पीएम मोदी बोले- साल में एक-दो कुर्ते और बंगाली मिठाई भेजती हैं ममता बनर्जी

पीएम ने कहा कि बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना जी साल में 3-4 बार खास तौर पर ढाका से मिठाई भेजती हैं. ममता दीदी को जब यह पता चला तो वो भी साल में एक-दो बार मिठाई जरूर भेज देती हैं.

News18Hindi
Updated: April 24, 2019, 1:39 PM IST
News18Hindi
Updated: April 24, 2019, 1:39 PM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार को दिए एक खास इंटरव्यू में खुद से जुड़ी कई निजी बातें शेयर की हैं. राजनीति और देश की बातों से इतर जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी जिंदगी और उससे जुड़े कई पहलुओं पर बात की.

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लेकर पीएम ने कहा कि ममता दीदी साल में आज भी मेरे लिए एक-दो कुर्ते भेजती हैं. बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना जी साल में 3-4 बार खास तौर पर ढाका से मिठाई भेजती हैं. ममता दीदी को पता चला तो वो भी साल में एक-दो बार मिठाई जरूर भेज देती हैं.

ये भी पढ़ें- सेना में भर्ती होना चाहते थे पीएम मोदी, वर्दी में सैनिकों को देखकर करते थे सैल्यूट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अक्षय को बताया कि मैं आम खाता हूं और मुझे आम पसंद भी है. अभी सोचनाा पड़ता है कि आम खांऊ कि न खाऊं. वैसे जब मैं छोटा था तो हमारे परिवार की स्थिति ऐसी नहीं थी की खरीद कर खा सकें. लेकिन हम खेतों में चले जाते थे और वहां पेड़ के पके आम खाते थे. किसान खेत में आम खाने वालों को रोकता नहीं था.

सेना में भर्ती होना चाहते थे पीएम मोदी

पीएम ने अक्षय को बताया कि कभी मेरे मन में प्रधानमंत्री बनने का विचार नहीं आया और सामान्य लोगों के मन में ये विचार आता भी नहीं हैं. पीएम मोदी ने कहा कि मेरा जो फैमिली बैकग्राउंड हैं उसमें मुझे कोई छोटी नौकरी मिल जाती तो मेरी मां उसी में पूरे गांव को गुड़ खिला देती. मैं 1962 के बाद से सेना में जाना चाहता था. पीएम ने बताया कि बचपन में मेरा स्वाभाव था किताबें पढ़ना, मैं बड़े-बड़े लोगों का जीवन पढ़ता था. कभी फ़ौज वाले निकलते थे तो बच्चों की तरह खड़ा होकर उन्हें सेल्यूट करता था.

ये भी पढ़ें- पीएम नरेंद्र मोदी पहनते हैं उल्टी घड़ी, जानें वजह
Loading...

गुस्सा आने के सवाल पर पीएम मोदी ने कहा कि मैं इतने लम्बे समय तक मुख्यमंत्री रहा लेकिन मुझे कभी गुस्सा व्यक्त करने का अवसर नहीं आया. मैं सख्त हूं, अनुशासित हूं लेकिन कभी किसी को नीचा दिखाने का काम नहीं करता. अक्सर कोशिश करता हूं कि किसी काम को कहा तो उसमें खुद इन्वॉल्व हो जाऊं. सीखता हूं और सिखाता भी हूं और टीम बनाता चला जाता हूं.

पीएम ने कहा मैं लोगों को प्रेरित करने की कोशिश करता हूं. पीएम ने बताया कि अगर मैं प्रधानमंत्री बनकर घर से निकला होता, तो मेरा मन रहता की सब वहीं रहे. लेकिन मैंने बहुत छोटी उम्र में घर छोड़ दिया था और इसलिए लगाव, मोहमाया सब मेरी ट्रेनिंग के कारण छूट गया.

पीएम मोदी ने बताया कि मेरे आसपास एक वर्क कल्चर डेवलप होता है. मैंने ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट में ही जिंदगी खपाई है. हां, मैं काम के वक्त काम में रहता हूं. समय नहीं खराब करता हूं. पीएम ने कहा कि मैं कभी किसी से मिलता हूं तो मेरा कभी कोई फोन नहीं आता है. मैंने खुद को जीवन को ऐसा अनुशासित बनाया है. जहां तक ह्यूमर का सवाल है तो मेरे परिवार में मैं हमेशा पिता जी की नाराज होते थे तो पूरे माहौल को हल्का कर देता था.

कम नींद के सवाल पर पीएम मोदी ने दिया ये जवाब

पीएम ने कहा कि सभी यही कहते हैं कि मैं नींद बढ़ाऊं. पीएम मोदी ने कहा कि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अच्छे दोस्त हैं वह भी मेरी नींद को लेकर चिंतित रहते हैं. राष्ट्रपति ओबामा जब मुझे मिले तो वो भी सबसे पहले इसी को लेकर उलझ गए. बोले मोदी जी क्यों ऐसा करते हैं. हम दोनों अच्छे दोस्त हैं तू-तारी करके बुलाते हैं एक दूसरे को. तो बोले तू ऐसा क्यों करता है तुझे आज पता नहीं है, ये तेरा नशा है काम का तुम करते रहोगे लेकिन तुम अपना नुकसान कर रहे हो और वो जब भी मिलते हैं कहते हैं तुम मेरी बात मानते हो कि नहीं मानते हो, नींद बढ़ाई कि नहीं बढ़ाई. अब पता नहीं मेरा बॉडी साइकिल ऐसा हो गया है कि कम समय में मेरी नींद पूरी हो जाती है. पीएम ने कहा कि मैं रिटायमेंट के बाद नींद बढ़ाने के बारे में सोचूंगा.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी के सामने अक्षय कुमार ने क्यों की 'बॉक्सिंग बैग' की बातें ?

पीएम मे कहा कि जब मैं गुजरात से CM बना तो मेरा बैंक अकाउंट नहीं था. जब MLA बना तो सैलरी आने लगी. स्कूल में देना बैंक के लोग आए थे. उन्होंने बच्चों को गुल्लक दिया और कहा कि इसमें पैसे जमा करें और बैंक में जमा कर दें. लेकिन हमारे पास होता तब तो डालते. तब से अकाउंट यूं ही पड़ा रहा.

पीएम मोदी ने सुनाया चुटकुला

पीएम ने कहा कि हमारे यहां एक चुटकुला चलता है, एक बार स्टेशन पर एक ट्रेन आयी तो ऊपर लेटे हुए एक यात्री ने पूछा की कौनसा स्टेशन आया है? तो बताने वाले ने कहा की 4 आना दोगे तो बताऊंगा, वो यात्री बोला भाई बताने की जरुरत नहीं है मैं समझ गया अहमदाबाद आ गया है.

पीएम ने बताया कैसे रखते हैं खुद को फिट

पीएम मोदी ने बताया कि मैं कुछ साल पहले पैदल कैलाश यात्रा पर गया था. उस वक्त मेरे पास कैस्टरऑयल था मैं उसे ही लगाता था. 5-6 दिन बार मेरे साथ के लोग त्वचा जल जाने की वजह से परेशान थे. मुझे कोई परेशानी नहीं थी. तब उन्होंने मुझसे पूछा कि आप कि क्या करते हैं तब मैंने उन्हें बताया कि मैं कैस्टर ऑयल लगाता हूं तब से वह लोग रोज़ मेरे पास कैस्टर ऑयल लेने आने लगे.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी ने अक्षय कुमार को बताया, कैसे बनें 'गुड बॉस'

इस तरह जूतों को सफेद रखते थे पीएम मोदी

पीएम मोदी ने बताया कि सीएम बनने तक मैं कपड़े खुद धोता था. सिर्फ एक बैग में मेरे कपड़े रहते थे. लंबी आस्तीन के कुर्ते बैग में जगह ज्यादा लेते थे तो मैं खुद उसकी आस्तीन काट देता था.

बचपन मेरा गरीबी में गुज़रा ऐसे में मैं लोटे में गरम कोयला भरकर अपने कपड़े प्रेस किया करता था. पीएम ने बताया कि बचपन में उनके पास जूते नहीं थे. एक बार उनके मामा ने उन्हें कैनवस के सफेद जूते लाकर दिए. पीएम मोदी ने बताया कि क्लास में जब टीचर चॉक का छोटा हिस्सा इस्तेमाल करके फेंक देती थीं. तो क्लास के बाद मैं उसे इकट्ठा कर लेता था और उसे रगड़कर अपने जूते चमका लेता था. पीएम ने बताया कि मैं सामने वाले का सम्मान करने के लिए उल्टी घड़ी पहनता हूं.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी ने अक्षय कुमार के चुटकुले पर जमकर लगाए ठहाके, देखें Video

अलादीन का चिराग मिले तो ये काम करेंगे मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगर मुझे अलादीन का चिराग मिल जाये तो मैं उसे कहूंगा की ये जितने भी समाजशास्त्री और शिक्षाविद् हैं उनके दिमाग में भर दो कि वो आने वाली पीढ़ियों को ये अलादीन के चिराग वाली थ्योरी पढ़ानी बंद कर दें. उन्हें मेहनत करने की शिक्षा दें.

पीएम ने बताया कि मैं सोशल मीडिया जरूर देखता हूं इससे मुझे बाहर क्या चल रहा है इसकी जानकारी मिलती है. पीएम ने अक्षय से चुटीले अंदाज में कहा कि मैं आपका भी और टविंकल खन्ना जी का भी ट्विटर देखता हूं और जिस तरह वो मुझ पर गुस्सा निकालती हैं तो मैं समझता हूं की इससे आपके परिवार में बहुत शांति रहती होगी.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी ने नहीं देखी है अक्षय कुमार की कोई भी फिल्म, बताया अपना पसंदीदा गीत

पीएम ने अक्षय से कहा कि मैंने आपकी टॉयलेट एक प्रेम कथा नाम की आपकी फिल्म देखने के लिए लोगों को कहा था, क्योंकि वो एक सामाजिक मुद्दे पर बनी फिल्म थी. पीएम ने कहा हमारे देश में बीमारी सबसे बड़ा मुद्दा है और उससे बचने के दो ही तरीके हैं स्वच्छता और फिटनेस.

शाम 6 बजे चाय पीते हैं पीएम मोदी

पीएम मोदी ने बताया कि शाम को 6 बजे उन्हें चाय पीना बहुत पसंद है. उन्होंने कहा कि मुझे खुले आसमान के नीचे चाय पीना पसंद है. पीएम ने कहा कि मैं कभी दिवाली नहीं मनाता था. 5 दिनों के लिए पानी लेकर किसी ऐसी जगह चला जाता था जहां कोई भी न हो. मैं अपने साथ कागज पेन अखबार कुछ नहीं रखता था. मेरे उस कार्यक्रम का नाम था 'मैं मुझसे मिलने जाता हूं.' ऐसा करने से मुझे बहुत ताकत मिलती थी.

अक्षय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहा कि आपके और मेरे बारे में एक बार समान है आप चाय बेचते थे मैं वेटर था. आपका भी कोई गॉडफादर नहीं रहा मेरा भी नहीं था. इस पर पीएम ने बताया कि उन्होंने चाय बेचते हुए काफी कुछ सीखा. पीएम ने कहा कि मैं अच्छी हिंदी बोलता था ये देखकर लोगों को हैरानी होती थी. मैंने चाय बेचने के दौरान मारवाड़ियों से हिंदी बोलनी सीखी.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 24, 2019, 9:31 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...