अपना शहर चुनें

States

किसान आंदोलन के समर्थन में महाराष्ट्र के अन्नदाताओं की रैली आज, शरद पवार भी होंगे शामिल

शरद पवार मुंबई के आजाद मैदान में किसान रैली को संबोधित करेंगे(फाइल फोटो)
शरद पवार मुंबई के आजाद मैदान में किसान रैली को संबोधित करेंगे(फाइल फोटो)

Mumbai Azad Maidan Rally: दिल्ली में कृषि कानूनों के विरोध में पिछले करीब दो महीने से जारी किसानों के प्रदर्शन के समर्थन में महाराष्ट्र के अन्नदाता भी आगे आए हैं. मुंबई के आजाद मैदान में 25 जनवरी को विशेष रैली का आयोजन किया गया है जिसमें राज्य के विभिन्न क्षेत्रों से किसान पैदल मार्च कर पहुंचे हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2021, 10:55 PM IST
  • Share this:
महाराष्ट्र. केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ आज मुंबई के आजाद मैदान में रैली (Mumbai Azad Maidan Rally) होने जा रही है. इस रैली में शामिल होने के लिए रविवार शाम तक महाराष्ट्र के विभिन्न इलाकों से हजारों की संख्या में किसान मुंबई पहुंचे. पुलिस अधिकारी ने बताया कि किसान रैली के मद्देनजर पुलिस ने दक्षिण मुंबई स्थित आजाद मैदान और उसके आसपास के इलाकों की सुरक्षा की विशेष तैयारी की है और राज्य रिजर्व पुलिस बल (एसआरपीएफ) के जवानों की तैनाती की गई है, इसके साथ ही ड्रोन का इस्तेमाल किया जाएगा.

ऑल इंडिया किसान सभा (एआईकेएस) की महाराष्ट्र शाखा ने एक बयान जारी कर दावा किया कि नासिक से करीब 15 हजार किसान शनिवार को टैम्पो और अन्य वाहनों से मुंबई के लिए रवाना हुए हैं. बयान के मुताबिक इस रैली को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) अध्यक्ष शरद पवार और महा विकास अघाडी (एमवीए) के कुछ प्रमुख नेता संबोधित करेंगे. राज्य सरकार में सहयोगी कांग्रेस की राज्य इकाई पहले ही इस रैली का समर्थन कर चुकी है.





एआईकेएस ने कहा कि विभिन्न इलाकों से किसान नासिक में जमा हुए और शनिवार को मुंबई के लिए रवाना हुए, यात्रा के दौरान रास्ते में और किसान जुड़े. बयान के मुताबिक मुंबई के लिए कूच करने वाले किसानों ने रात्रि विश्राम के लिए इगतपुरी के पास घाटनदेवी में पड़ाव डाला था.
ये भी पढ़ें- किसान ट्रैक्‍टर रैली को डिस्‍टर्ब करने के लिए पाकिस्तान से बनाए गए 308 ट्विटर हैंडल, दिल्‍ली पुलिस का दावा

सात किमी लंबे मार्च में कई महिला किसान भी शामिल
बयान के मुताबिक रविवार सुबह किसान कसारा घाट के रास्ते मुंबई के लिए रवाना हुए. कसारा घट तक निकाले गए सात किलोमीटर लंबे मार्च में कई महिला किसान भी शामिल हुईं. यह मार्च सुबह नौ बजे शुरू हुआ और समापन पूर्वाह्न 11:30 बजे हुआ, बाद में किसान वाहनों के जरिये आगे की यात्रा पर निकल गए.

कसारा घाट मार्च का नेतृत्व एआईकेएस के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक धावले और राज्य इकाई के प्रमुख किसन गुज्जर एवं महासचिव अजित नवाले ने किया.

भारतीय ट्रेड यूनियन केंद्र (सीटू) से जुड़े इगतपुरी और शाहपुर तहसील के फैक्टरी कामगारों ने इन किसानों पर पुष्प वर्षा कर उनका स्वागत किया. कल्याण-भिवंडी क्रासिंग पर भी किसानों का स्वागत किया गया और खाने के पैकेट वितरित किए गए.

दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में रैली
किसान मुलुंद जांच चौकी के रास्ते मुंबई में दाखिल हुए. यह ठाणे की ओर से मुंबई में प्रवेश करने का रास्ता है. विक्रोली के कन्नमवार नगर में वाम दलों से जुड़े सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया. इसके बाद किसान आजाद मैदान की ओर बढ़ गए जहां पर वे संयुक्त शेतकार कामगार मोर्चा (एसएसकेएम) के बैनर तले आयोजित धरना प्रदर्शन में शामिल होंगे जो गणतंत्र दिवस तक जारी रहेगा.

ये भी पढ़ें- कई देशों ने तेजस विमान में दिलचस्‍पी दिखाई, चीन के JF-17 की तुलना में है बेहतर

बयान में कहा गया, ‘‘यह रैली दिल्ली में कृषि कानूनों को वापस लेने,न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी और पूरे देश में फसलों की खरीद की मांग को लेकर दो महीने से प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में की जा रही है.

उल्लेखनीय है कि किसान समर्थक संगठन संयुक्त किसान मोर्चा ने 23 जनवरी से 26 जनवरी तक राज्यों में राजभवन के समक्ष सहित पूरे देश में विरोध प्रदर्शन करने का आह्वान किया है.

इसी के तहत महाराष्ट्र के करीब 100 संगठनों ने 12 जनवरी को मुंबई में हुई बैठक में संयुक्त शेतकारी कामगार मोर्चा का गठन किया.

बयान के मुताबिक 25 जनवरी को पूर्वाह्न 11 बजे आजाद मैदान में रैली शुरू होगी और शरद पवार के अलावा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट, पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे भी रैली को संबोधित करेंगे. इसके बाद प्रदर्शनकारी राजभवन की ओर मार्च करेंगे और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को ज्ञापन सौपेंगे.

आजाद मैदान में ही ध्वजारोहण करेंगे किसान
बयान के मुताबिक प्रदर्शनकारियों ने 26 जनवरी के मौके पर आजाद मैदान में ही तिरंगा फहराने और किसानों और कामगारों के संघर्ष को सफल बनाने की शपथ लेने का फैसला किया है.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि रैली के मद्देनजर इलाके की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. उन्होंने बताया कि आजाद मैदान में एसआरपीएफ के जवानों की तैनाती के साथ ड्रोन से भी निगरानी की जाएगी. उन्होंने बताया कि रैली स्थल पर 100 अधिकारियों और 500 कांस्टेबल की अतिरिक्त तैनाती की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज