होम /न्यूज /राष्ट्र /Manipur Elections: एन.बीरेन सिंह, एक फुटबॉलर जो पहले पत्रकार बने, अब दूसरी बार सीएम बनने जा रहे

Manipur Elections: एन.बीरेन सिंह, एक फुटबॉलर जो पहले पत्रकार बने, अब दूसरी बार सीएम बनने जा रहे

एन.बीरेन सिंह ने हिंगांग सीट से 5वीं बार जीत दर्ज की (फोटो आभार twitter)

एन.बीरेन सिंह ने हिंगांग सीट से 5वीं बार जीत दर्ज की (फोटो आभार twitter)

Manipur Assembly Election Result Live: मणिपुर के वर्तमान मुख्यमंत्री एन.बीरेन सिंह (N.Biren Singh, Chief Minister, Mani ...अधिक पढ़ें

    Manipur Assembly Election Result: मणिपुर के मौजूदा मुख्यमंत्री नोंगथोम्बम बीरेन सिंह (N Biren Singh) ने हिंगांग विधानसभा सीट (Heingang Assembly Seat) से बाजी मार ली है. चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक एन बीरेन सिंह को 24 हजार 814 वोट मिले हैं. उन्होंने अपने नजदीकी प्रतिद्वंदी कांग्रेस के पी. शरतचंद्र सिंह (Congress Candidate P.Sharadchandra Singh)  को 18 हजार 271 वोटों के मार्जिन से हराया है. उन्हें 6,486 वोट मिले हैं. एन. बीरेन सिंह के नेतृत्व में भाजपा ने मणिपुर में बड़ी जीत हासिल की है. जब वो 2016 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए थे, तो किसी को उम्मीद नहीं थी कि वो बीजेपी के पहले मुख्यमंत्री बनेंगे. उन्होंने अपनी राजनीतिक कुशलता से साबित कर दिया है कि वर्तमान में मणिपुर में उनसे चतुर राजनेता कोई नहीं है.

    1 जनवरी 1961 को मणिपुर में जन्मे एन बीरेन सिंह राजनीति में आने से पहले पत्रकार और फुटबॉलर रहे हैं. शुरू से उनकी दिलचस्पी फुटबॉल में थी. कम ही लोग जानते हैं कि 18 साल की उम्र में बीरेन सिंह बीएसएफ की एक फूटबॉल टीम के लिए चुन लिए गए थे. वे 1981 में कोलकाता के मोहन बागान फुटबॉल क्लब को डूरंट कप में हराने वाली बीएसएफ टीम का हिस्सा भी थे. बाद में उन्होंने राज्य टीम के लिए खेलना जारी रखा. खेल के साथ एन बीरेन सिंह पत्रकारिता से भी जुड़े रहे. इसके लिए उन्होंने पहले बीएसएफ से इस्तीफा दिया और स्थानीय भाषा के अखबार की शुरुआत की. बताया जाता है कि इसके लिए उन्हें अपने पिता से विरासत में मिली एक जमीन भी बेचनी पड़ी थी. बाद में बीरेन सिंह राजनीति में उतरे और यहां भी सफल रहे.

    राजनीतिक करियर की शुरुआत

    एन. बीरेन सिंह ने पूरी तैयारी के साथ राजनीति में कदम रखा. साल 2002 के विधानसभा चुनाव में डेमोक्रेटिक पीपुल्स पार्टी (Democratic Peoples Party) की टिकट पर हेनगांग विधानसभा सीट (Heingang Assembly Seat) से विधायक चुने गए. साल 2003 में वो कांग्रेस पार्टी में शामलि हो गए. और उन्हें राज्य सरकार में मंत्री बनाया गया. साल 2007 के चुनाव में वो फिर से हेनगांग सीट से चुने गए. इस बार उन्हें सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया. 2012 के विधानसभा चुनाव में भी एन. बीरेन सिंह अपने क्षेत्र से विधायक निर्वाचित हुए.

    2016 में भाजपा में हुए शामिल

    अक्टूबर 2016 में एन. बीरेन सिंह, तत्कालीन कांग्रेस को छोड़ कर भाजपा में शामिल हो गए. बीजेपी ने उन्हें अपना प्रवक्ता बनाया. साल 2017 के चुनाव में चौथी बार हेनगांग सीट से विधायक चुने गए थे.  चुनाव में उन्होंने टीएमसी (TMC) के पी. शरदचंद्र सिंह को 1,206 मतों से हराया. 2017 के चुनाव में एन. बीरेन सिंह को कुल 10,349 वोट मिले थे.

    राज्य में बीजेपी के पहले सीएम बने

    एन. बीरेन सिंह को विधानसभा में भाजपा के नेता के रूप में चुने गए और वह बहुमत वाले विधायकों को लेकर राज्यपाल के सामने पेश हुए, उन्होंने 15 मार्च 2017 को मणिपुर के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. वह मणिपुर से भाजपा के पहले मुख्यमंत्री हैं. एन. बीरेन सिंह ने साबित कर दिया है कि वो राजनीति के माहिर खिलाड़ी हैं.

    एन. बीरेन सिंह के पास है इतनी संपत्ति

    अपने चुनावी हलफनामे में, बीरेन सिंह ने चल और अचल सहित अपनी संपत्ति 1,08,46,392 रुपये घोषित की. मुख्यमंत्री की कुल चल संपत्ति 69,46,392.98 रुपये है. इसमें 1,95,000 रुपये नकद और तीन बैंक खातों में 58,26,872 रुपये की शेष राशि शामिल है. उनके पास 6 लाख रुपये से अधिक की महिंद्रा बोलेरो और एक .32 वाल्टर पिस्टल है. बीरेन सिंह ने 39 लाख रुपये की अचल संपत्ति घोषित की है, जिसमें से 9 लाख रुपये की जमीन स्व-अर्जित है जबकि विरासत में मिली संपत्ति 30 लाख रुपये की है. सिंह पर 1,44,300 रुपये देनदारी के रूप में हैं.

    Tags: #MN2022~S14A002, Assembly elections, Manipur Elections, Uttarakhand Assembly Elections 2022

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें