महाराष्ट्र के पालघर में 7 महीने के बच्चे की संदिग्ध मौत, कुछ घंटे पहले पी थी पोलियो की दवा

महाराष्ट्र के पालघर में एक बच्चे की पोलियो खुराक पीने के कुछ घंटे बाद मौत हो गई (सांकेतिक फोटो)
महाराष्ट्र के पालघर में एक बच्चे की पोलियो खुराक पीने के कुछ घंटे बाद मौत हो गई (सांकेतिक फोटो)

पुलिस (Police) ने इस मामले में एक दुर्घटना (Accident) का मुकदमा दर्ज कर लिया है और शिशु के शव को पोस्टमार्टम (Postmortem) के लिए भेज दिया गया है.

  • Share this:
पालघर. पुलिस (Police) ने बुधवार को बताया कि महाराष्ट्र (Maharashtra) के पालघर (Palghar) में एक जनजातीय परिवार (Tribal Family) से आने वाले सात महीने के बच्चे की संदिग्ध मौत हो गई. माता-पिता ने आरोप लगाया है कि पोलियो की बूंदें (Polio Drops) पिलाए जाने के बाद बच्चे की मौत हो गई. यह मामला महाराष्ट्र के पालघर जिले (Palghar District) के मोकादा तालुका की है.

मोकादा पुलिस स्टेशन (Mokada Police Station) के एसएचओ (Station House Officer- SHO) ने बताया कि बच्चे के माता-पिता (Parents) के मुताबिक बच्चे को मंगलवार की दोपहर पोलियो बूंदों (Polio Drops) की खुराक दी गई थी, जिसके बाद वह अगली सुबह जगा ही नहीं. इस मामले में एक दुर्घटना का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और शिशु के शव को पोस्टमार्टम (Postmortem) के लिए भेज दिया गया है.

सरकार और स्वास्थ्य एजेंसियों का मानना वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित
बार-बार स्वास्थ्य संगठन और सरकारें पोलियो की दवा (Polio Drops) के पूरी तरह से सुरक्षित होने का दावा करती रही हैं और कई स्वास्थ्य एजेंसियों ने इसकी पुष्टि भी की है लेकिन गाहे-बगाहे ऐसे केस सामने आते हैं, जिनमें पोलियो वैक्सीन के चलते बच्चे की मौत का दावा जाता है. हालांकि कई बार ऐसे दावे गलत भी साबित हुए हैं.
यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस के हवा में फैलने से न खबराएं, बचाव के लिए अपनाएं ये तरीका



बता दें कि इस मामले से पहले पालघर तब चर्चा में आ गया था जब 16-17 अप्रैल की रात दो साधुओं की उनके ड्राइवर के साथ पीट-पीटकर इस जिले में हत्या (Palghar Lynching) कर दी गई थी. ये साधु, अपने ड्राइवर के साथ गांव से गुजर रहे थे, तब लोगों को चोरों के आने का शक हुआ. अभी तक 100 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है और हत्या का मामला दर्ज किया जा चुका है. इस मामले में कई पुलिस कर्मियों को सस्पेंड किया गया था, जो लिंचिंग के समय मूकदर्शक बने रहे थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज