लाइव टीवी

तोड़फोड़ करने वालों को ममता की चेतावनी- कानून अपने हाथ में मत लीजिए होगी कड़ी कार्रवाई

भाषा
Updated: December 15, 2019, 4:34 AM IST
तोड़फोड़ करने वालों को ममता की चेतावनी- कानून अपने हाथ में मत लीजिए होगी कड़ी कार्रवाई
ममता बनर्जी ने कहा कि संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ राज्य में विभिन्न स्थानों पर होने वाली हिंसक प्रदर्शन और तोड़फोड़ को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने शनिवार को दूसरी बार बयान जारी कर कहा, ‘मैं फिर आप सबसे अपील करती हूं कि हिंसा नहीं करें और लोक व्यवस्था में बाधा नहीं डालें तथा शांति बनाएं रखें.’

  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने हिंसक प्रदर्शन करने वालों को चेतावनी दी है. उन्होंने कहा है कि संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ राज्य में विभिन्न स्थानों पर होने वाली हिंसक प्रदर्शन और तोड़फोड़ को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी. बनर्जी ने लोगों से शांति बनाये रखने और लोकतांत्रिक तरीके से प्रदर्शन करने की अपील की.

वहीं विपक्षी पार्टियों ने तृणमूल कांग्रेस सरकार पर स्थिति को नियंत्रित करने के लिए कुछ नहीं करने और राज्य को जलने देने का आरोप लगाया. मुख्यमंत्री ने शनिवार को दूसरी बार बयान जारी कर कहा, ‘मैं फिर आप सबसे अपील करती हूं कि हिंसा नहीं करें और लोक व्यवस्था में बाधा नहीं डालें तथा शांति बनाएं रखें.’

संपत्तियों का नुकसान पर होगी कड़ी कार्रवाई
उन्होंने कहा, सरकारी और निजी संपत्ति में किसी भी तरह की तोड़फोड़ को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और कानून के मुताबिक सख्ती से निपटा जाएगा. बनर्जी ने कहा, ‘कानून अपने हाथ में मत लीजिए. सड़क और रेल यातायात जाम मत कीजिए. सड़कों पर आम लोगों के लिए परेशानी खड़ी मत कीजिए.’

उन्होंने कहा, ‘ जो लोग परेशानियां खड़ी करने के दोषी पाये जायेंगे, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.’ मुख्यमंत्री ने दोहराया कि संशोधित नागरिकता कानून और प्रस्तावित देशव्यापी एनआरसी का राज्य में कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. विपक्षी बीजेपी और माकपा ने बनर्जी की अपील पर तीखी प्रक्रिया देते हुए कहा कि राज्य सरकार हालात पर काबू पाने में नाकाम रही है.

बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने कहा कि अगर ऐसी स्थिति रहती है तो पार्टी के पास राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग करने के सिवाए कोई और विकल्प नहीं रह जाएगा. माकपा के राज्य सचिव सूर्य कांत मिश्रा ने आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस ने जानबूझकर स्थिति को काबू करने के लिए कुछ नहीं किया.

ये भी पढ़ें: नागरिकता कानून पर प्रदर्शन: मध्य रेलवे ने की हावड़ा आने-जाने वाली ट्रेनें रद्द

नागरिकता कानून का विरोध, पीएम मोदी और अमित शाह से मिलेंगे असम के सीएम सोनोवाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 15, 2019, 4:34 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर