ममता बनर्जी का दावा- एक लाख से अधिक गोरखा लोग NRC से रह गये बाहर

भाषा
Updated: September 1, 2019, 5:22 PM IST
ममता बनर्जी का दावा- एक लाख से अधिक गोरखा लोग NRC से रह गये बाहर
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (mamata banerjee ) ने बड़ी संख्या में बंगालियों के सूची से बाहर रह जाने पर चिंता प्रकट की थी.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (mamata banerjee ) ने बड़ी संख्या में बंगालियों के सूची से बाहर रह जाने पर चिंता प्रकट की थी.

  • Share this:
पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee ) ने रविवार को कहा कि वह यह जानकर स्तब्ध हैं कि एक लाख से अधिक गोरखा लोग इस सूची से बाहर रह गये.

तृणमूल कांग्रेस (TMC) सुप्रीमो ने इस बात पर बल दिया कि ‘सभी भारतीय भाइयों और बहनों के साथ इंसाफ होना चाहिए.’ पार्टी की ओर से जारी एक बयान में उन्होंने कहा, 'पहले मैं एनआरसी अस्त व्यस्तता से अनजान थी. जैसे-जैसे और सूचनाएं आ रही हैं हम यह देखकर स्तब्ध हैं कि एक लाख से अधिक गोरखा लोगों के नाम सूची से बाहर हैं.'

उन्होंने कहा, 'वाकई, हजारों-हजार असली भारतीयों के नाम सूची से बाहर रह गये हैं जिनमें सीआरपीएफ और अन्य जवान तथा पूर्व राष्ट्रपति फकरूद्दीन अली अहमद के परिवार के सदस्य भी हैं.' अपडेटेड राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) शनिवार को जारी किया गया जिसमें असम में असली भारतीय नागरिकों की पहचान की गयी है.

NRC ने कही ये बात

एनआरसी के राज्य संयोजक कार्यालय के एक बयान में कहा गया है कि कुल 3,30,27,661 लोगों ने सूची में शामिल होने के लिए आवेदन दिया था. उनमें से 19,06,657 को बाहर छोड़ दिया गया है. बनर्जी ने कहा, 'सरकार को अवश्य ही यह देखना चाहिए कि असली भारतीय सूची से बाहर न रह जाए और सभी असली भारतीय भाइयों एवं बहनों को इंसाफ मिले.'

शनिवार को मुख्यमंत्री ने बड़ी संख्या में बंगालियों के सूची से बाहर रह जाने पर चिंता प्रकट की थी. अपडेटेड अंतिम एनआरसी को ‘अस्त व्यस्त’ करार देते हुए उन्होंने कहा था कि उससे वे लोग बेनकाब हो गये हैं जो इस कवायद का राजनीतिक लाभ लेने का प्रयास कर रहे थे.

यह भी पढ़ें:  बंगाल : BJP-TMC कार्यकर्ताओं में झड़प, सांसद का सिर फूटा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 1, 2019, 3:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...