अपना शहर चुनें

States

मालेगांव धमाका: लगातार दूसरी बार अदालत से गायब रहीं प्रज्ञा ठाकुर, वकील बोले- AIIMS में हैं भर्ती

एनआईए की विशेष अदालत में प्रज्ञा के वकील ने कहा कि वो AIIMS में भर्ती हैं.  (File pic)
एनआईए की विशेष अदालत में प्रज्ञा के वकील ने कहा कि वो AIIMS में भर्ती हैं. (File pic)

Malegaon Blast: मामले को लेकर शनिवार को विशेष अदालत में सुनावाई की जानी थी. इस दौरान लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित, रमेश उपाध्याय, समीर कुलकर्णी, अजय रैकर और सुधाकर द्विवेदी अदालत के सामने पेश हुए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 20, 2020, 11:22 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. साल 2008 में मालेगांव धमाके (Malegaon Blast) में आरोपी बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Pragya Singh Thakur) शनिवार को दूसरी बार भी विशेष एनआईए अदालत (NIA Court) में पेश नहीं हुईं. उन्होंने इसका कारण स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों को बताया है. गौरतलब है कि अदालत में मामले को लेकर सुनवाई जारी है. इससे पहले भी ठाकुर अदालत अनुपस्थित रहीं थीं. उन्हें शुक्रवार शाम दिल्ली के एम्स (Delhi AIIMS) में भर्ती कराया गया था.

बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर के वकील जेपी मिश्रा ने बताया 'ठाकुर का अप्रैल के बाद से दिल्ली एम्स में इलाज चल रहा है.' उन्होंने जानकारी दी 'वह अस्पताल में चैकअप कराने गईं थीं और शुक्रवार को मेडिकल रिपोर्ट के चलते डॉक्टरों को उन्हें भर्ती करना पड़ा.' साध्वी प्रज्ञा के अलावा मामले में एक और आरोपी सुधाकर चतुर्वेदी भी निजी कारणों के चलते अदालत के सामने पेश नहीं हुए थे. अदालत ने सभी सातों आरोपियों को 4 जनवरी को पेश होने के आदेश दिए हैं.

यह भी पढ़ें: BJP सांसद साध्‍वी प्रज्ञा का विवादित बयान, कहा- शूद्र को शूद्र कह दो तो बुरा लग जाता है...



मामले को लेकर शनिवार को विशेष अदालत में सुनावाई की जानी थी. इस दौरान लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित, रमेश उपाध्याय, समीर कुलकर्णी, अजय रैकर और सुधाकर द्विवेदी अदालत के सामने पेश हुए. इससे पहले अदालत ने सभी सातों आरोपियों को 3 दिसंबर को पेश होने के आदेश दिए थे. इस दौरान भी कुलकर्णी, रैकर और पुरोहित अदालत पहुंचे थे. जबकि, ठाकुर, उपाध्याय, द्विवेदी और चतुर्वेदी गायब थे.

आरोपियों के वकीलों ने जानकारी दी थी कि वे महामारी के चलते अदालत के सामने पेश नहीं हो सके. इसके बाद कोर्ट ने 19 दिसंबर को अदालत में पेश होने के आदेश दिए थे. 29 सितंबर 2008 में हुए धमाके में 6 लोगों की जान चली गई थी और 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे. यह धमाका नाशिक के पास मालेगांव में हुआ था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज