• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • महाराष्ट्र : चिपलुन में भारी बारिश में रेलवे लाइन पर यातायात बहाली की कोशिश

महाराष्ट्र : चिपलुन में भारी बारिश में रेलवे लाइन पर यातायात बहाली की कोशिश

चिपलुन में बारिश के कहर से रेल यातायात प्रभावित हुआ है. (प्रतीकात्‍मक चित्र )

महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में बारिश का कहर झेल रहे चिपलुन शहर में कोंकण रेलवे (केआर) लाइन पर क्षतिग्रस्त एक पटरी की मरम्मत के बाद रेल यातायात शुक्रवार शाम छह बजे तक बहाल हो सकता है. केआर के मुख्य प्रवक्ता एलके वर्मा ने बताया कि मूसलाधार बारिश और उसके बाद बाढ़ आने से चिपलुन और कामथे सेक्शन के बीच कई जगहों पर रेल की पटरियों के नीचे के रोड़े तथा तटबंध बह गए हैं. इसके बाद विभिन्न स्टेशनों पर कई ट्रेनों को रोका गया.

  • Share this:
    मुंबई. महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में बारिश का कहर झेल रहे चिपलुन शहर में कोंकण रेलवे (केआर) लाइन पर क्षतिग्रस्त एक पटरी की मरम्मत के बाद रेल यातायात शुक्रवार शाम छह बजे तक बहाल हो सकता है. केआर के मुख्य प्रवक्ता एलके वर्मा ने बताया कि मूसलाधार बारिश और उसके बाद बाढ़ आने से चिपलुन और कामथे सेक्शन के बीच कई जगहों पर रेल की पटरियों के नीचे के रोड़े तथा तटबंध बह गए हैं. इसके बाद विभिन्न स्टेशनों पर कई ट्रेनों को रोका गया.

    कोंकण रेलवे के मुख्य प्रवक्ता वर्मा ने बताया कि केआर ने वशिष्ठी नदी के खतरे के निशान से ऊपर बहने के बाद एतहियाती कदम के तौर पर बृहस्पतिवार तड़के से चिपलुन और कामथे सेक्शन के बीच यातायात रोक दिया था. वर्मा ने बताया कि दादर-सावंतवाड़ी रोड दैनिक विशेष ट्रेन बृहस्पतिवार सुबह से ही चिपलुन स्टेशन पर खड़ी थी और अंजनी तथा चिपलुन स्टेशनों के बीच पटरी को ट्रेन की आवाजाही के लिए उचित घोषित करने के बाद उसे मुंबई लाया जा रहा है.



    ये भी पढ़ें : विशेषज्ञ बोले, अगर बड़े करें ये काम तो बच्‍चों का कुछ नहीं बिगाड़ पाएगी कोरोना की तीसरी लहर

    ये भी पढ़ें : कोरोना महामारी को फर्जी बताने वाले दिल्‍ली के डॉक्‍टर कोठारी के खिलाफ मामला दर्ज

    रेलवे अधिकारियों के मुताबिक, जब बाढ़ चरम पर थी तो पानी रेलवे के एक पुल तक पहुंच गया था और पुल के डूबने की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी थी. एक अधिकारी ने बताया कि पटरी को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है, लेकिन बाढ़ के पानी की तीव्रता के कारण कई स्थानों पर पटरियों के नीचे रोड़े और तटबंध बह गए हैं. उन्होंने बताया कि रेलवे लाइन की मरम्मत की गयी है.

    कोंकण रेलवे का रास्ता 756 किलोमीटर लंबा है और इस पर ट्रेनें मुंबई के समीप रोहा से लेकर मेंगलुरु के समीप ठोकुर तक चलती हैं. यह मार्ग तीन राज्यों महाराष्ट्र, गोवा और कर्नाटक तक फैला है और कई चुनौतीपूर्ण रास्तों से गुजरता है जिसमें कई नदियां, खाई और पर्वत हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज