अपना शहर चुनें

States

जुर्माना, सोशल डिस्टेसिंग, मास्क.. महाराष्ट्र में कोरोना से निपटने के लिए होगी फिर से सख्ती

दिल्‍ली में कोरोना का ग्राफ काफी नीचे आ गया है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-AP)
दिल्‍ली में कोरोना का ग्राफ काफी नीचे आ गया है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-AP)

Maharahstra Coronavirus Cases: महाराष्ट्र में बीते रविवार को पिछले एक महीने से अधिक समय में सबसे ज्यादा संक्रमण के 4092 मामले आए वहीं मंगलवार को 3663 नए मामले आए. पिछले सात दिनों से रोजाना लगातार 3,000 से ज्यादा मामले आ रहे हैं। मुंबई से 461 मामले आए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2021, 8:47 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने तय किया है कि फिलहाल महाराष्ट्र में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा. हालांकि संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए नए प्रतिबंध लगाए जाएंगे. राज्य सरकार ने मंगलवार को तेजी से बढ़ रहे कोरोना मामलों को लेकर समीक्षा बैठक की. स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि फिलहाल स्थिति पूर्ण लॉकडाउन लगाने की नहीं है. हालांकि सरकार ने ऐसे जिलों की पहचान की है जहां ज्यादा ध्यान दिए जाने की जरूरत है और जहां फिलहाल सभी के लिए लोकल की शुरुआत नहीं की जाएगी, खासकर कि पीक आवर्स के दौरान.

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह नागरिकों को फैसला करना है कि क्या वे संक्रमण पर नियंत्रण के लिए फिर से लॉकडाउन का सामना करना चाहते हैं? उन्होंने कहा, ‘‘राज्य के लोगों को इसका फैसला करना है कि वे लॉकडाउन चाहते हैं या कुछ पाबंदी के साथ मुक्त तरीके से रहना चाहते हैं. मास्क पहनें और भीड़-भाड़ करने से बचें अन्यथा फिर से लॉकडाउन का सामना करना पड़ेगा.’’

बैठक में ये नियम तय किए गए-
>> जहां मामले बढ़ रहे हैं वहां पर टारगेट टेस्टिंग लागू की जाएगी. ऐसी जगहों की टेस्टिंग बढ़ाई जाएगी. प्रत्येक कोविड पॉजिटिव मामले के कम से कम 20 हाई रिस्क कॉन्टैक्ट्स को प्रशासन द्वारा ट्रेस किया जाएगा.
>> मास्क न पहनने और कोविड प्रोटोकॉल का पालन न करने वालों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी और उल्लंघन करने वालों पर जुर्माना लगाया जाएगा.



>> दूसरी बीमारी से पीड़ित लोगों का ध्यान रखते हुए घर-घर जाकर स्कैनिंग की जाएगी.

>> नागरिकों को कोविड एसओपी का सख्ती से पालन करना होगा.

>> जहां भी जरूरत होगी वहां पर कंटेनमेंट जोन बनाए जाएंगे.

>> होटलों, मैरिज हॉल, पार्टी की जगहों पर कोविड प्रोटोकॉल का सही से पालन न करने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

>> जिन मैरिज हॉलों में कोविड संबंधी नियमों का पालन नहीं किया जाएगा उनका लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा.

>> होटल, रेस्त्रां और अन्य खाने-पीने की जगहों पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन अनिवार्य है.

>> फील्ड अस्पतालों को आपातकालीन स्थिति होने या मामलों के बढ़ने की स्थिति के लिए खुद को तैयार रखना होगा.

>> राज्य में परीक्षणों की संख्या बढ़ाई जाएगी.

ये भी पढ़ें- किसान आंदोलन का निकलेगा हल? बीजेपी चीफ नड्डा की अमित शाह संग बड़ी बैठक

15 जिलों में बढ़े हैं मरीज
मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) से जारी एक बयान के मुताबिक चार जनवरी और 15 फरवरी के दौरान 15 जिलों में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई. बयान में कहा गया, ‘‘हालांकि नौ फरवरी से 15 फरवरी के बीच ऐसे जिलों की संख्या बढ़कर 21 हो गयी.’’

सीएमओ ने एक बयान में कहा कि राज्य के 36 जिलों में सतारा, सांगली, कोल्हापुर, जलगांव, धुले, बीड, लातूर, परभणी, अमरावती, अकोला, बुलढाना, यवतमाल,नागपुर और वर्धा में चार जनवरी और 15 फरवरी के बीच उपचाराधीन मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई.

बयान में कहा गया कि नौ फरवरी और 15 फरवरी के बीच पालघर, रायगढ, रत्नागिरि, पुणे, सतारा, कोल्हापुर, नासिक, अहमदनगर, जलगांव, धुले, औरंगाबाद, बीड, परभणी, अमरावती, अकोला, वाशिम, बुलढाना, यवतमाल, नागपुर, वर्धा और चंद्रपुर में उपचाराधीन मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हुई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज