दिल्ली में शुरू होगा फूलों का महाकुंभ! 20 एकड़ में नजर आएंगे फूल, जानेंं कैसे मि‍लेगी Entry?

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया कल पर्यटन उद्यान उत्सव का उद्घाटन करेंगे.

Garden of Five senses: कोविड-19 की वजह से इस बार यह तीन दिवसीय उत्सव की बजाय 3 सप्ताह तक चलेगा. दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया कल इस पर्यटन उद्यान उत्सव का उद्घाटन करेंगे. दिल्ली पर्यटन विभाग की ओर से यह 34वां पर्यटन उद्यान उत्सव होगा. यह करीब 20 एकड़ क्षेत्रफल मे फैले पंचेन्द्रिय उद्यान में हर साल आयोजित किया जाता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. आप अगर गार्डन प्रेमी हैं तो आइए अब दिल्ली में आयोजित होने वाले "फूलों के महाकुंभ" में  लुत्फ उठाएं. राष्ट्रपति भवन (Rashtrapati Bhavan) के मुगल गार्डन (Mughal Garden)  के खुलने के बाद अब बसंत ऋतु आगमन होने पर दिल्ली सरकार (Delhi Government) भी गार्डन आफ फाइव सेंसेज (पंचेेंद्रीय उद्यान), सैयद-उल-अजैब, महरौली-बदरपुर रोड़, साकेत में कल 19 फरवरी से फूलों का उत्सव शुरू करने जा रही है. यह उत्सव आगामी 13 मार्च तक चलेगा.


    कोविड-19 की वजह से इस बार यह तीन दिवसीय उत्सव की बजाय 3 सप्ताह तक चलेगा. दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया कल इस पर्यटन उद्यान उत्सव का उद्घाटन करेंगे. दिल्ली पर्यटन विभाग की ओर से यह 34वां पर्यटन उद्यान उत्सव होगा. यह करीब 20 एकड़ क्षेत्रफल मे फैले पंचेन्द्रिय उद्यान में हर साल आयोजित किया जाता है.


    बताते चलें कि पिछले 18 वर्षों से उत्सव गार्डन ऑफ़ फाइव सेंसेंज में ही आयोजित किया जा रहा है. पहला उत्सव 1988 में ग्रेटर कैलाश के डी.डी.ए. पार्क में आयोजित किया गया था, इसके उपरान्त इण्डिया गेट तथा तालकटोरा गार्डन में भी क्रमशः आयोजित किए गए.


    उत्सव के मुख्य आकर्षण रहेंगे यह

    उद्यान पर्यटन उत्सव में कैक्टस से लेकर डहलिया, लिली, गुलाब, बोगनवेलिया, बेल-बूटे, और औषधि वाले पौधे, टोकरियों से लटकने वाले पौधे, गमले में सब्जियों, बोनसाई, पौधे से अलग किए गए फूल है। उत्सव मे फूलों से सुसज्जित पशु-पक्षियों की आकृतियां, ट्रे गार्डन, पौधों से अलग किए गए फूलों को सजाएं थीम (विषय) पर आधारित छोटे गार्डन आदि इस उत्सव के अन्य आकर्षण है.


    इस बार पर्यटन उत्सव की थीम होगी ‘प्रकृति के रंग’ 
    इस वर्ष उद्यान पर्यटन उत्सव का थीम -‘प्रकृति के रंग’ है. ईश्वर ने इस सृष्टि को विभिन्न रंगों से रंगा है. धरा पर चारों ओर फैली हरियाली विभिन्न रंगों से सुसज्जित, विभिन्न किस्मों की सुगंध, मनमोहक फूल सभी मानव जाति को अपनी ओर आकर्षित करते हैं. आज के समय में पर्यावरण हितैषी और प्रेमी अपने घरों में भी विभिन्न प्रकार के पौधों को अपने घरों मे, बालकनी, टेरेस और अन्य ज‍‌गहों  पर लगाते हैं.


    सरकारी व गैर सरकारी संस्थाएं भी उत्सव में लेती हैंं हिस्सा



    सरकारी और गैर सरकारी संस्थाएं-डीडीए, एनड़ीएमसी, एमसीड़ी (साउथ), एमसीडी (नार्थ), एमसीडी (ईस्ट), नार्दन रेलवे, सीपीडब्ल्यूडी, आईएआरआई, डीएलएफ मॉल ऑफ़ इंडिया, कोटा हाउस, कुमार मंगलम, दिल्ली जल बोर्ड, आदि भी उत्सव में भाग ले रही हैं.

    उद्यान उत्सव की खास बातों का रखें ध्यान


    -गार्डन बाजार में हर्बल और मेडिसन वाले पौधे, ताजे फूल, फूलों वाले पौधे, गमलों और जैविक उत्पादन, आधुनिक किस्म के उद्यान में इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरण और उर्वरकों की खरीदारी भी की जा सकेगी.

    -पर्यावरण और स्वास्थ्य हेतू उद्यान पर जागरूकता के लिए कार्यशाला/व्याख्यान का आयोजन.



    -खान-पान के स्टॉल पर भी विभिन्न प्रकार के जायकों का आनन्द लिया जा सकेगा.-प्रत्येक साप्ताहंत सायंकालीन रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया ‌जाएगा.


    -प्रातः 11 बजे से सायं 6 बजे तक और सप्ताहंत प्रातः 11 बजे से 7:30 बजे तक खुला रहेगा.


    -उत्सव के लिए प्रवेश शुल्क सोमवार से शुक्रवार तक  40 रुपये और शनिवार और रविवार (सप्ताहंत) को  50 रुपये है.


    -सीनियर सिटीजन का प्रवेश शुल्क 40 रुपये मान्य है. 12 वर्ष तक के बच्चों का प्रवेश नि:शुल्क है.


    -कैशलेस लेनदेन को सक्षम करने वाले टिकट काउंटरों पर डिजिटल भुगतान की सुविधा भी उपलब्ध होगी.

    -उत्सव के दौरान मेट्रो स्टेशन साकेत के समीप (टी-प्वाइट, एम.बी. रोड़) से इस उत्सव में आने व जाने के लिए नि:शुल्क शटल सर्विस की भी व्यवस्था की जा रही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.