Coronavirus: महाराष्ट्र में 6330 नए केस, 125 मौतें; सिर्फ मुंबई में 80 हजार से ज्यादा संक्रमित

Coronavirus: महाराष्ट्र में 6330 नए केस, 125 मौतें; सिर्फ मुंबई में 80 हजार से ज्यादा संक्रमित
मुंबई में कोरोना वायरस के मामले 80 हजार के पार चले गए हैं

मुंबई (Mumbai) में 24 घंटे में कोविड-19 (Covid-19) के 1554 केस आने के बाद संक्रमितों की संख्या 80,669 हो गई है. मुंबई में 57 मौतें हुई हैं जिसके बाद शहर में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 4689 हो गया है.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर तेजी से बढ़ रहा है. महाराष्ट्र में बीते एक दिन में 6330 नए केस सामने आए हैं जिसके बाद संक्रमितों की संख्या 1,86,626 हो गई है. राज्य में 125 मौतें हुई हैं जिसमें से 110 मौतें 24 घंटे के भीतर हुई हैं जबकि 15 मौतें इससे पहले हुई हैं. राज्य में अब तक 8178 मौतें हो चुकी हैं. इसके साथ ही राज्य में अब तक 10 लाख लोगों की जांच की जा चुकी है. मुंबई (Mumbai) में 24 घंटे में कोविड-19 (Covid-19) के 1554 केस आने के बाद संक्रमितों की संख्या 80,669 हो गई है. मुंबई में 57 मौतें हुई हैं जिसके बाद शहर में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 4689 हो गया है.

वहीं महाराष्ट्र के अमरावती (Amaravati) जिले में गुरुवार को कोरोना वायरस के 10 नए मामले सामने आए जिनमें 18 महीने का एक बच्चा भी शामिल है. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इन मामलों के साथ ही जिले में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 602 हो गयी है. जिला प्रशासन द्वारा जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार नए मामलों में छह मामले अशोकनगर इलाके के हैं जबकि शेष मामले जिले के अन्य क्षेत्रों से हैं.

ये भी पढ़ें- Covid-19: Aiims सहित दिल्ली के 5 बड़े अस्पतालों के 80 फीसदी वेंटिलेटर हुए फुल



बीड में आठ दिन के लिए कर्फ्यू
महाराष्ट्र के बीड शहर में कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार को रोकने के उद्देश्य से आठ दिनों के लिये कर्फ्यू लगा दिया गया है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. बीड के कलेक्टर राहुल रेखावर की ओर से बुधवार को जारी आदेश के अनुसार कर्फ्यू की अवधि में केवल आवश्यक वस्तुओं एवं आपात सेवाओं की अनुमति होगी. आदेश के अनुसार यह कर्फ्यू आठ जुलाई की मध्य रात्रि तक लागू रहेगा.

कलेक्टर ने अपने आदेश में कहा है कि इस अवधि में किसी भी व्यक्ति को शहर से बाहर जाने अथवा यहां प्रवेश करने की अनुमति नहीं होगी. हालांकि चिकित्सा सेवायें लगातार संचालित होती रहेंगी. इसमें कहा गया है कि आपात सेवाओं को अनुमति दी गयी है लेकिन अन्य निजी एवं सरकारी कार्यालय इस अवधि में बंद रहेंगे. उन्होंने बताया कि आपात सेवाओं में काम करने वाले पास धारकों को शहर में यात्रा की अनुमति होगी.

बॉम्बे हाईकोर्ट ने सरकार को दिया ये निर्देश
वहीं कैद में होने के बावजूद बंदियों के मानवाधिकार होने पर जोर देते हुए बंबई हाईकोर्ट ने गुरुवार को महाराष्ट्र सरकार के अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) तथा अन्य एजेंसियों के दिशानिर्देशों का पालन करें ताकि कैदियों की कोरोना वायरस से सुरक्षा हो सके.

मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति एम एस कार्णिक की पीठ ने यह निर्देश दिया और इसके साथ ही विभिन्न जनहित याचिकाओं का निस्तारण कर दिया. इन याचिकाओं में अनुरोध किया गया था कि मौजूदा महामारी के दौरान जेल में बंद कैदियों की सुरक्षा की जाए.

पीठ ने कहा कि सरकार को स्क्रीनिंग के साथ ही स्वच्छता पर ध्यान देना चाहिए और जेलों में सामाजिक दूरी आदि सुनिश्चित करनी चाहिए तथा संक्रमित कैदियों के स्वास्थ्य के बारे में परिवार के सदस्यों को जानकारी देते रहना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading