राहत फंड से नाखुश ममता बनर्जी, कहा- अम्‍फान से भी अधिक प्रचंड हो सकता है यास तूफान

ममता बनर्जी ने राहत फंड की राशि को लेकर केंद्र सरकार को घेरा. (File pic)

ममता बनर्जी ने राहत फंड की राशि को लेकर केंद्र सरकार को घेरा. (File pic)

Yaas Cyclone: ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने कहा कि यास चक्रवात से मुकाबले के लिए केंद्र सरकार ने अग्रिम सहायता राशि के तौर पर केवल 400 करोड़ रुपये को मंजूरी दी है जबकि ओडिशा और आंध्र प्रदेश को 600 करोड़ रुपये दिए जा रहे हैं.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने यास तूफान (Yaas Cyclone) को लेकर चिंता व्‍यक्‍त करते हुए सोमवार को कहा कि राज्य सरकार ने चक्रवात यास से निपटने के लिए सभी आवश्यक प्रबंध किए हैं, जो राज्य के 20 जिलों को प्रभावित कर सकता है. यह तूफान अम्‍फान (Amphan Cyclone) से भी अधिक प्रचंड हो सकता है. मुख्‍यमंत्री ने कहा कि राज्य किसी भी नुकसान से बचने के लिए कम से कम 10 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजने का लक्ष्य बना रहा है. हालांकि ममता बनर्जी ने केंद्र द्वारा आवंटित राहत फंड को कम बताते हुए भेदभाव का आरोप लगाया है.

वहीं भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने चक्रवात के 26 मई को अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में दोपहर के आसपास पारादीप और सागर द्वीप के बीच उत्तर ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तटों को पार करने का अनुमान जतया है. इस दौरान 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटे से चल रही हवाओं के 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की भी आशंका जताई गई है.

Youtube Video

मुख्‍यमंत्री ममता बर्जी ने कहा कि अभी तक हमें जो जानकारी मिली है उसके अनुसार चक्रवात यास का प्रभाव अम्फान से कहीं अधिक होने वाला है. यह पश्चिम बंगाल के कम से कम 20 जिलों को प्रभावित करने वाला है. कोलकाता, उत्तर और दक्षिण 24 परगना व पूर्व मेदिनीपुर जिले गंभीर रूप से प्रभावित होंगे.
उन्होंने कहा कि हावड़ा, हुगली, बांकुरा, बीरभूम, नदिया, पश्चिम और पूर्व बर्धमान, पश्चिम मेदिनीपुर, मुर्शिदाबाद, झारग्राम, पुरुलिया जिले भी चक्रवात से प्रभावित होंगे. मालदा, उत्तर और दक्षिण दिनाजपुर, दार्जिलिंग और कलिम्पोंग में बारिश की आशंका है. उन्होंने कहा कि यह आपदा 72 घंटे तक रहेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा, 'राज्य सरकार ने तटीय क्षेत्रों में सभी प्रकार के पर्यटन के साथ-साथ समुद्र में मछली पकड़ने की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया है.'

ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि यास चक्रवात से मुकाबले के लिए केंद्र सरकार ने अग्रिम सहायता राशि के तौर पर केवल 400 करोड़ रुपये को मंजूरी दी है जबकि पश्चिम बंगाल की तुलना में कम जनसंख्या घनत्व वाले राज्यों जैसे कि ओडिशा और आंध्र प्रदेश को 600 करोड़ रुपये दिए जा रहे हैं.



केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों व अंडमान निकोबार द्वीप समूह के उपराज्यपाल की बैठक के बाद बनर्जी ने कहा कि उनके राज्य में जनसंख्या घनत्व अधिक है और बंगाल के साथ लगातार भेदभाव किया जा रहा है.

ममता बनर्जी ने कहा, 'गृह मंत्री ने मुझे बताया कि इस मसले पर बाद में चर्चा की जाएगी. उन्होंने कहा कि यह वैज्ञानिक दृष्टिकोण पर निर्भर करता है. मैंने इस पर कोई जवाब नहीं दिया क्योंकि मुझे राजनीति विज्ञान की समझ है लेकिन इस विषय की नहीं.'

ममता बनर्जी ने कहा, ' सुबह अमित शाह जी के साथ बैठक हुई. यास चक्रवात से मुकाबले के लिए केंद्र की ओर से ओडिशा और आंध्र प्रदेश को 600 करोड़ रुपये से अधिक दिया जा रहा है और बंगाल को केवल 400 करोड़ रुपये दिए जा रहे हैं. यह अग्रिम राशि है जो राज्यों को मिलने वाली है.'

उन्होंने कहा, 'बैठक में मैंने जानना चाहा कि जनसंख्या घनत्व और जिलों के मामले में ओडिशा व आंध्र से बड़े राज्य बंगाल को कम पैसा क्यों दिया जा रहा है? हमें लगातार वंचित क्यों रखा जा रहा है?' बनर्जी ने कहा कि शाह ने पूरा सहयोग देने का वादा किया था लेकिन जब राज्यों को अग्रिम राशि देने की घोषणा करने की बात आई तब बंगाल को कम दिया गया.


उन्होंने कहा, 'जिला प्रशासन और पुलिस को किसी भी तरह की जान-माल की हानि को रोकने के लिए निर्देशों का उल्लंघन करने वालों से सख्ती से निपटने के लिए कहा गया है.' सीएम ने कहा कि विशेषज्ञों द्वारा अनुमानित तबाही को ध्यान में रखते हुए कम से कम 51 आपदा प्रबंधन टीमों को तैयार किया गया है. उन्होंने कहा कि 13 स्थानों पर फेरी सेवाएं बंद कर दी गई हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज