लाइव टीवी

मनीष तिवारी ने की शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को भारत रत्न देने की मांग

News18Hindi
Updated: October 26, 2019, 11:14 AM IST
मनीष तिवारी ने की शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को भारत रत्न देने की मांग
मनीष तिवारी ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिखी है.

कांग्रेस (Congress) नेता मनीष तिवारी (Manish Tiwari) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) लिखी चिट्ठी में शहीद-ए-आजम भगत सिंह (shaheed e azam bhagat singh) से जुड़ी तीन मांगे की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2019, 11:14 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  (Narendra Modi) को पत्र लिखकर शहीद भगत सिंह (Bhagat Singh), सुखदेव (Sukhdev) और राजगुरु (Rajguru) को भारत रत्न (Bharat Ratna) देने की मांग की है. उन्होंने यह भी आग्रह किया है कि मोहाली स्थित हवाई अड्डे का नाम 'शहीद-ए-आजम भगत सिंह हवाई अड्डा' किया जाए.

तिवारी ने कहा कि शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव ने ब्रिटिश साम्राज्यवाद के खिलाफ जो प्रतिरोध किया, उससे देशभक्तों की पूरी एक पीढ़ी प्रेरित हुई और वहीं इन सेनानियों ने 23 मार्च 1931 को सर्वोच्च बलिदान दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री से आग्रह किया, '26 जनवरी 2020 को इन तीनों शहीदों को भारत रत्न दिया जाए. 'नरेंद्र मोदी, कांग्रेस, मनीष तिवारी, भगत सिंह, शहीद ए आज़म भगत सिंह, भारत रत्न से भगत सिंह,narendra modi,congress,manish tewari,bhagat singh, saheed e azam bhagat singh, bharat ratna to bhagat singh,

मनीष तिवारी ने की यह मांग
तिवारी ने मांग की है कि 'इनको आधिकारिक रूप से शहीद-ए-आजम घोषित किया जाए. चंडीगढ़ (मोहाली) स्थित हवाई अड्डे का नाम शहीद-ए-आजम भगत सिंह हवाई अड्डा किया जाए.'.

गौरतलब है कि साल 2016 में केंद्रीय गृह मंत्रालय में भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को लेकर  एक आरटीआई में पूछा गया था कि भगत सिंह, सुखदेव एवं राजगुरु को शहीद का दर्जा कब दिया गया. यदि नहीं तो उस पर क्या काम चल रहा है? इस पर गृह मंत्रालय का हैरान करने वाला जवाब आया. इसमें कहा गया था कि इस संबंध में कोई रिकॉर्ड नहीं है.

भाषा इनपुट के साथ

यह भी पढ़ें: आज़ाद भारत में भी ‘शहीद’ क्यों नहीं हैं भगत सिंह!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 26, 2019, 10:30 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...