मद्रास हाई कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार के फैसले पर लगाई मुहर, कहा- घर पर मनाएं गणेश चतुर्थी

मद्रास हाई कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार के फैसले पर लगाई मुहर, कहा- घर पर मनाएं गणेश चतुर्थी
तमिलनाडु सरकार ने गणेश चतुर्थी के जुलूस पर रोक लगाई है.

TN government banning Ganesh Chaturthi: तमिलनाडु सरकार द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा गया है कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर गणेश प्रतिमाओं की स्थापना करने और उन्हें जुलूस में ले जाने पर प्रतिबंध लगाने के आदेश दिए गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2020, 10:07 PM IST
  • Share this:
चेन्नई. मद्रास हाई कोर्ट (Madras High Court) ने तमिलनाडु सरकार (Tamil Nadu government) के उस आदेश को बरकरार रखा है, जिसमें राज्य में विनायक चतुर्थी (गणेश चतुर्थी) के जुलूस पर प्रतिबंध लगा दिया गया था. शुक्रवार को मद्रास हाई कोर्ट में हुई सुनवाई को दौरान एक बेंच ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के कारण इस साल गणेश चतुर्थी के पंडालों को लगाने की इजाजत नहीं दी जा सकती है. क्योंकि जब पंडाल सजाए जाएंगे और जुलूस निकाले जाएंगे तो इसमें हजारों की संख्या में लोग शामिल होंगे, लेकिन वर्तमान में जो देश के हालात हैं उसमें यह संभव नहीं है. इसके साथ ही कोर्ट ने केंद्र सरकार द्वारा धार्मिक मंडलों पर प्रतिबंध लगाने का हवाला दिया.

जानकारी के लिए बता दें कि तमिलनाडु सरकार द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा गया है कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर गणेश प्रतिमाओं की स्थापना करने और उन्हें जुलूस में ले जाने पर प्रतिबंध लगाने के आदेश दिए गए हैं.



बीजेपी ने साधा राज्य सरकार पर निशाना


भाजपा ने सार्वजनिक स्थानों पर गणेश चतुर्थी मनाने की अनुमति नहीं देने के लिए बृहस्पतिवार को राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए पूछा कि जब शराब की दुकानें खुल सकती हैं तो गणेश की मूर्ति क्यों नहीं स्थापित की जा सकती. तमिलनाडु भाजपा के अध्यक्ष एल मुरुगन ने पूछा, 'तमिलनाडु सरकार ने शराब की दुकानें खोलने की तो अनुमति दे दी, लेकिन विनायक की मूर्ति स्थापित करने की इजाजत नहीं दे रही. ऐसा क्यों?' राज्य में 22 अगस्त को गणेश चतुर्थी मनायी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज