होम /न्यूज /राष्ट्र /Mangalyaan News: मंगलयान ने कहा अलविदा, 8 साल के सफर के बाद ईंधन और बैटरी हुई खत्म

Mangalyaan News: मंगलयान ने कहा अलविदा, 8 साल के सफर के बाद ईंधन और बैटरी हुई खत्म

इसरो के सूत्रों के हवाले से लिखा है कि अब कोई ईंधन नहीं बचा है. (प्रतीकात्मक फोटो)

इसरो के सूत्रों के हवाले से लिखा है कि अब कोई ईंधन नहीं बचा है. (प्रतीकात्मक फोटो)

इसरो के अधिकारियों ने कहा कि मार्स ऑर्बिटर यान ने लगभग आठ वर्षों तक काम किया, जबकि इसे छह महीने की क्षमता के हिसाब से ब ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

भारत के मंगलयान में ईंधन और इसकी बैटरी भी खत्म हो गई है.
वैज्ञानिकों ने इस अंतरिक्ष यान को पहले ही प्रयास में मंगल की कक्षा में स्थापित कर दिया था.
इसरो के वैज्ञानिकों ने बताया कि मंगलयान से संपर्क अब टूट गया है.

बेंगलुरु. भारत के मंगलयान में प्रणोदक खत्म हो गया है और इसकी बैटरी एक सुरक्षित सीमा से अधिक समय तक चलने के बाद खत्म हो गई है, जिससे ये अटकलें तेज हो गई हैं कि देश के पहले अंतर्ग्रहीय मिशन ने आखिरकार अपनी लंबी पारी पूरी कर ली है. साढ़े चार सौ करोड़ रुपये की लागत वाला ‘मार्स ऑर्बिटर मिशन’ (एमओएम) पांच नवंबर, 2013 को पीएसएलवी-सी25 से प्रक्षेपित किया गया था और वैज्ञानिकों ने इस अंतरिक्ष यान को पहले ही प्रयास में 24 सितंबर, 2014 को सफलतापूर्वक मंगल की कक्षा में स्थापित कर दिया था.

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के सूत्रों ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘अब, कोई ईंधन नहीं बचा है. उपग्रह की बैटरी खत्म हो गई है. संपर्क खत्म हो गया है.’ हालांकि, इसरो की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. इसरो पहले एक आसन्न ग्रहण से बचने के लिए यान को एक नयी कक्षा में ले जाने का प्रयास कर रहा था. अधिकारियों ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा, ‘लेकिन हाल ही में एक के बाद एक ग्रहण लगा, जिनमें से एक ग्रहण तो साढ़े सात घंटे तक चला.’

वहीं, एक अन्य अधिकारी ने कहा, ‘चूंकि उपग्रह बैटरी को केवल एक घंटे और 40 मिनट की ग्रहण अवधि के हिसाब से डिज़ाइन किया गया था, इसलिए एक लंबा ग्रहण लग जाने से बैटरी लगभग समाप्त हो गई.’ इसरो के अधिकारियों ने कहा कि मार्स ऑर्बिटर यान ने लगभग आठ वर्षों तक काम किया, जबकि इसे छह महीने की क्षमता के अनुरूप बनाया गया था. उन्होंने कहा, ‘इसने अपना काम (बखूबी) किया और महत्वपूर्ण वैज्ञानिक परिणाम प्राप्त किए.’

मीडिया रिपोर्ट ने इसरो के सूत्रों के हवाले से लिखा है कि अब कोई ईंधन नहीं बचा है. सैटेलाइट की बैटरी खत्म हो गई है. संपर्क अब टूट गया है. हालांकि इसरो की तरफ से इसको लेकर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. इसरो पहले एक आसन्न ग्रहण से बचने के लिए मंगलयान को एक नयी ऑरबिट में ले जाने का प्रयास कर रहा था.

Tags: ISRO

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें