महाराष्ट्र: सीएम ठाकरे के सलाहकार पर IT विभाग कस सकता है शिकंजा, फ्लैट डील की हो रही जांच- रिपोर्ट्स

कंपनी की बैलेंस शीट से कई अनियमितताएं सामने आई हैं. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

Ajoy Mehta IT Case: कागजातों से पता चला है कि मेहता की तरफ से 5.33 करोड़ रुपये में 1076 स्क्वायर फीट का फ्लैट खरीदा गया था. पहले यह प्रॉपर्टी अनामित्रा प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड (Anamitra Properties Pvt Ltd.) ने 4 करोड़ रुपये में 2009 में खरीदा था.

  • Share this:
    मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के सलाहकार और पूर्व नौकरशाह अजोय मेहता पर आयकर विभाग (Income Tax Department) शिकंजा कस सकता है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, विभाग ने नरीमन पॉइंट (Nariman Point) स्थित एक फ्लैट की डील के चलते मेहता को रडार पर रखा है. उन्हें फरवरी में ही महारेरा का अध्यक्ष बनाया गया था. उन्होंने अनामित्रा प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी से यह फ्लैट खरीदा था. जांच में पता चला है कि यह एक शेल कंपनी है.

    इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, आयकर विभाग के बेनामी सेक्शन की तरफ से इस बात की जानकारी दी गई है. जिस कंपनी से यह प्रॉपर्टी खरीदी गई है, उसके दो अंशधारक थे. ये दोनों मुंबई के एक चॉल में रहते हैं. रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि यह कंपनी इस फ्लैट की डील के लिए ही तैयार की गई थी. कंपनी की बैलेंस शीट से कई अनियमितताएं सामने आई हैं. साथ ही दोनों अंशधारकों ने रिटर्न भी दाखिल नहीं किया है.

    यह भी पढ़ें: Raj Kundra Arrested: वॉट्सऐप चैट से खुली राज कुंद्रा की 'कलई', ऐसे चल रहा था पोर्नोग्राफी का रैकेट!

    कागजातों से पता चला है कि मेहता की तरफ से 5.33 करोड़ रुपये में 1076 स्क्वायर फीट का फ्लैट खरीदा गया था. पहले यह प्रॉपर्टी अनामित्रा प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड ने 4 करोड़ रुपये में 2009 में खरीदा था. कंपनी के अंशधारक कामेश नथुनी सिंह के इसमें 99 फीसदी के मालिक हैं. उन्होंने अभी तक अपना आयकर रिटर्न नहीं भरा है. वहीं, दूसरे अंशधारक दीपेश सिंह रावत ने 2020-21 में केवल एक बार रिटर्न दाखिल किया था. इसमें उन्होंने अपनी आय 1 लाख 71 हजार 2 रुपये बताई थी.



    रिकॉर्ड्स से पता चलता है कि दोनों अंशधारकों की आय बहुत कम है और वे करोड़ों की संपत्ति नहीं खरीद सकते हैं. इंडिया टुडे से बातचीत में मेहता ने बताया, 'उस संपत्ति के मालिक को जानने का मेरे पास कोई कारण नहीं है. वह एक कानूनी डील थी, जिसमें पूरी प्रक्रिया का पालन किया गया है और मैंने बाजार की कीमत के हिसाब से भुगतान किया है. मैं एक करदाता हूं और मुझे नहीं पता कि यह सब कहां से सामने आ रहा है.'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.