मद्रास हाईकोर्ट का फैसला, तिरंगे और अशोक चक्र वाला केक काटना अपमान नहीं

तिरंगा वाले केक को लेकर मद्रास हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है.

तिरंगा वाले केक को लेकर मद्रास हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है.

मद्रास हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, 'अशोक चक्र के साथ तिरंगे की डिजाइन वाले केट को काटना न तो अपमान है और न ही यह देशभक्ति के खिलाफ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2021, 6:56 PM IST
  • Share this:
चेन्नई: तिरंगा को लेकर मद्रास हाईकोर्ट ने एक फैसला सुनाया है. इसमें हाईकोर्ट ने साफ तौर पर कहा कि अशोक चक्र के साथ तिरंगे की डिजाइन वाले केक को काटना तिरंगे का अपमान नहीं है. ना ही यह देशभक्ति के खिलाफ है. तमिलनाडु के कोंयबटूर के एक मामले में संदर्भ में हाईकोर्ट ने यह फैसला सुनाया है, जिसमें जिला कलेक्‍टर समेत कई अधिकारी और नेता का नाम है.

इस फैसले के साथ ही कोर्ट ने इस केस को राष्ट्रीय सम्मान अधिनियम 1971 का उल्लंघन मानने से भी इनकार कर दिया. कोर्ट के इस आदेश के बाद कोंयबटूर जिले के कई अधिकारियों को बड़ी राहत मिली है.

DM, पुलिस कमिश्‍नर समेत 2000 से ज्‍यादा लोग हुए थे शामिल

दरअसल, यह मामला लगभग सात साल पुराना है. वर्ष 2013 की 25 दिसंबर (क्रिसमस डे) के दिन तमिलनाडु के कोंयबटूर में अशोक चक्र के साथ तिरंग की डिजाइन वाले लगभग 6*5 फीट का केक काटा गया था. इस आयोजन में यहां के जिला कलेक्‍टर, डिप्‍टी पुलिस कमिश्‍नर समेत कई धार्मिक नेता औ सामाजिक कार्यकर्ता मौजूद थे.
इस आयोजन की फोटो वायरल होने के बाद यह मामला काफी चर्चा में आया था. इस मामले को लेकर डी सेंथीकुमार नाम के शख्‍स ने मद्रास हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी. इसे राष्ट्रीय सम्मान अधिनियम 1971 कानून का उल्‍लंघन बताया था. बता दें कि इस कार्यक्रम में 2000 से ज्‍यादा लोग शामिल हुए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज