होम /न्यूज /राष्ट्र /

महाराष्ट्र : नवगठित सरकार का मंत्रिमंडलीय विस्तार, नए 18 मंत्रियों में 17 रह चुके हैं पूर्व मंत्री

महाराष्ट्र : नवगठित सरकार का मंत्रिमंडलीय विस्तार, नए 18 मंत्रियों में 17 रह चुके हैं पूर्व मंत्री

महाराष्ट्र में आज मंत्रिमंडल विस्तार हुआ. एक भी महिला को मंत्रिमंडल में स्थान नहीं मिला, जबकि नए 18 में से 17 मंत्री पूर्व में भी पद संभाल चुके है.  (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र में आज मंत्रिमंडल विस्तार हुआ. एक भी महिला को मंत्रिमंडल में स्थान नहीं मिला, जबकि नए 18 में से 17 मंत्री पूर्व में भी पद संभाल चुके है. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे की अगुआई वाली सरकार के मंगलवार को हुए मंत्रिमंडल विस्तार में शामिल 18 सदस्यों में से 17 पहले भी मंत्री रह चुके हैं. राज भवन में हुए समारोह में 18 मंत्रियों ने शपथ ली है, जिनमें से महज एक सदस्य पहली बार मंत्री बना है. मंत्रिमंडल में किसी भी महिला को शामिल नहीं किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

शिंदे-देवेंद्र सरकार ने आज मंत्रिमंडल का विस्तार किया है.
आज 18 नए मंत्रियों को शपथ दिलाया गया है, जिसमे सिर्फ 1 मंत्री है जो पहली बार मंत्री-पद का शपथ लिया.
मंत्रालय के 18 में से 17 मंत्री पूर्व में भी मंत्री पद संभल चुके हैं.
मंत्रालय में एक भी महिला को स्थान नहीं मिला है.

मुंबई. महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे की अगुआई वाली सरकार के मंगलवार को हुए मंत्रिमंडल विस्तार में शामिल 18 सदस्यों में से 17 पहले भी मंत्री रह चुके हैं. राजभवन में हुए समारोह में 18 मंत्रियों ने शपथ ली है, जिनमें से महज एक सदस्य पहली बार मंत्री बना है. मंत्रिमंडल में किसी भी महिला को शामिल नहीं किया गया है. नए मंत्रियों में शिवसेना के संजय राठौड़ शामिल हैं, जो उद्धव ठाकरे की अगुआई वाली सरकार में वन मंत्री थे तथा भारतीय जनता पार्टी द्वारा एक महिला की आत्महत्या के लिए उन पर आरोप लगाए जाने के बाद उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था.

नए मंत्रियों में भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल (63) शामिल हैं, जो दो बार पार्षद रह चुके हैं तथा पश्चिमी महाराष्ट्र से विधायक हैं. वह 2014-19 के दौरान राजस्व एवं लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के मंत्री थे. गिरीश महाजन (62) उत्तरी महाराष्ट्र से भाजपा नेता हैं और उन्होंने छह बार विधानसभा चुनाव जीता है. उन्हें उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का करीबी माना जाता है. राधाकृष्ण विखे पाटिल (63) अहमदनगर जिले से सात बार के विधायक हैं. वह 2014-19 के दौरान कांग्रेस में रहते हुए विधानसभा में विपक्ष के नेता थे लेकिन 2019 में भाजपा के टिकट पर विधानसभा चुनाव जीते.

सुधीर मुन्गंतीवार (60) विदर्भ के चंद्रपुर जिले से छह बार विधायक चुने गए हैं. 2014-19 के दौरान वह वित्त एवं वन मंत्री थे. भाजपा के ही रवींद्र चह्वाण (51) ठाणे जिले से तीन बार के विधायक हैं. वह 2014-19 के दौरान राज्य मंत्री रह चुके हैं. विजयकुमार गावित (67) राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) छोड़कर 2014 में भाजपा में शामिल हुए थे, वह पांच बार विधायक बन चुके हैं. वह उत्तरी महाराष्ट्र के नंदरबार जिले से आते हैं. अतुल सावे (60) मराठावाड़ा (औरंगाबाद जिला) से भाजपा के दो बार के विधायक हैं. वह राज्य में पहले मंत्री रह चुके हैं.

मंगल प्रभात लोढ़ा (66) मुंबई से भाजपा के पांच बार विधायक रह चुके हैं, वह पार्टी की मुंबई इकाई के अध्यक्ष भी हैं. प्रतिष्ठित बिल्डर लोढ़ा ने 2014 के विधानसभा चुनाव में अपनी संपत्ति 441 करोड़ रुपये बतायी थी और राज्य के सबसे अमीर विधायक हैं. सुरेश खडे (64) पश्चिम महाराष्ट्र के सांगली जिले से भाजपा के दो बार विधायक रह चुके हैं. वह राज्यमंत्री हैं.

शिवसेना के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के बागी गुट के विधायकों में नौ सदस्यों ने मंत्री पद की शपथ ली है. इनमें उत्तरी महाराष्ट्र के जलगांव जिले से शिवसेना के चार बार के विधायक गुलाबराव पाटिल (56) शामिल हैं. वह उद्धव ठाकरे की अगुआई वाली महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार में मंत्री थे. उदय सामंत (46) रत्नागिरी जिले से शिवसेना के चार बार के विधायक हैं, वह एमवीए सरकार में मंत्री थे. शिवसेना के संदीपन भुमरे (59) पांच बार विधायक का चुनाव जीत चुके हैं और वह मराठावाड़ा के औरंगाबाद जिले का प्रतिनिधित्व करते हैं, वह पूर्ववर्ती सरकार में कैबिनेट मंत्री थे.

उत्तरी महाराष्ट्र के नासिक जिले से शिवसेना के चार बार के विधायक दादा भुसे (58) एमवीए सरकार में मंत्री थे. सतारा जिले से शिवसेना के तीन बार के विधायक शंभूराज देसाई (55) एमवीए सरकार में कनिष्ठ मंत्री थे. संजय राठौड़ (51) यवतमाल जिले से चार बार शिवसेना के विधायक रहे हैं. उस्मानाबाद जिले से शिवसेना के विधायक तानाजी सामंत (58) विधान परिषद के पूर्व सदस्य और पूर्व मंत्री हैं. अब्दुल सत्तार (54) मराठावाड़ा से तीन बार के विधायक हैं. वह पहले दो कार्यकाल में कांग्रेस के साथ थे और 2019 में शिवसेना में शामिल हो गए थे. दीपक केसरकार (67) शिवसेना के तीन बार के विधायक हैं. वह सिंधुदुर्ग जिले से आते हैं तथा पहले भी राज्य के मंत्री रह चुके हैं.

Tags: Devendra Fadnavis, Eknath Shinde, Maharashtra

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर