लाइव टीवी

शी-मोदी वार्ता से पहले मद्रास हाईकोर्ट का बयान: नेताओं को दौरे करते रहने चाहिए, ताकि राज्य स्वच्छ रहे

भाषा
Updated: October 11, 2019, 6:44 AM IST
शी-मोदी वार्ता से पहले मद्रास हाईकोर्ट का बयान: नेताओं को दौरे करते रहने चाहिए, ताकि राज्य स्वच्छ रहे
मद्रास हाईकोर्ट.

पीएम मोदी (PM Modi) और शी जिनपिंग (Xi Jinping) की शुक्रवार को यहां से करीब 50 किलोमीटर दूर मामल्लापुरम में बैठक होनी है. इसके मद्देनजर चेन्नई और मामल्लापुरम में युद्ध स्तर पर सफाई और सौंदर्यीकरण का काम चल रहा है.

  • Share this:
चेन्नई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और चीन (China) के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) के बीच शिखर वार्ता से पहले यहां और निकटवर्ती मामल्लापुरम में जोर शोर से चल रहे सफाई अभियान का जिक्र करते हुए मद्रास उच्च न्यायालय (Madras High Court) ने बृहस्पतिवार को अपनी मौखिक टिप्पणी में कहा कि नेताओं को तमिलनाडु का दौरा अक्सर करना चाहिए, ताकि राज्य साफ-सुथरा बना रहे.

न्यायमूर्ति एस वैद्यनाथन और न्यायमूर्ति सी सरवनन की अवकाश पीठ ने अवैध बैनर लगाने वालों को अधिकतम सजा देने के लिए विशेष कानून बनाए जाने मांग करने वाली याचिका की सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की. अवैध बैनर गिरने से एक महिला आर सुबाश्री की मौत हो गई थी. महिला के पिता ने यह याचिका दायर की है. पीठ ने कहा कि अब मामल्लापुरम बहुत साफ हो गया है. जब बड़े नेता आते हैं, सरकार तभी ऐसे कदम उठाती है. यदि तमिलनाडु को साफ-सुथरा बनाना है तो ऐसे नेताओं को अक्सर दौरे करते रहने होंगे.

पीएम मोदी और शी जिनपिंग की शुक्रवार को यहां से करीब 50 किलोमीटर दूर मामल्लापुरम में बैठक होनी है. इसके मद्देनजर चेन्नई और मामल्लापुरम में युद्ध स्तर पर सफाई और सौंदर्यीकरण का काम चल रहा है. इसी का जिक्र करते हुए न्यायाधीशों ने यह टिप्पणी की. मामले में आगे की सुनवाई के लिए 15 अक्टूबर की तिथि तय की गई है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 6:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...