अपना शहर चुनें

States

औरंगाबाद पर सियासत जारी, संजय निरुपम ने कहा- शिवसेना महापुरुषों को बीच में लाएगी तो गच्चा खाएगी

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की फाइल फोटो.
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की फाइल फोटो.

Maharashtra Update: राज्य में विपक्ष की भूमिका निभा रही भारतीय जनता पार्टी ने एमवीए सरकार पर निशाना साधा है. बीजेपी प्रवक्ता राम कदम ने कहा कि शिवसेना चुनाव तक यह नाटक करेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 3, 2021, 12:26 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र में औरंगाबाद (Aurangabad) महानगरपालिका के चुनाव नजदीक हैं. इसी बीच राज्य में इसके नाम को लेकर फिर सियासत शुरू हो गई है. शिवसेना (Shivsena) ने औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजी नगर (Sambhaji Nagar) किए जाने की मांग की है. वहीं, महाविकास अघाड़ी सरकार की सदस्य कांग्रेस (Congress) ने इस बात पर कड़ा विरोध जताया है. इधर महाराष्ट्र कांग्रेस के वरिष्ठ नेता संजय निरुपम (Sanjay Nirupam) ने साफ कर दिया है कि अगर नाम बदला गया, तो सरकार खतरे में आ जाएगी. राज्य के कांग्रेस प्रमुख बालासाहब थोराट (Balasaheb Thorat) पहले ही इस प्रस्ताव का विरोध करने की बात कह चुके हैं.

शिवसेना का पुराना एजेंडा है औरंगाबाद का नाम बदलना
कांग्रेस नेता निरुपम ने शिवसेना पर अपना एजेंडा चलाने का आरोप लगाया है. शनिवार को उन्होंने ट्वीट किया 'औरंगाबाद का नामांतरण शिवसेना का अपनी पुराना एजेंडा है. लेकिन सरकार तीन पार्टियों की है, यह नहीं भूलना चाहिए. गठबंधन की सरकारें कॉमन मिनिमम प्रोग्राम से चलती हैं. किसी के पर्सनल एजेंडे से नहीं. प्रोग्राम काम करने के लिए बना है,नाम बदलने के लिए नहीं.'

इसके अलावा निरुपम ने शिवसेना को चेतावनी भी दे दी है. उन्होंने लिखा 'औरंगजेब का व्यक्तित्व विवादास्पद रहा है. उसके हर पक्ष से कांग्रेस सहमत हो जरूरी नहीं. संभाजी महान योद्धा थे. उनका आत्मोत्सर्ग वंदनीय है. इस पर कोई मतभेद नहीं. लेकिन सरकार चलाते समय शिवसेना महापुरुषों को बीच में लाएगी तो यकीनन गच्चा खा जाएगी. खुद तय कर ले.'
यह भी पढ़ें: औरंगाबाद का नाम बदलकर 'संभाजीनगर' करेगी उद्धव सरकार, कांग्रेस कर रही है विरोध



इधर विपक्ष ने मिलीभगत का आरोप लगाया
राज्य में विपक्ष की भूमिका निभा रही भारतीय जनता पार्टी ने एमवीए सरकार पर निशाना साधा है. बीजेपी प्रवक्ता राम कदम ने कहा कि शिवसेना चुनाव तक यह नाटक करेगी. उन्होंने कहा कि बीजेपी का साथ शिवसेना सत्ता में थी, तो औरंगाबाद का नाम बदलने का प्रस्ताव नहीं भेजा. अब चुनाव के वक्त उन्हें यह याद आया.

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के नेता बाला नांदगांवकर ने शिवसेना को एक पुराना किस्सा याद दिलाया है. उन्होंने कहा कि कैबिनेट मंत्री अब्दुल सत्तार को शिवसेना ने भरोसा दिया था कि औरंगाबाद का नाम संभाजीनगर नहीं किया जाएगा. उन्होंने पूछा कि शिवसेना अब्दुल सत्तार या जनता किससे झूठ बोल रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज