मेनका गांधी ने कुत्ते पर गाड़ी चढ़ाने का वीडियो शेयर किया, आरोपी के खिलाफ केस दर्ज

मेनका गांधी ने कुत्ते पर गाड़ी चढ़ाने का वीडियो शेयर किया, आरोपी के खिलाफ केस दर्ज
BJP सांसद मेनका गांधी ने सोशल मीडिया पर एक कुत्ते के साथ नृशंसता का वीडियो शेयर किया है (फाइल फोटो)

पुलिस (Police) ने बताया कि आरोपी की पहचान गुरजिंदर सिंह के तौर पर की गई है और पीपुल फॉर एनिमल (Peoples for Animal) के प्रतिनिधियों की शिकायत पर उसके खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम (Animal cruelty act) और भारतीय दंड संहिता (IPC) की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है.

  • Share this:
चंडीगढ़. भाजपा सांसद मेनका गांधी (BJP MP Maneka Gandhi) ने मंगलवार को सोशल मीडिया (Social Media) पर एक वीडियो साझा किया जिसमें एक व्यक्ति कथित रूप से कुत्ते (dog) पर कार चढ़ाता हुआ दिख रहा है. मेनका गांधी द्वारा वीडियो साझा किए जाने के बाद कपूरथला (Kapurthala) में पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया है. मेनका गांधी ने ट्वीट (Tweet) किया, ‘‘यह कुत्तों का ब्रीडर (breeder) और कुत्तों की लड़ाई के लिए इनकी बिक्री करता है, लेकिन जब कुत्ते इसके काम के नहीं होते तो (उनके साथ) यह करता है. इस कुत्ते की करीब 30 मिनट तक असहनीय दर्द (unbearable pain) सहने के बाद मौत हो गई.’’

पुलिस (Police) ने बताया कि आरोपी की पहचान गुरजिंदर सिंह के तौर पर की गई है और पीपुल फॉर एनिमल (Peoples for Animal) के प्रतिनिधियों की शिकायत पर उसके खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम (Animal cruelty act) और भारतीय दंड संहिता (IPC) की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने बताया कि सिंह कपूरथला (Kapurthala) के दांडूपुर का रहने वाला है और फरार है.

कुत्तों का व्यापारी है व्यक्ति, नस्ल तैयार करने का करता है कारोबार
कपूरथला के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जसप्रीत सिंह सिद्धू ने ‘पीटीआई-भाषा’ को फोन पर बताया, ‘‘हमने इस संबंध में मामला दर्ज किया है.’’ उन्होंने बताया कि प्राथमिकी कपूरथला जिले के तलवंडी चौधरियां पुलिस थाने में दर्ज की गई है. पुलिस अधिकारी ने कहा कि आरोपी का कुत्तों की नस्ल तैयार करने का कारोबार है.
यह भी पढ़ें: कोरोना महामारी की वजह से इस बार बिल्कुल बदला सा होगा संसद का मानसून सत्र



बता दें कि मेनका गांधी सांसद होने के साथ ही एक पर्यावरण कार्यकर्ता भी हैं और अक्सर वो पशु-पक्षियों के खिलाफ होने वाली हिंसा के मुद्दों को उठाती रहती हैं. उन्होंने अतीत में भी कई मामलों में व्यक्तिगत रुचि दिखाकर पशु-पक्षियों के अधिकारों की रक्षा की है. कुछ हफ्तों पहले केरल में विस्फोटक भरा फल खाने से एक गर्भवती हथिनी की मौत हो जाने के बाद उन्होंने कहा था कि ऐसे करीब 600 हाथी हर साल मारे जाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज