• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • ममता बनर्जी गोवा जाएंगी... समुद्र के किनारे भाजपा को चुनौती देने की तैयारी

ममता बनर्जी गोवा जाएंगी... समुद्र के किनारे भाजपा को चुनौती देने की तैयारी

पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी. (File pic)

पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी. (File pic)

बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamata Banerjee) गोवा (Goa) जाने की योजना बना रही हैं. उनका गोवा में बीच के किनारे छुट्टी मनाने का कोई इरादा नहीं है, बल्कि तृणमूल कांग्रेस (trinamool congress) अब माछेर झोल की जगह गोवा की फिश करी खाने का मन बना रही है. तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) इस राज्य में चुनाव लड़ने की तैयारी में है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamata Banerjee) गोवा (Goa) जाने की योजना बना रही है और उनकी गोवा में बीच के किनारे छुट्टी मनाने का कोई इरादा नहीं है. बल्कि तृणमूल कांग्रेस (trinamool congress) अब माछेर झोल की जगह गोवा की फिश करी खाने का मन बना रही हैं. तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) इस राज्य में चुनाव लड़ने की तैयारी में है. टीएमसी अगले साल होने वाले चुनाव में सत्ताधारी दल भाजपा को चुनौती देने के इरादे में है.

    न्यूज 18 के विशेष सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया है कि चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी (आई-पेक) की 200 लोगों की टीम गोवा में टीएमसी के लिए काम करने में जुटी हुई है. फरवरी 2022 को गोवा में विधानसभा चुनाव होने की संभावना है और तृणमूल कांग्रेस उसमें अपनी उपस्थिति दर्ज कराने को लेकर आश्वस्त है. पश्चिम बंगाल में भाजपा को पीछे छोड़ते हुए एक निर्णायक जीत हासिल करने के बाद से ही ममता और उनकी पार्टी के सदस्य कई बार ये बात दोहरा चुके हैं कि उनके दल की 2024 के चुनाव में देश के दूसरे हिस्सों में तृणमूल कांग्रेस की मौजूदगी को प्रभावी बनाने की योजना है. भाजपा शासित त्रिपुरा में उन्हें टक्कर देने की झलक पहले से ही नजर आने लगी है जहां पर 2023 में चुनाव होने हैं.

    ये भी पढ़ें : Mahant Death: पंच परमेश्वरों की बैठक संपन्न, जानिए उत्तराधिकार पर क्या बोले कैलाशानंद?

    टीएमसी जल्दी ही अपने सांसदों की एक टीम गोवा भेजने वाली है जिससे वहां की ज़मीनी हकीकत का अंदाजा लगाया जा सके. इसके साथ ही राज्य के कुछ नेताओं के साथ बैठकों का दौर भी जारी है. ममता बनर्जी के भांजे और तृणमूल लोक सभा के लिए नीतिनिर्माता अभिषेक बनर्जी गोवा जाने की तैयारी में हैं. इसके बाद टीएमसी प्रमुख भी वहां पहुंचेगीं और अभियान की शुरुआत करेंगी. इसके बाद एक सवाल है जो सभी के ज़ेहन में खड़ा हो रहा है कि आखिर गोवा ही क्यों. इस बात को लेकर टीएमसी का बस फिलहाल इतना ही कहना है कि टीएमसी की जड़ें बंगाल में हैं और तटीय राज्यों में उनकी मौजूदगी ना के बराबर है. गोवा विधानसभा में 40 सीटें हैं और ये त्रिपुरा से भी छोटा है. 2017 के विधानसभा चुनाव में यहां कांग्रेस ने 17 सीटों पर जीत हासिल की थी और भारतीय जनता पार्टी ने 13 सीट हासिल की थीं, लेकिन उसके बावजूद यहां भाजपा ने अपनी सरकार बनाई थी.

    ये भी पढ़ें : चीन के खिलाफ मोर्चेबंदी में भारत को एंट्री नहीं, अमेरिका ने ‘ऑकस’ में शामिल करने से किया इनकार

    टीएमसी के सूत्रों का कहना है कि गोवा में कांग्रेस की कमजोरी का उनकी पार्टी को फायदा मिल सकता है. यहां के लोगों ने पिछले चुनाव में वास्तव में भाजपा के खिलाफ वोट दिया था लेकिन फिर भी भाजपा सत्ता में आई. ऐसे में तृणमूल कांग्रेस को लोगों के जेहन में बस ये बात लानी है कि भाजपा को बाहर करने का बस एक ही तरीका है कि वे टीएमसी को वोट दें. अन्यथा चुनाव के नतीजों के बाद दूसरे दलों के विधायक भगवा पार्टी की तरफ रुख कर लेंगे. तृणमूल, गोवा के लोगों के सामने बंगाल के प्रदर्शन को भी प्रस्तुत करेगी. अप्रैल-मई में हुए विधानसभा चुनाव की जीत के बाद से ही टीएमसी देश भर में ये जाहिर करने की कोशिश में लगी हुई है कि भाजपा के विजय रथ को अगर कोई रोक सकता है तो वो ममता बनर्जी हैं. अभिषेक बनर्जी ने भी जून में पार्टी का महासचिव बनने के बाद ही अपनी राष्ट्रीय महत्वाकांक्षाओं को जाहिर किया था.

    सूत्रों का कहना है कि टीएमसी, गोवा में बड़ा दांव खेलने के विचार में है. उनका कहना है कि अगर टीएमसी यहां बेहतर प्रदर्शन करती है तो वो पूर्वी छोर से पश्चिमी छोर तक अपना असर फैला चुकी होगी. ऐसे में पार्टी खुद को राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के विकल्प के तौर पर प्रस्तुत करेगी. वहींं, दिल्ली का सत्ताधारी दल आम आदमी पार्टी भी गोवा पर नजर बनाए हुए है. ममता बनर्जी के आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल के साथ बेहतर संबंध हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि दोनों दल गोवा को लेकर किस तरह के समझौते के लिए तैयार होते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज