएम ने कहा कि उन्हें ऐसा महसूस हुआ जैसे जनता देश के पुनर्जागरण और राष्ट्रीय उत्थान के अभियान में योगदान देने के लिए कृत संकल्पित थी. यह चुनाव केवल पार्टी ने नहीं, बल्कि जनता ने भी लड़ा है. उन्होंने आगे कहा- 'मैंने कई चुनाव देखे हैं लेकिन यह चुनाव राजनीति से परे है. इस चुनाव को जनता तमाम तरह की दीवारों को लांघ कर लड़ रही थी. मैंने कई विधानसभा चुनाव और पिछले लोकसभा चुनाव में प्रचार अभियान में हिस्सा लिया था. इस दौरान देशभर का दौरा भी किया पर इस बार का चुनाव प्रचार ऐसा लगा कि जैसे तीर्थयात्रा हो.'

6. अमित शाह क्या बोले?
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट में कहा, 'मैंने टीम मोदी सरकार को पिछले पांच वर्षो के दौरान उनके कठिन परिश्रम और उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए बधाई दी. हम नए भारत के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में इस गति को बनाए रखें.'

7. कौन-कौन शामिल हुआ?
NDA की बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह और कई केंद्रीय मंत्रियों के अलावा बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीसामी, लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान और शिवसेना के उद्धव ठाकरे शामिल हुए. बैठक में शिरोमणि अकाली दल का प्रतिनिधित्व पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और पार्टी नेता सुखबीर सिंह बादल ने किया.

8. नीतीश और उद्धव भी आए
बता दें कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार और शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे के इस मीटिंग में शामिल होने पर संशय बना हुआ था. नीतीश पहले भी NDA की ऐसी बैठकों से दूरी बनाते रहे हैं. हालांकि, आखिरी वक़्त पर दोनों ने ही बैठक में शामिल होने की मंजूरी दी और देर शाम अशिका होटल में मोदी और शाह के साथ मौजूद भी रहे.



9. कैबिनेट बैठक भी हुई
NDA की इस बैठक से पहले पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट की भी बैठक हुई. मोदी ने इस मीटिंग में सभी मंत्रियों को उनके अभियान को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाने के लिए शुक्रिया कहा. इस बैठक में बीजेपी के अलावा NDA के अन्य दलों के मंत्री भी शामिल हुए. इस मीटिंग में केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, रामविलास पासवान, स्मृति ईरानी, पीयूष गोयल, मुख्तार अब्बास नकवी, रविशंकर प्रसाद, राधामोहन सिंह, हरसिमरत कौर बादल और अनुप्रिया पटेल भी शामिल रहे. बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मीडिया को बताया कि पीएम ने मंत्रियों को पिछले पांच वर्षों में उनके कामकाज और सरकार की कल्याण योजनाओं को जमीन पर उतारने के लिये एक टीम की तरह से काम करने के लिए आभार प्रकट किया.

10. EVM मुद्दा नहीं
डिनर मीटिंग में NDA नेताओं ने एग्जिट पोल के नतीजों पर भरोसा दिखाया और 23 मई को आने वाले रिज़ल्ट में पूर्ण बहुमत के प्रति आश्वस्त नज़र आए. बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा अमित शाह, नीतीश कुमार, उद्धव ठाकरे आदि ने भी उपस्थित लोगों को संबोधित किया. बैठक में इस बात पर चिंता व्यक्त की गई कि ईवीएम को लेकर अनावश्यक मुद्दा उठाया जा रहा है. मोदी ने इस बैठक में कई विमर्श (नैरेटिव) बदलने की बात कही. उन्होंने कहा कि गरीबी ही सबसे बड़ी समस्या है. बैठक में तीन दल के नेताओं ने पत्र लिखकर मोदी सरकार के प्रति अपना समर्थन भी जाहिर किया.

ये भी पढ़ें: 

NDA की बैठक खत्म, राजनाथ बोले डिनर में शामिल हुए थे 36 दलों के नेता

पंजाब: सिद्धू पर कांग्रेस में घमासान, CM अमरिंदर के बाद एक और मंत्री ने खोला मोर्चा

चुनाव मैदान में है पति-पत्नी का यह जोड़ा, क्या संसद में मिलेगी एक साथ एंट्री?

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...