मालदीव ने फिर निभाई भारत की दोस्ती, SAARC समिट पर पाकिस्तान के मंसूबों पर फेरा पानी

मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ (news18 english via Reuters)
मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ (news18 english via Reuters)

SAARC विदेश मंत्रियों की बैठक में पाकिस्तान (Pakistan) ने एक बार फिर सार्क समिट (SAARC Summit) शुरू करने की बात कही, जिस पर मालदीव (Maldives) के हस्तक्षेप के बाद इसे दोबारा रोक दिया गया. बता दें कि ये समिट साल 2016 में इस्लामाबाद (Islamabad) में होनी थी, लेकिन तब से अभी तक इस पर रोक जारी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 26, 2020, 12:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मालदीव (Maldives) ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि वह भारत (India) का सबसे नजदीकी दोस्त है. इस साल की शुरुआत में मालदीव ने आईआईसी में भारत का साथ देने के बाद अब सार्क देशों (SAARC countries) की बैठक में पाकिस्तान (Pakistan) के मंसूबों पर पानी फेर दिया है. SAARC विदेश मंत्रियों की बैठक में पाकिस्तान ने एक बार फिर सार्क समिट शुरू करने की बात कही, जिस पर मालदीव के हस्तक्षेप के बाद इसे दोबारा रोक दिया गया. बता दें कि ये समिट साल 2016 में इस्लामाबाद में होनी थी, लेकिन तब सक अभी तक इस पर रोक जारी है.

मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने कहा है कि ये समय पाकिस्तान के SAARC समिट की मेजबानी करने का नहीं है. शाहिद ने कहा कि अभी पूरी दुनिया कोरोना से जंग लड़ रही है, ऐसे समय में इस तरह की समिट पर चर्चा करना ठीक नहीं है. मालदीव के सार्क समिट पर सवाल उठाने के बाद पाकिस्तान की मेजबानी का प्रस्ताव सहमति नहीं बन पाने के कारण गिर गया.


इसे भी पढ़ें :- चीन के 'कर्ज ट्रैप' में फंसे मालदीव को भारत ने दी 25 करोड़ डॉलर की मदद




बता दें कि पाकिस्तान साल 2016 से ही इस्लामाबाद में सार्क समिट कराने की कोशिश कर रहा है, लेकिन भारत के विरोध के चलते उसके मंसूबे कामयाब नहीं हो पा रहे हैं. दरअसल साल 2016 के बाद भारत में उरी, पठानकोट और पुलवामा जैसे आतंकी हमले हुए थे, जिसे देखते हुए भारत ने पाकिस्तान के साथ सभी तरह के संबंध पूरी तरह से खत्म कर लिए हैं. इसके बाद से लगातार भारत पाकिस्तान में होने वाली सार्क समि​ट का बहिष्कार कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज