महाराष्ट्र: CM उद्धव ठाकरे ने केंद्र को लिखा पत्र-टाइगर रिजर्व से गुजरती रेलवे लाइन का किया विरोध

महाराष्ट्र: CM उद्धव ठाकरे ने केंद्र को लिखा पत्र-टाइगर रिजर्व से गुजरती रेलवे लाइन का किया विरोध
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने केंद्र सरकार को एक रेलवे लाइन को लेकर पत्र लिखा है (फाइल फोटो, PTI)

बाघों और वन्यजीवों (Tigers and Wildlife) के आवास की कीमत पर विकास का सीएम उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने विरोध किया है और इसके पर्यावास (Habitat) पर दूरगामी बुरे परिणामों के प्रति चेताया है.

  • Share this:
मुम्बई. भारतीय रेलवे (Indian Railways) मेलघाट टाइगर रिजर्व (Melghat Tiger Reserve) के मुख्य क्षेत्र से गेज (Guage) का काम करना चाहता है. महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) इसका विरोध कर रही है. इसी क्रम में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री (Union Minister of Environment) प्रकाश जावड़ेकर और केंद्रीय रेल मंत्री (Union Railway Minister) पीयूष गोयल को इस फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए पत्र लिखा है.

बाघों और वन्यजीवों (Tigers and Wildlife) के आवास की कीमत पर विकास का सीएम उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने विरोध किया है और इसके पर्यावास (Habitat) पर दूरगामी बुरे परिणामों के प्रति चेताया है. उन्होंने केंद्र से इसका वैकल्पिक हल (Alternate Solution) खोजने की बात भी कही है. इस बात की जानकारी बुधवार को महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) के मुख्यमंत्री कार्यालय ने दी.

सीएम उद्धव ठाकरे ने वैकल्पिक मार्ग तलाशने की गुजारिश की
महाराष्ट्र सरकार के मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर बताया है कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर मेलाघाट टाइगर रिजर्व के टाइगर पर्यावास के मुख्य क्षेत्र से होकर गुजरने वाली रेलवे लाइन के गेज परिवर्तन के लिए एक वैकल्पिक मार्ग तलाशने की गुजारिश की है.





प्रस्तावित गेज निर्माण का काम टाइगर रिजर्व के मुख्य इलाके से होना है
प्रस्तावित गेज के काम के निर्माण की परिकल्पना और इसके लिए पत्थरों को बम से उड़ाये जाने का काम टाइगर रिजर्व (Tiger Reserve) के मुख्य इलाके से होना है, जो कि देश के प्रमुख नौ टाइगर रिजर्व में शामिल है.

यह भी पढ़ें: असम- बाढ़ के चलते काज़ीरंगा का 80% हिस्सा बाढ़ में डूबा, 66 जानवरों की मौत

हालांकि विकास कार्य महत्वूर्ण है, मुख्यमंत्री ने लंबे समय में बाघों के पर्यावास और इसके वन्यजीवन पर होने वाले हानिकारक प्रभावों पर जोर डाला है, जिसके चलते रेलवे लाइन के प्रस्तावित गेज परिवर्तन के लिए किसी उपयुक्त विकल्प पर काम किया जाना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading