अपना शहर चुनें

States

मालदा विस्फोट: भाजपा की केन्द्र से हस्तक्षेप की मांग, तृणमूल का घटना को सांप्रदायिक रंग देने का आरोप

तृणमूल कांग्रेस ने बीजेपी पर लगाया घटना को सांप्रदायिक रंग देने का आरोप (फाइल फोटो)
तृणमूल कांग्रेस ने बीजेपी पर लगाया घटना को सांप्रदायिक रंग देने का आरोप (फाइल फोटो)

Malda Blast: मालदा जिले के सुजापुर में गुरुवार, 19 नवंबर को प्लास्टिक की एक फैक्टरी में विस्फोट से छह लोगों की मौत हो गई थी. इस घटना के बाद भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच एक बार फिर आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया.

  • भाषा
  • Last Updated: November 20, 2020, 11:13 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विपक्षी दल भाजपा ने मालदा में हुए विस्फोट मामले में केन्द्र से हस्तक्षेप की मांग की और आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस (TMC) के राज में राज्य अवैध बम बनाने की फैक्टरी में तब्दील हो गया है. तृणमूल कांग्रेस ने इस तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि भाजपा 2021 में राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रही है.

गौरतलब है कि मालदा जिले के सुजापुर में बृहस्पतिवार, 19 नवंबर को प्लास्टिक की एक फैक्टरी में विस्फोट से छह लोगों की मौत हो गई थी. इस घटना के बाद भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच एक बार फिर आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया. भाजपा ने घटना की जांच राष्ट्रीय जांच एंजेंसी (एनआईए) से कराने की मांग की वहीं तृणमूल कांग्रेस ने घटना का राजनीतिकरण नहीं करने को कहा था.

भाजपा के राज्य इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा,‘हमारा मानना है कि मालदा विस्फोट जांच मामले में केन्द्र हस्तक्षेप करे. केवल केन्द्रीय एजेंसियां ही मामले की निष्पक्ष जांच कर सकती हैं. राज्य पुलिस मामले की जांच करने के बजाए इसे दबाने की कोशिश करेगी.’ उन्होंने संवाददाताओं से कहा,‘इस घटना के दोषी लोगों का पता लगाया जाना चाहिए और उन्हें दंडित किया जाना चाहिए.’ घोष ने कहा कि ‘केवल बंगाल ’में ही विस्फोट के मामले क्यों हो रहे हैं ? उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य अवैध बम निर्माण फैक्टरी में तब्दील हो गया है.



भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बृहस्पतिवार को कहा था कि पार्टी सच्चाई को सामने लाने के लिए मामले की एनआईए जांच कराने के वास्ते केन्द्रीय गृह मंत्रालय को पत्र लिखेगी. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अगुवाई वाली तृणमूल कांग्रेस पहले ही एनआईए जांच की जरूरत को खारिज कर चुकी है और उसने भाजपा पर चुनाव से पहले मामले को सांप्रदायिक रंग देने का आरोप लगाया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज