गाजीपुर बॉर्डर पहुंची महात्मा गांधी की पोती तारा गांधी, बोलीं- किसान के हित में देश का हित

तारा गांधी भट्टाचार्य ने कहा, हम यहां किसी राजनीतिक कार्यक्रम के तहत नहीं आए हैं. हम आज यहां किसानों के लिए आए हैं.

तारा गांधी भट्टाचार्य ने कहा, हम यहां किसी राजनीतिक कार्यक्रम के तहत नहीं आए हैं. हम आज यहां किसानों के लिए आए हैं.

गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों से तारा गांधी ने विरोध-प्रदर्शन के दौरान शांति बनाए रखने की अपील की. साथ ही, उन्होंने सरकार से कृषक समुदाय की सुध लेने का भी अनुरोध किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 13, 2021, 10:55 PM IST
  • Share this:
गाजियाबाद. महात्मा गांधी की पोती तारा गांधी भट्टाचार्य (Tara Gandhi) केंद्र के विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन करने के लिए शनिवार को गाजीपुर बॉर्डर (Farmers protest at Ghazipur) पहुंची. गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों से तारा गांधी ने विरोध-प्रदर्शन के दौरान शांति बनाए रखने की अपील की. साथ ही, उन्होंने सरकार से कृषक समुदाय की सुध लेने का भी अनुरोध किया.

उनके साथ गांधी स्मारक निधि के अध्यक्ष रामचंद्र राही, ऑल इंडिया सर्व सेवा संघ के प्रबंध न्यासी अशोक सरन, गांधी स्मारक निधि के निदेशक संजय सिंह और राष्ट्रीय गांधी संग्रहालय के निदेशक ए अन्नामलाई भी गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंचे थे.

किसानों की भलाई में देश की भलाई है

दिल्ली-उत्तर प्रदेश सीमा पर यहां गाजीपुर में प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे बीकेयू के बयान के मुताबिक तारा गांधी भट्टाचार्य ने कहा, 'हम यहां किसी राजनीतिक कार्यक्रम के तहत नहीं आए हैं. हम आज यहां किसानों के लिए आए हैं , जिन्होंने हम सभी को हमारे पूरे जीवन में अन्न दिया है.' उन्होंने प्रदर्शनकारियों से कहा, ‘‘हम आप सभी के चलते ही (जीवित) हैं. किसानों की भलाई में ही देश की ओर हम सब की भलाई है.’’
ये भी पढ़ें: Exclusive: राज्यसभा से दिनेश त्रिवेदी के इस्तीफे पर बोले TMC सांसद सौगत रॉय, वो ग्रास रूट के नेता नहीं हैं

ये भी पढ़ेंः- संयुक्त किसान मोर्चा का दावा- ट्रैक्टर रैली में शामिल 16 किसान अब भी लापता और 122 गिरफ्तार

Youtube Video




अंग्रेजों के शासन से मुक्ति की दिलाई याद

तारा गांधी ने अंग्रेजों के शासन से मुक्ति के लिए 1857 में हुए प्रथम स्वतंत्रा संग्राम को याद करते हुए कहा कि वह भी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मेरठ से ही शुरू हुआ था. बीकेयू के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक महात्मा गांधी की पोती ने कहा कि वह प्रदर्शन स्थल पर किसानों के लिए प्रार्थना करने आई हैं. उन्होंने कहा, 'मैं चाहती हूं कि जो कुछ हो, उसका फायदा किसानों को मिलना चाहिए. किसानों की कड़ी मेहनत से कोई भी व्यक्ति अनजान नहीं है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज