लाइव टीवी

क्‍या अमूमन शांत दिखने वाले उद्धव ठाकरे अपने सियासी विरोधियों को परास्‍त कर पाएंगे?

News18Hindi
Updated: November 19, 2019, 6:09 PM IST
क्‍या अमूमन शांत दिखने वाले उद्धव ठाकरे अपने सियासी विरोधियों को परास्‍त कर पाएंगे?
शिवसेना जब 1985 में बृहन्‍मुंबई म्‍युनिसिपल कॉरपोरेशन की सत्‍ता पर काबिज हुई, तब 1960 में जन्‍मे उद्धव ठाकरे ने जमकर पार्टी का प्रचार किया था.

शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) अपने पिता बाल ठाकरे (Bal Thackeray) व चचेरे भाई राज ठाकरे (Raj Thackeray) की तरह न तो आक्रामक वक्‍ता (orator) हैं और न ही उनका व्‍यक्तित्‍व दोनों के बराबर करिश्‍माई (charismatic) माना जाता है. उद्धव को एक खुले दिमाग (Open-minded) के नेता के तौर पर पहचाना जाता है. उन्‍होंने शिवसेना का दायरा बढ़ाने के लिए बौद्ध और हिंदी-भाषी समुदायों के बीच भी अपनी पैठ बनाने की कोशिश की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2019, 6:09 PM IST
  • Share this:
धवल कुलकर्णी

मुंबई. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को लेकर कई गलत धारणाएं हैं. उन्‍हीं में एक है कि वह अपनी इच्‍छा के खिलाफ राज‍नीति में उतरने को मजबूर हुए. हालांकि, कई ऐसी घटनाएं हैं जो इस धारणा को झुठलाती हैं. ये हो सकता है कि उनका व्‍यक्तिगत और राजनीतिक व्‍यक्तित्‍व एकदम अलग हो. ये सही है कि वह शिवसेना के आक्रामक रुख के उलट शांत नजर आते हैं. लेकिन, उन्‍हें करीब से जानने वाले लोगों का दावा है कि उद्धव मंझे हुए राजनेता हैं. उद्धव ठाकरे को सभ्‍य और शांत व्‍यक्ति के तौर पर पहचाना जाता है. लेकिन, उन्‍होंने शिवसेना पर नियंत्रण हासिल करने के लिए कई अंदरूनी लड़ाइयां लड़ीं और जीती हैं. एक बार तो वह अपने पिता बाल ठाकरे (Bal Thackeray) के ही विरुद्ध खड़े हो गए थे.

शिवसेना (Shiv Sena) से 2005 में अलग होकर 2006 में अपनी अलग पार्टी मनसे (MNS) बनाने वाले चचेरे भाई राज ठाकरे (Raj Thackeray) से भी उद्धव की लंबी अदावत चली थी. शिवसेना जब 1985 में बृहन्‍मुंबई म्‍युनिसिपल कॉरपोरेशन (BMC) की सत्‍ता पर काबिज हुई, तब 1960 में जन्‍मे उद्धव ने जमकर पार्टी का प्रचार किया था. जेजे इंस्‍टीट्यूट ऑफ अप्‍लाइड आर्ट से ग्रेजुएट उद्धव ने दोस्‍तों के साथ मिलकर एक एड एजेंसी (Ad Agency) भी शुरू की थी.

उद्धव ने 'सामना' की लॉन्चिंग में निभाई थी बड़ी भूमिका

शिवसेना ने 1989 में जब पार्टी का मुखपत्र (Mouthpiece) 'सामना' शुरू किया था, तब उद्धव ठाकरे ने इसकी लॉन्चिंग में बड़ी भूमिका निभाई थी. बाल ठाकरे के भतीजे राज ठाकरे ने 1988 में शिवसेना की भारतीय विद्यार्थी सेना (BVS) के अध्‍यक्ष का पद संभाला. इसके बाद जल्‍द ही राज को बाल ठाकरे का भविष्‍य का उत्‍तराधिकारी माना जाने लगा. तब राज ठाकरे महज 20 साल के थे. वहीं, उद्धव अप्रैल 1990 में मुंबई के उपनगर मुलुंड में शिवसेना के एक कार्यक्रम में मौजूद थे. इस कार्यक्रम को ही राजनीति में उद्धव का औपचारिक पदार्पण माना जाता है. राजनीति में उनके उतरने का समय महज संयोग नहीं था.

राज ठाकरे ने 1993 में बेरोजगारी के खिलाफ नागपुर में एक रैली की थी. रैली से एक रात पहले मातोश्री से कहा गया कि उद्धव भी वहां बोलेंगे. इसके बाद दोनों धड़ों में तनाव बढ़ता चला गया.


नागपुर रैली से शुरू हुआ शिवसेना के दो धड़ों में तनावराज ठाकरे को तेजतर्रार और ईमानदार नेता के तौर पर जाना जाता था. हालांकि, शिवसेना का एक वर्ग उनकी इस शैली के खिलाफ था. इसी धड़े ने नरम उद्धव को पार्टी में आगे बढ़ाने की मांग शुरू कर दी. राज ठाकरे ने दिसंबर, 1993 में बेरोजगारी के मुद्दे पर नागपुर में विधानसभा के सामने मोर्चा निकाला. रैली से एक रात पहले पार्टी आलाकमान ने राज ठाकरे से कहा कि कार्यक्रम में उद्धव का भाषण भी सुनिश्चित कराया जाए. इस पर राज उखड़ गए. उन्‍हें लगा कि वह कड़ी मेहनत कर रहे हैं और पार्टी के आगे बढ़ने का श्रेय उद्धव ठाकरे को मिल रहा है. इसके बाद दोनों धड़ों में शुरू हुआ तनाव बढ़ते-बढ़ते अंदरूनी जंग में तब्‍दील हो गया.

रमेश किनी की मौत ने राज को हाशिए पर धकेल दिया
शिवसेना की अंदरूनी लड़ाई का नतीजा यह निकला कि राज ने 2006 में महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के नाम से अपनी अलग पार्टी बना ली. कुछ लोगों का कहना है कि इसकी शुरुआत 1995 से ही हो गई थी. जुलाई, 1996 में मुंबई के एक व्‍यक्ति रमेश किनी की मौत के लिए राज और उनके साथियों को दोषी ठहराया गया. उस समय शिवसेना-भाजपा राज्य में शासन कर रहे थे. राज विवादों में घिरते चले गए, जिसे सीबीआई की पूछताछ ने हवा दी. इससे राज राजनीति में हाशिए पर चले गए. इसी दौरान बाल ठाकरे की पत्‍नी मीनाताई और बड़े बेटे बिंदुमाधव का निधन हो गया. उनसे छोटे बेटे जयदेव से शिवसेना प्रमुख का मनमुटाव चल रहा था. इससे उद्धव पर उनकी निर्भरता बढ़ती चली गई.

खुद राज ने उद्धव के नाम का प्रस्‍ताव पेश किया
उद्धव ठाकरे ने 1997 के मुंबई महानगरपालिका के चुनावों में सक्रिय भूमिका निभाई. इसके बाद बाल ठाकरे ने 2002 के मुंबई महानगरपालिका की जिम्मेदारी पूरी तरह से उद्धव को सौंप दी. कहा जाता है कि उस चुनाव में राज के समर्थकों को टिकट नहीं दिया गया. इसके बाद भी राज ठाकरे के करीबियों को किनारे रखने का सिलसिला जारी रहा. जनवरी, 2003 में शिवसेना का पार्टी सम्मेलन महाबलेश्वर में था. सम्मेलन के आखिरी दिन बाल ठाकरे की गैरमौजूदगी में खुद राज ने उद्धव का नाम पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष पद के लिए प्रस्तावित किया. इसी के साथ आधिकारिक घोषणा हो गई कि उद्धव ठाकरे ही बाल ठाकरे के राजनीतिक उत्तराधिकारी होंगे. बाल ठाकरे का कहना था कि उन्‍हें राज के फैसले की पहले से कोई जानकारी नहीं थी. हालांकि, मनसे प्रमुख के सार्वजनिक बयान कुछ और ही कहानी बयान करते हैं.

उद्धव ठाकरे को शिवसेना की बागडोर हाथ में लेने के ि‍लिए कई परिजनों और करीबियों को किनारे करना पड़ा.


बाल ठाकरे ने उद्धव का साथ देने की अपील की
उद्धव ठाकरे ने अपने चचेरे भाई राज ठाकरे, महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री नारायण राणे और भाई जयदेव की पत्‍नी स्मिता को किनारे लगाकर शिवसेना की बागडोर अपने हाथों में ले ली. बाद में राणे ने कहा कि बाल ठाकरे के पुत्र प्रेम ने सब बर्बाद कर दिया. विरोधी आरोप लगाते हैं कि उद्धव ठाकरे को उनकी राजनीतिक विरासत प्‍लेट में सजाकर सौंप दी गई. बाल ठाकरे ने 2012 में अपने निधन से पहले आखिरी जनसभा में पार्टी कार्यकर्ताओं से उद्धव और आदित्‍य के साथ खड़े रहने की अपील की. बाल ठाकरे के मुकाबले उद्धव से मिलना आसान नहीं है. जहां बाल ठाकरे पार्टी काडर से सीधे मुलाकात करते थे. वहीं, उद्धव से मुलाकात के लिए उनके पीए मिलिंद नर्वेकर से समय मांगना पड़ता है. महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव 2004 में शिवसेना-बीजेपी गठबंधन हार गया. राणे 2005 में पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए.

कांग्रेस नेताओं जैसा है उद्धव ठाकरे का व्‍यक्तित्‍व
शिवसेना से राणे और राज के अलग होने के बाद उद्धव को मुंबई नगरपालिका की सत्ता पर कब्‍जा बनाए रखने और विधायकों को एकजुट रखने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा. लेकिन, उद्धव ने इस पर सफलता पाई. उन्होंने दिखा दिया कि वह पार्टी को एकजुट रख सकते हैं. वहीं, 2014 में मोदी लहर होने के बावजूद विधानसभा चुनाव में उद्धव के नेतृत्व में शिव सेना ने 63 सीटें जीतीं थी. उद्धव का व्यक्तित्व कांग्रेस पार्टी के नेताओं जैसा है. उन्‍होंने शिवशक्ति-भीमशक्ति का गठन करके गठबंधन की राजनीति भी करने की कोशिश की और मी मुंबईकर जैसे अभियान शुरू किए. उनका व्यक्तित्व राज ठाकरे की तरह आक्रामक नहीं है, लेकिन उद्धव ने किसानों की कर्ज माफी और मज़दूरों की अन्य समस्याओं के मुद्दों को उठाया, जिस पर शिवसेना और मनसे ने कभी ध्यान नहीं दिया.

(लेखक पत्रकार और 'द कजिंस ठाकरे: उद्धव, राज एंड द शैडो ऑफ देयर सेनाज' के लेखक हैं. लेख उनके निजी विचार हैं.)

ये भी पढ़ें:

सुप्रीम कोर्ट मराठा आरक्षण पर अब जनवरी, 2020 में करेगा सुनवाई
वामपंथी नेता ने कहा- माओवादियों की मदद कर रहे मुस्लिम आतंकी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 19, 2019, 4:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर