Home /News /nation /

महाराष्ट्र के किसान ने 1123 किलो प्याज बेच की इतनी कमाई, जितनी आप सोच भी नहीं सकते, जानें पूरा मामला

महाराष्ट्र के किसान ने 1123 किलो प्याज बेच की इतनी कमाई, जितनी आप सोच भी नहीं सकते, जानें पूरा मामला

महाराष्‍ट्र के किसान ने 1,123 किलो प्याज बेची. (प्रतीकात्‍मक फोटो)

महाराष्‍ट्र के किसान ने 1,123 किलो प्याज बेची. (प्रतीकात्‍मक फोटो)

प्याज की कीमतों में वृद्धि के बावजूद महाराष्ट्र (Maharashtra) के सोलापुर से एक किसान (Farmer) को 1,123 किलो प्याज बेचकर महज 13 रुपये की कमाई हुई. उसे केवल 1,665.50 रुपये मिले. इसमें खेत से कमीशन एजेंट की दुकान तक माल ले जाने की श्रम लागत, वजन करने का शुल्क और परिवहन खर्च शामिल है जबकि उत्पादन लागत 1,651.98 रुपये है. इसका मतलब है कि किसान ने केवल 13 रुपये कमाए. महाराष्ट्र के किसान नेता ने जहां इसे अस्वीकार्य बताया है, वहीं एक कमीशन एजेंट ने दावा किया कि खराब गुणवत्ता के कारण माल की कम कीमत लगाई गई है.

अधिक पढ़ें ...

    मुंबई. सर्दियों के मौसम के दौरान प्याज की कीमतों में वृद्धि के बावजूद महाराष्ट्र (Maharashtra) के सोलापुर से एक किसान (Farmer) को 1,123 किलो प्याज बेचकर महज 13 रुपये की कमाई हुई. उसे केवल 1,665.50 रुपये मिले. इसमें खेत से कमीशन एजेंट की दुकान तक माल ले जाने की श्रम लागत, वजन करने का शुल्क और परिवहन खर्च शामिल है जबकि उत्पादन लागत 1,651.98 रुपये है. इसका मतलब है कि किसान ने केवल 13 रुपये कमाए. महाराष्ट्र के किसान नेता ने जहां इसे अस्वीकार्य बताया है, वहीं एक कमीशन एजेंट ने दावा किया कि खराब गुणवत्ता के कारण माल की कम कीमत लगाई गई है.

    सोलापुर स्थित कमीशन एजेंट द्वारा दी की गई बिक्री रसीद में महाराष्ट्र के एक किसान बप्पू कावड़े ने बाजार में 1,123 किलो प्याज भेजा और इसके बदले उसे केवल 1,665.50 रुपये मिले. कावड़े की बिक्री रसीद ट्वीट करने वाले स्वाभिमानी शेतकारी संगठन के नेता और पूर्व लोकसभा सांसद राजू शेट्टी ने कहा, ‘कोई इन 13 रुपये का क्या करेगा. यह अस्वीकार्य है. किसान ने अपने खेत से कमीशन एजेंट की दुकान पर प्याज की 24 बोरी भेजी और बदले में उसने इससे सिर्फ 13 रुपये कमाए.’

    ये भी पढ़ें :  ओमिक्रॉन वेरिएंट से पूरी दुनिया खौफ में, लेकिन WHO ने दी ये राहत भरी खबर

    ये भी पढ़ें :  Army Heroes: पाक सेना के मजबूत किले को अकेले ध्‍वस्‍त करने वाले परमवीर एक्‍का की आखिरी कहानी…

    राजू शेट्टी ने कहा किसान, उत्पादन लागत का भुगतान कैसे करेंगे, जिसमें खेती के लिए मिट्टी की तैयारी, प्याज के बीज की खरीद, उर्वरक और कटाई शुल्क शामिल हैं? यदि प्याज की कीमतें आसमान छूती हैं, तो केंद्र सरकार युद्ध स्तर पर अन्य देशों से उपज का आयात करती. हालांकि, अब जब कीमतें गिर गई हैं, तब सरकार किसान की दुर्दशा को नजरअंदाज करेगी. शेट्टी ने कहा कि किसान कावड़े ने 1,512 रुपये की परिवहन लागत का भुगतान करने के लिए पर्याप्त कमाई की या फिर यह राशि अपनी जेब से चुकानी पड़ती.

    वहीं, कावड़े से प्याज खरीदने वाले कमीशन एजेंट रुद्रेश पाटिल ने कहा कि मैंने इतनी कम दर पर प्याज खरीदा, लेकिन यह मुख्य रूप से उपज की खराब गुणवत्ता के कारण है. पिछले कुछ दिनों में बेमौसम बारिश के कारण प्याज, गीला और क्षतिग्रस्त हो गया था, यही वजह है कि उसके लिए कम कीमत मिली. पाटिल ने कहा कि अच्छी गुणवत्ता वाले प्याज को बाजार में अच्छी कीमत मिल रही है, लेकिन कावड़े के मामले को ‘दुर्भाग्यपूर्ण और असाधारण’ मान सकते हैं. टिप्पणी के लिए कावड़े से संपर्क नहीं हो सका.

    Tags: Farmer, Maharashtra

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर