Home /News /nation /

चेन्नई: हाई कोर्ट ने बच्ची से रेप के बाद हत्या करने वाले इंजीनियर की मौत की सजा बरकरार रखी

चेन्नई: हाई कोर्ट ने बच्ची से रेप के बाद हत्या करने वाले इंजीनियर की मौत की सजा बरकरार रखी

Image for representation.

Image for representation.

न्यायमूर्ति एस विमला और न्यायमूर्ति रामतीलगम की खंडपीठ ने चेंगलपट्टू की महिला अदालत के 19 फरवरी के आदेश को बरकरार रखा.

    मद्रास हाई कोर्ट ने एक इंजीनियर की मौत की सजा को बरकरार रखा है जिसने पिछले साल सात साल की बच्ची की बलात्कार के बाद हत्या कर दी थी. इंजीनियर को मौत की सजा एक निचली अदालत ने सुनाई थी.

    न्यायमूर्ति एस विमला और न्यायमूर्ति रामतीलगम की खंडपीठ ने चेंगलपट्टू की महिला अदालत के 19 फरवरी के आदेश को बरकरार रखा. निचली अदालत ने इस मामले में इंजीनियरिंग के स्नातक 23 वर्षीय एस धसवंत को मौत की सजा सुनाई थी.

    पीठ ने धसवंत की अपील को खारिज कर दिया. सात साल की बच्ची की बलात्कार के बाद हत्या के मामले में निचली अदालत द्वारा दोषी करार दिए जाने के फैसले को उसने चुनौती दी थी. मृतका उसकी पड़ोसन थी. यह घटना पिछले साल फरवरी की है.

    अपराध के बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा था. धसवंत के निचली अदालत में पेश होने के दौरान महिलाओं के एक समूह ने उस पर हमला कर दिया था. अभियोजन पक्ष के मुताबिक , दोषी बच्ची को मुगालिवक्कम के एक फ्लैट में कुछ लालच देकर ले गया था, जहां उसने बच्ची की बलात्कार के बाद गला घोंट कर हत्या कर दी.

    इसके बाद उसने शव को एक बैग में डालकर उसे एक राजमार्ग पर जला दिया.

    उसे भारतीय दंड संहिता और यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम (पोक्सो) के तहत दोषी ठहराया गया था.

    महिला अदालत की न्यायाधीश पी वेलमुरूगन ने धसवंत को दोषी करार देते हुए दिल्ली के सनसनीखेज निर्भया मामले का हवाला दिया था.

    गौरतलब है कि हाई कोर्ट का फैसला तब आया है जब एक दिन पहले, सुप्रीम कोर्ट निर्भया मामले में चार में से तीन दोषियों की पुनर्विचार याचिका को खारिज कर चुका था.

     

    Tags: Minor girl rape

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर