लाइव टीवी

CAA पर ममता बनर्जी ने कहा- लोकतंत्र खतरे में, सभी विपक्षी पार्टियां एक हों

भाषा
Updated: December 23, 2019, 10:54 PM IST
CAA पर ममता बनर्जी ने कहा- लोकतंत्र खतरे में, सभी विपक्षी पार्टियां एक हों
प बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने विपक्षी पार्टियों के मुख्यमंत्रियों, वरिष्ठ नेताओं को पत्र लिखा है (फाइल फोटो, PTI)

ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने विपक्षी पार्टियों के मुख्यमंत्रियों और वरिष्ठ नेताओं (Senior Leaders) को पत्र लिखकर उनसे एकजुट रहने और ‘‘देश बचाने’’ (Save the Nation) के लिए योजना बनाने का अनुरोध किया.

  • भाषा
  • Last Updated: December 23, 2019, 10:54 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री (CM) ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने सोमवार को कहा कि केन्द्र में भाजपा (BJP) के नेतृत्व वाली सरकार से भारत में लोकतंत्र (Democracy) खतरे में है.

ममता बनर्जी ने विपक्षी पार्टियों के मुख्यमंत्रियों और वरिष्ठ नेताओं (Senior Leaders) को पत्र लिखकर उनसे एकजुट रहने और ‘‘देश बचाने’’ (Save the Nation) के लिए योजना बनाने का अनुरोध किया.

'सभी गैर-भाजपा दलों को एक साथ आने का किया आग्रह'
बनर्जी ने संशोधित नागरिकता कानून (CAA) और प्रस्तावित एनआरसी (NRC) के खिलाफ देश में प्रदर्शनों के बाद उपजी मौजूदा स्थिति को ‘‘गंभीर’’ बताया और सभी गैर-भाजपा दलों से एक साथ आने और केन्द्र सरकार के ‘‘दमनकारी शासन’ के खिलाफ खड़े होने का आग्रह किया.

सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के सूत्रों ने बताया कि पत्र कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi), राकांपा प्रमुख शरद पवार, नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला समेत आदि के पास भेजे गये है.

'देश के नागरिक CAA और NRC को लेकर भय और दहशत की चपेट में'
बनर्जी ने पत्र में कहा, ‘‘आज, मैं अपने मन में गंभीर चिंताओं के साथ आपको यह पत्र लिख रही हूं. इस देश के नागरिक जाति और पंथ की परवाह किए बिना, विशेषकर महिला और बच्चे, किसान, श्रमिक और अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, ओबीसी और अल्पसंख्यकों (Minorities) के सदस्य संशोधित नागरिकता कानून और प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी एनआरसी को लेकर भय और दहशत की चपेट में हैं. स्थिति बहुत गंभीर है.’’भारतीय लोकतंत्र की आत्मा बचाने की अपील की
बनर्जी ने कहा, ‘‘आज, पहले से कहीं ज्यादा, हमें एकजुट तरीके से इस दमनकारी शासन के खिलाफ खड़े होने की जरूरत हैं. मैं ईमानदारी से अपने सभी वरिष्ठ नेताओं (Senior Leaders) और सभी राजनीतिक संगठनों से अनुरोध करती हूं कि वे इसके खिलाफ एकजुट तरीके से खड़े हों. आइए हम केंद्र द्वारा इन नापाक प्रयासों के खिलाफ शांतिपूर्ण और सार्थक विरोध करें और भारतीय लोकतंत्र की आत्मा को बचाएं.’’

यह भी पढ़ें: कहीं इस वजह से तो नहीं BJP एक के बाद एक राज्यों में हार रही है...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 23, 2019, 10:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर