माणिक सरकार ने राज्यपाल को सौंपा इस्तीफा, यह बताया आगे का प्लान

माणिक सरकार ने राज्यपाल को सौंपा इस्तीफा, यह बताया आगे का प्लान
राज्य में सीपीएम की इस करारी हार के बाद माणिक सरकार ने कहा कि वो जनता के फैसले का आदर करते हैं और किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले चुनाव के नतीजों का विश्लेषण करेंगे.

राज्य में सीपीएम की इस करारी हार के बाद माणिक सरकार ने कहा कि वो जनता के फैसले का आदर करते हैं और किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले चुनाव के नतीजों का विश्लेषण करेंगे.

  • News18.com
  • Last Updated: March 4, 2018, 1:50 PM IST
  • Share this:
त्रिपुरा में पिछले 25 साल मुख्यमंत्री रहे वरिष्ठ सीपीएम नेता माणिक सरकार ने विधानसभा चुनाव में मिली हार को स्वीकर करते हुए राजभवन जाकर राज्यपाल के समक्ष अपना इस्तीफा सौंप दिया.

राज्य में सीपीएम की इस करारी हार के बाद माणिक सरकार ने कहा कि वो जनता के फैसले का आदर करते हैं और किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले चुनाव के नतीजों का विश्लेषण करेंगे.

जब उनसे पूछा गया कि नई सरकार में उनकी भूमिका क्या होगी तो उन्होंने कहा कि मेरी भूमिका सिर्फ त्रिपुरा तक सीमित नहीं रहेगी. मैं गरीबों के लिए काम करता रहूंगा. मैं गरीबों से जुड़े मुद्दों को उठाता रहूंगा ताकि त्रिपुरा के गरीब अपने पैरों पर खड़े हो सकें.



ईवीएम में फ्रॉड की बात पूछी गई तो उन्होंने कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया पर कहा कि बीजेपी ने चुनाव में धन-बल का प्रयोग किया है.
दरअसल शनिवार को वोटों की गिनती शुरू होते ही यह बात लगभग साफ हो गई थी कि बीजेपी और इसकी एलायंस इंडीजेनस पीपल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) ने सीपीएम को हरा दिया है. बीजेपी व आईपीएफटी की पार्टी ने मिलकर 60 सदस्यों वाले विधानसभा में 43 सीटें जीती हैं. बता दें कि माणिक सरकार 1998 से त्रिपुरा के मुख्यमंत्री हैं.

ये भी पढ़ेंः
नॉर्थ ईस्ट में भाजपा की जीत पर बोले मुख्यमंत्री - 'ये विचारधारा की जीत है'
नॉर्थ ईस्ट के विधानसभा चुनाव नतीजों पर जानिए किसने क्या कहा...


 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading