बड़ी सफलता : जम्मू-कश्मीर में सेना, CRPF और पुलिस के संयुक्त ऑपरेशन में लश्कर कमांडर ढेर

जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि यह आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के दौर से ही सक्रिय था (फाइल फोटो, ANI)
जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि यह आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के दौर से ही सक्रिय था (फाइल फोटो, ANI)

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह (DGP Dilbagh Singh) यह ऑपरेशन आतंकियों (Terrorists) के सुरक्षाबलों पर गोलीबारी (Shooting at Security Forces) से शुरू हुआ था. जो रात भर चलता रहा. इस दौरान आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड (Grenade) से भी हमला किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 28, 2020, 5:17 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में सुरक्षाबलों (Security Forces) के हाथ एक बड़ी सफलता लगी है. एक संयुक्त ऑपरेशन (Joint Operation) के दौरान जम्मू-कश्मीर में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) का एक आतंकी मार गिराया गया है. यह संयुक्त ऑपरेशन भारतीय सेना (Indian Army), सीआरपीएफ (CRPF) और पुलिस (Police) ने मिलकर चलाया था. मारे गये आतंकी (Terrorist) के बारे में जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह (DGP Dilbagh Singh) ने बताया कि यह आतंकी बुरहान वानी (Burhan Wani) के मारे जाने के दौर से ही सक्रिय था.

उन्होंने यह भी बताया कि यह ऑपरेशन आतंकियों (Terrorists) के सुरक्षाबलों पर गोलीबारी (Shooting at Security Forces) से शुरू हुआ था. जो रात भर चलता रहा. इस दौरान आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड (Grenade) से भी हमला किया था. डीजीपी ने यह भी कहा कि उन्हें आशा है कि इस आतंकी के मारे जाने से उन परिवारों (Families) को तसल्ली मिली होगी, जिनके घर के युवाओं को इसने आतंकी बनाया था.


रात भर चलता रहा ऑपरेशन
जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया, 'पिछली रात संबूरा में सीआरपीएफ, पुलिस और सेना के एक संयुक्त अभियान के दौरान आतंकियों ने हम पर गोलियां चलाईं और ग्रेनेड से हमला किया. सुरक्षाबलों ने इसका जवाब दिया, जिससे दोनों ओर से फायरिंग शुरू हो गई. यह ऑपरेशन रात भर चलता रहा. जिसके दौरान दो आतंकवादियों को मार गिराया गया है.'



यह भी पढ़ें: Drugs Probe- NCB के रडार पर 50 सेलिब्रिटी, बड़े एक्टर्स और प्रोड्यूसर भी शामिल

जम्मू-कश्मीर के डीजीपी ने यह भी कहा, 'मारे गये दो आतंकियों में से एक लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर था. जो बुरहान वानी को मारे जाने के दौर से ही सक्रिय था. मुझे आशा है कि जिन युवाओं को इसने भर्ती किया होगा और इस तरह से बर्बाद किया होगा, उनके परिवारों को यह जानकर तसल्ली मिलेगी कि इस आतंकी को मारा जा चुका है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज