महाराष्ट्र: अजित पवार से हाथ मिलाना BJP की भारी भूल? फडणवीस ने दिया ये जवाब

महाराष्ट्र: अजित पवार से हाथ मिलाना BJP की भारी भूल? फडणवीस ने दिया ये जवाब
देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार ने शनिवार को सीएम-डिप्टी सीएम की शपथ ली थी.

बीजेपी (BJP) को पूरा भरोसा था कि बहुमत परीक्षण (Floor Test) के वक्त उन्हें एनसीपी के सभी 54 विधायकों का वोट मिलेगा. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को जैसे ही 24 घंटे के अंदर फ्लोर टेस्ट कराने और इस पूरी प्रक्रिया का लाइव टेलिकास्ट कराने का आदेश दिया, तो बीजेपी का दांव उलटा पड़ गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 27, 2019, 12:36 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की गठबंधन सरकार बनने जा रही है. मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) और उप-मुख्यमंत्री अजित पवार (Ajit Pawar) के बहुमत परीक्षण (Floor Test) से पहले ही इस्तीफे के बाद राज्य की सियासत एकदम से बदल गई है. मंगलवार को पहले अजित पवार के इस्तीफे की खबर आई, फिर फडणवीस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया. सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के 2 घंटे के अंदर दो बड़े इस्तीफे हो गए. ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि क्या बीजेपी ने अजित पवार पर भरोसा कर बड़ी भूल की है?

अजित ने ऐन वक्त पर साथ क्यों छोड़ा? इस सवाल के जवाब में देवेंद्र फडणवीस ने कहा, 'अजित पवार से हाथ मिलाना गलती थी या नहीं, इसका जवाब मैं सही वक्त पर दूंगा.'

सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी ने अजित पवार के भरोसे पर शनिवार को सरकार बनाई थी. ये भरोसा अजित पवार द्वारा राज्यपाल बीएस कोश्यारी को दिखाए गए उस लेटर पर टिका था, जिसमें एनसीपी विधायकों के समर्थन की बात लिखी थी और सभी के हस्ताक्षर थे. ऐसे में बीजेपी को पूरा भरोसा था कि बहुमत परीक्षण के वक्त उन्हें एनसीपी के सभी 54 विधायकों का वोट मिलेगा. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को जैसे ही 24 घंटे के अंदर फ्लोर टेस्ट कराने और इस पूरी प्रक्रिया का लाइव टेलिकास्ट कराने का आदेश दिया, तो बीजेपी का दांव उलटा पड़ गया.





बता दें कि देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस्तीफे का ऐलान किया. इस दौरान उन्होंने कहा, 'अजित पवार मुझसे मिले और इस्तीफा देकर कहा कि वह सरकार में अब नहीं बने रह सकते. शीर्ष न्यायालय के आदेश के अनुसार, हम बुधवार को फ्लोर टेस्ट कराकर बहुमत सिद्ध करने में असमर्थ हैं. हमारे पास संख्या बल नहीं है. बीजेपी कभी खरीद-फरोख्त का काम नहीं करती. इसलिए हम अब बहुमत साबित नहीं कर सकते.' फडणवीस ने कहा, 'जो भी सरकार बनाएगा, उसे हम शुभकामनाएं देते हैं. हम नई सरकार को काम करना सिखाएंगे.'

 


ये भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे कल लेंगे सीएम पद की शपथ, आज राज्यपाल ने बुलाया विधानसभा का विशेष सत्र

ये भी पढ़ें:  सुप्रिया सुले के पति ने बदला अजित का मन, शरद पवार का खास संदेश लेकर गए थे मिलने- सूत्र

 ये भी पढ़ें:  शिवसेना-NCP और कांग्रेस के बीच अब विभागों पर मंथन, इन पदों पर हो रही बात
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज