ममता बनर्जी और आदित्य ठाकरे ने PM मोदी को NEET-JEE परीक्षाएं टालने के लिए पत्र लिखा

ममता बनर्जी और आदित्य ठाकरे ने PM मोदी को NEET-JEE परीक्षाएं टालने के लिए पत्र लिखा
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी की फाइल फोटो

रविवार को देश भर से छात्रों ने मांग की थी कि कोविड-19 (Covid-19) के बढ़ते मामलों को देखते हुए सीबीएसई (CBSE) के कंपार्टमेंट की परीक्षाएं रद्द की जाएं और यूजीसी-नेट, क्लैट, एनईईटी और जेईई की प्रवेश परीक्षाएं स्थगित की जाएं. इसके लिए ट्विटर (Twitter) पर अभियान भी चलाया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 24, 2020, 6:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (West Bengal's CM Mamata Banerjee) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को पत्र लिखकर NEET और JEE परीक्षा स्थगित करने के लिए अपील की है. ये परीक्षाएं, सितंबर में आयोजित होने वाली हैं. वहीं महाराष्ट्र (Maharashtra) के पर्यटन मंत्री और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे (Aditya Thackrey) ने भी NEET और JEE परीक्षा को स्थगित करने के लिए पीएम मोदी (PM Modi) को पत्र लिख गुजारिश की है. उन्होंने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी. उन्होंने अपने पत्र को एक ट्वीट (Tweet) में शेयर करते हुए लिखा, "विभिन्न स्ट्रीम की प्रस्तावित परीक्षाओं और प्रवेश परीक्षाओं से भारत भर के स्टूडेंट्स (students) और परिवारों को होने वाले स्वास्थ्य के जोखिम को लेकर मैंने माननीय प्रधानमंत्री को (पत्र) लिखा है. और उनके निजी हस्तक्षेप के लिए कहा है."

इससे पहले रविवार को देश भर से छात्रों ने मांग की थी कि कोविड-19 (Covid-19) के बढ़ते मामलों को देखते हुए सीबीएसई (CBSE) के कंपार्टमेंट की परीक्षाएं रद्द की जाएं और यूजीसी-नेट, क्लैट, एनईईटी और जेईई की प्रवेश परीक्षाएं स्थगित की जाएं. परीक्षाओं को रद्द करने की मांग करते हुए 4000 से अधिक छात्रों ने दिन भर की भूख हड़ताल में हिस्सा लिया था. कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Congress Leader Rahul Gandhi) ने भी कहा था कि सरकार को छात्रों के ‘मन की बात’ सुननी चाहिए और ‘किसी स्वीकार्य समाधान’ पर पहुंचना चाहिए. उनकी पार्टी ने मांग की कि राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) और संयुक्त प्रवेश परीक्षा (JEE) टाल दी जानी चाहिए था.

स्टूडेंट्स ने ट्विटर पर मुहिम चलाकर की परीक्षाएं टालने की मांग
वामपंथी दलों के समर्थन वाले ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (AISA) ने छात्रों की मांगों के प्रति एकजुटता दर्शाई है. आईसा के मुताबिक 4200 से अधिक छात्रों ने अपने घरों पर दिन भर की भूख हड़ताल करते हुए दसवीं और 12वीं कक्षाओं के सीबीएसई के कंपार्टमेंट की परीक्षाएं और यूजीसी-नेट, क्लैट, एनईईटी और जेईई को स्थगित करने की मांग की.
छात्रों ने ट्विटर पर ‘कोविड में परीक्षा के खिलाफ सत्याग्रह’ हैशटैग से मुहिम चला रखी है और सरकार से मांगों पर ध्यान देने की अपील की है.



यह भी पढ़ें: कोविड-19 के एक्टिव केस से 3 गुना अधिक लोग हुए रिकवर, गिरकर 1.85% हुई मृत्युदर

कर्नाटक से जेईई के उम्मीदवार मनोज एस. ने कहा, ‘‘हमें सुबह सात बजे जेईई परीक्षा केंद्र पर रिपोर्ट करनी है. मेरा केंद्र करीब 150 किलोमीटर दूर है और वर्तमान में ट्रेन या बस की सेवाएं उपलब्ध नहीं हैं. मेरे कई दोस्तों ने बताया कि उनके परीक्षा केंद्र 200 से 250 किलोमीटर दूर हैं. हम कैसे यात्रा करेंगे? हम सात से आठ घंटे तक मास्क पहनकर परीक्षा कैसे देंगे?’’ उन्होंने सरकार से अपील की कि स्थिति सामान्य होने तक परीक्षाएं स्थगित की जाएं. (भाषा के इनपुट सहित)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज