Home /News /nation /

महाराष्‍ट्र सरकार के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक को हाई कोर्ट ने लगाई फटकार, जानें क्‍या है मामला

महाराष्‍ट्र सरकार के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक को हाई कोर्ट ने लगाई फटकार, जानें क्‍या है मामला

बॉम्‍बे हाई कोर्ट. (फाइल फोटो)

बॉम्‍बे हाई कोर्ट. (फाइल फोटो)

बॉम्बे हाई कोर्ट (bombay high court) ने रोक के बावजूद एनसीपी नेता (NCP Leader) और महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) में कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) द्वारा वानखेड़े फैमिली को लेकर की जा रही बयानबाजी पर उन्हें कड़ी फटकार लगाई है. बॉम्बे हाई कोर्ट ने नवाब मलिक से पूछा कि वो उनके खिलाफ कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का नोटिस क्योंं न जारी करे. कोर्ट ने कहा कि नवाब के खिलाफ कोई कार्रवाई करने से पहले उन्हें अपना जवाब दाखिल करने के लिए 10 दिसंबर तक का वक़्त दिया जाता है, क्योंकि इसी दिन मामले पर आगे की सुनवाई होनी है.

अधिक पढ़ें ...

    मुंबई. बॉम्बे हाई कोर्ट (bombay high court) ने रोक के बावजूद एनसीपी नेता (NCP Leader) और महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) में कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) द्वारा वानखेड़े फैमिली को लेकर की जा रही बयानबाजी पर उन्हें कड़ी फटकार लगाई है. बॉम्बे हाई कोर्ट ने नवाब मलिक से पूछा कि वो उनके खिलाफ कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का नोटिस क्योंं न जारी करे. इस मामले में जवाब दाखिल करने के लिए हाई कोर्ट ने नवाब मलिक को 10 दिसंबर तक का वक़्त दिया है.

    इस मामले में हुई सुनवाई के दौरान बॉम्बे हाई कोर्ट ने नवाब मलिक को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर वह यह बयानबाजी निजी तौर पर कर रहे हैं तो हम उन्हें अभी यहां हाजिर होने के लिए कहते हैं. जिसका जवाब देते हुए नवाब के वकीलों ने कहा कि उन्होंने जो भी बयान दिया है, वो NCP के प्रवक्ता के तौर पर दिया है, निजी तौर पर नही. सुनवाई के दौरान कोर्ट ने ऑब्ज़र्व किया कि नवाब मलिक ने वानखेड़े फैमिली को लेकर किसी भी प्रकार की बयानबाजी न करने की जो अंडरटेकिंग कोर्ट में दी थी, उसको उन्होंने तोड़ा है, ऐसा प्रथम दृष्टया उन्हें महसूस होता है.

    ये भी पढ़ें : केंद्र की ओर से नहीं मिला वैक्सीन का ऑर्डर, 50% घटाएंगे कोविशील्ड का उत्पादन: अदार पूनावाला

    ये भी पढ़ें : बेंगलुरु: ओमिक्रॉन को शिकस्त देने वाला डॉक्टर दोबारा कोरोना वायरस से संक्रमित

    10 दिसंबर तक का वक्‍त दिया
    कोर्ट ने कहा कि नवाब के खिलाफ कोई कार्रवाई करने से पहले उन्हें अपना जवाब दाखिल करने के लिए 10 दिसंबर तक का वक़्त दिया जाता है, क्योंकि इसी दिन मामले पर आगे की सुनवाई होनी है. दरअसल कोर्ट के आदेश के बावजूद नवाब मलिक द्वारा उनके खिलाफ लगातार की जा रही बयानबाजी की वानखेड़े फैमिली ने आज हाई कोर्ट को इसकी जानकारी दी थी और नवाब पर कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का आरोप लगाया था.

    शादी की कथित तस्‍वीर जारी कर किया था जबानी हमला
    नवाब मलिक ने एनसीबी ऑफिसर समीर वानखेड़े की पहली शादी की एक कथित तस्वीर शेयर कर ज़बानी हमला किया था. उन्होंने वानखेड़े की शादी को लेकर दावा किया है कि निकाह इस्लामिक रीति रिवाज से हुआ था. बता दें कि नवाब मलिक ने इससे पहले दावा किया था कि वानखेडे़ का जन्म एक मुस्लिम परिवार में हुआ था, लेकिन उन्होंने जाति प्रमाणपत्र में फर्जीवाड़ा कर सरकारी नौकरी ले ली.

    Tags: Bombay high court, Maharashtra Government, Nawab Malik, NCP Leader

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर