CAA विरोधी हिंसा के मामले में फैजाबाद से गिरफ्तार युवक को सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत

CAA विरोधी हिंसा के मामले में फैजाबाद से गिरफ्तार युवक को सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत
इसी मामले में गिरफ्तार सभी आरोपियों को कोर्ट द्वारा पहले ही जमानत मिल चुकी है.

नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship amendment law) के विरोध के दौरान हिंसा के मामले में उत्तर प्रदेश के फैजाबाद से गिरफ्तार 19 साल के युवक को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दे दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 5, 2020, 8:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship amendment law) के विरोध के दौरान हिंसा के मामले में उत्तर प्रदेश के फैजाबाद से गिरफ्तार 19 साल के युवक को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दे दी है. हालांकि इसी मामले में गिरफ्तार सभी आरोपियों को कोर्ट द्वारा पहले ही जमानत मिल चुकी है. बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस आर एस नरीमन और जस्टिस नवीन शर्मा ने याचिका पर सुनवाई की, जिसमें यूपी में सीएए विरोधी धरने में शामिल एक युवक फराज ने जमानत मांगी थी.

याचिकाकर्ता की तरफ से पेश वरिष्ठ वकील मेनका गुरुस्वामी ने कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान दलील देते हुए कहा कि सभी आरोपियों को पहले ही जमानत मिल गई है, लेकिन 19 साल की उम्र वाले युवक को कोई विकल्प नहीं दिया गया. दलील देते हुए यह भी कहा गया की शिकायत के 7 महीने बाद इस मामले में गिरफ्तारी होती है और चार्जशीट दाखिल हो गई जांच से कुछ नहीं हुआ.

हालांकि यूपी राज्य के लिए विष्णु शंकर जैन ने याचिका का विरोध किया. उन्होंने कहा कि देशी पिस्टल के साथ याचिकाकर्ता पकड़ा गया था. वह एक भीड़ का नेतृत्व कर रहा था. इस हिंसा में 22 पुलिस वाले घायल हुए थे. सुप्रीम कोर्ट ने फराज को जमानत का आदेश सुनाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज