लद्दाख सीमा विवाद: देश की सीमा को लेकर कोई समझौता नहीं, चीन के पीछे हटने तक हम डटे रहेंगे: लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी

लद्दाख सीमा विवाद: देश की सीमा को लेकर कोई समझौता नहीं, चीन के पीछे हटने तक हम डटे रहेंगे: लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी
सांकेतिक तस्वीर

India-China Standoff: न्यूज़ 18 से एक्सक्लुसिव बातचीत में लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने कहा कि जब तक चीन की सेना पीछे नहीं हटती हमलोग मोर्चे पर डटे रहेंगे. वो अप्रैल में जिस जगह थे उन्हें वहां जाना होगा.

  • Share this:
(श्रेया ढौंडियाल)

नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तनाव लगातार बरकरार है. चीन की सेना यहां से पीछे हटने को फिलहाल तैयार नहीं दिखती. लिहाजा भारतीय सेना (Indian Army) ने करारा जवाब देने के लिए कमर कस ली है. हर रोज़ ट्रकों के जरिए राशन, गर्म कपड़े, केरोसिन, दवाइयां और हर वो सामना भेजा जा रहा है जिसकी सेना को सीमा पर डेरा डालने के लिए जरूरत पड़ेगी. लद्दाख में भीषण ठंड पड़ती है. यहां तापमान शून्य से 20 डिग्री सेल्सियस नीचे चला जाता है. ऐसे में यहां के मौसम को देखते हुए भारतीय सेना ने सारी तैयारियां पूरी कर ली है.

LAC पर तनाव बरकरार
पिछले 12 हफ्तों से LAC पर तनाव बरकरार है. चीन भारतीय इलाक़ों में अब भी अपनी सेना के साथ डटा हुआ है और वहां से वापस जाने का नाम नहीं ले रहा है. मेजर जनरल स्तर की दर्जनों बैठकें हो चुकी हैं, कोर कमांडर स्तर की भी चार बैठकें हो चुकी हैं. इसके अलावा अजित डोभाल भी बातचीत कर चुके हैं. लेकिन जमीनी स्तर पर अब भी ठोस बदलाव नहीं आया है. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर कब तक भारतीय सेना मोर्चे पर डटी रहेगी?
कब तक LAC पर रहेगी सेना?


न्यूज़ 18 से एक्सक्लुसिव बातचीत करते हुए लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने कहा कि जब तक चीन की सेना पीछे नहीं हटती हमलोग मोर्चे पर डटे रहेंगे. वो अप्रैल में जिस जगह थे उन्हें वहां जाना होगा. उन्होंने कहा, ' मैं आपको सरल शब्दों में बता सकता हूं कि हम एलएसी के साथ यथास्थिति बहाल करने के सभी प्रयास जारी रखेंगे.'

तैयार है सेना
भारत की उत्तरी सीमाओं के प्रभारी लेफ्टिनेंट जनरल जोशी ने कहा, 'हर प्रक्रिया का एक तरीका है. चीन से हमारी बातचीत चल रही है. देश की क्षेत्रीय अखंडता से कोई समझौता नहीं किया जाता है. हम सीमा पर शांति लाने के लिए चल रहे इस प्रयास में ईमानदारी से लगे हैं. हम किसी भी स्थिति के लिए हर समय तैयार रहते हैं.'

मोर्चे पर डटी है सेना
ये पूछे जाने पर कि अगले छह महीने को वो किस तरह देखते हैं. इस सवाल के जवाब में लेफ्टिनेंट जनरल जोशी ने कहा, 'हम चुनौतीपूर्ण समय में जी रहे हैं और हालात ऐसे ही बने रहेंगे. राष्ट्र की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता को बनाए रखने के लिए हम मोर्चे पर डटे रहेंगे.'

करगिल से अलग है LAC की चुनौती
लेफ्टिनेंट जनरल जोशी ने अपना आधा करियर लद्दाख के ठंडे रेगिस्तान में बिताया है. वो उत्तरी कमान के प्रमुख के रूप में कार्यभार संभालने से पहले लेह-स्थित 14 कोर के कमांडर थे. लेफ्टिनेंट जनरल जोशी चीनी भाषा भी बोलते हैं. कारगिल युद्ध के नायक लेफ्टिनेंट जनरल जोशी ने 21 वें कारगिल विजय दिवस से पहले CNN-NEW18 से बात की. ये पूछे जाने पर कि क्या एलएसी में मौजूदा गतिरोध करगिल से बड़ी चुनौती है. इसके जवाब में उन्होंने कहा, 'ये संतरे के साथ सेब की तुलना जैसी बात है. कारगिल की चुनौती और वर्तमान स्थिति पूरी तरह से अलग है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading