Home /News /nation /

संसदीय समिति के तीखे सवालों से मनमोहन सिंह ने उर्जित पटेल को बचाया, खुद बन गए ढाल!

संसदीय समिति के तीखे सवालों से मनमोहन सिंह ने उर्जित पटेल को बचाया, खुद बन गए ढाल!

नोटबंदी पर वित्त मंत्रालय संबंधी संसद की स्थायी समिति की बुधवार को हुई बैठक ख़ासी हंगामेदार रही. सड़क से लेकर संसद तक नोटबंदी पर विरोध कर रहे विपक्षी सांसदों के सवाल थे तो जवाब देने वालों के कठघरे में वित्त मंत्रालय के अधिकारी और समिति के सामने पेश हुए खुद आरबीआइ गवर्नर उर्जित पटेल.

नोटबंदी पर वित्त मंत्रालय संबंधी संसद की स्थायी समिति की बुधवार को हुई बैठक ख़ासी हंगामेदार रही. सड़क से लेकर संसद तक नोटबंदी पर विरोध कर रहे विपक्षी सांसदों के सवाल थे तो जवाब देने वालों के कठघरे में वित्त मंत्रालय के अधिकारी और समिति के सामने पेश हुए खुद आरबीआइ गवर्नर उर्जित पटेल.

नोटबंदी पर वित्त मंत्रालय संबंधी संसद की स्थायी समिति की बुधवार को हुई बैठक ख़ासी हंगामेदार रही. सड़क से लेकर संसद तक नोटबंदी पर विरोध कर रहे विपक्षी सांसदों के सवाल थे तो जवाब देने वालों के कठघरे में वित्त मंत्रालय के अधिकारी और समिति के सामने पेश हुए खुद आरबीआइ गवर्नर उर्जित पटेल.

अधिक पढ़ें ...
    प्रणय उपाध्याय

    नोटबंदी पर वित्त मंत्रालय संबंधी संसद की स्थायी समिति की बुधवार को हुई बैठक ख़ासी हंगामेदार रही. सड़क से लेकर संसद तक नोटबंदी पर विरोध कर रहे विपक्षी सांसदों के सवाल थे तो जवाब देने वालों के कठघरे में वित्त मंत्रालय के अधिकारी और समिति के सामने पेश हुए खुद आरबीआइ गवर्नर उर्जित पटेल. सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली की अध्यक्षता वाली समिति की बैठक में एक मौका ऐसा भी आया जब समिति के सदस्य और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह आरबीआइ गवर्नर पटेल की ढाल बन गए.

    दरअसल हुआ यूं कि बैठक के दौरान कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आरबीआई गवर्नर की ओर धन निकासी सीमा को लेकर तीखा सवाल दागते हुए पूछा कि, क्या आपको लगता है अपने ही खातों से पैसे निकालने की सीमा हटा दी गई तो देश में अफ़रा-तफरी मच जाएगी. पटेल उनके इस सवाल का जवाब देते इसके पहले ही बैठक में मौजूद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि आरबीआइ गवर्नर को ऐसे सवालों का जवाब देने की ज़रूरत नहीं है.

    ग़ौरतलब है कि मनमोहन सिंह भी रिज़र्व बैंक के गवर्नर रह चुके हैं. इतना ही नहीं, बताया जाता है कि पूर्व प्रधानमंत्री उर्जित पटेल को काफी पसंद भी करते हैं. मनमोहन के ही कार्यकाल में उर्जित पटेल को आरबीआई का डिप्टी गवर्नर बनाया गया था. इससे पहले पटेल मनमोहन सिंह के वित्त मंत्री कार्यकाल में सलाहकार भी रह चुके हैं.

    सूत्रों के अनुसार संसदीय समिति की बैठक में आरबीआइ ने विस्तृत प्रेज़ेंटेशन दिया, जिसमें कहा गया कि नोटबंदी के बाद आरबीआई अब तक  9.2 लाख करोड़ मूल्य के नए नोट बाज़ार में उतार चुका है. इसके अलावा नकदी की सहूलियत बढ़ाने के लिए आरबीआइ मासिक धन निकासी की सीमा एक लाख रुपये कर चुका है, जबकि औसतन लोग प्रति सप्ताह 12-13 हज़ार रुपये ही निकालते हैं. साथ ही समिति के सवालों के जवाब में पटेल ने बताया कि आरबीआई ने नोटबंदी पर राय-मशविरा बीते साल जनवरी में ही शुरू कर दिया था. उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपये के बाजार में प्रचलित नोटों को बंद करने का ऐलान किया था. साथ ही लोगों को पुराने नोट जमा कराने और बदलवाने के लिए 50 दिनों की मोहलत दी थी.

    सूत्र बताते हैं कि संसदीय समिति की बैठक में ना वित्त मंत्रालय और न ही आरबीआई गवर्नर इस बात का जवाब दे पाए कि आखिर कब तक बैंकिंग व्यवस्था में कामकाज सामान्य हो जाएगा. बैठक में मौजूद एक सदस्य ने इस बात की तस्दीक करते हुए कहा कि आरबीआई और वित्त मंत्रालय के पास कई सवालों का जवाब ही नहीं था. सदस्यों को इस बात का भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला कि नोटबंदी के बाद आखिर कितना पैसा बैंकों में जमा हुआ है?

    सूत्रों के मुताबिक इस बाबत पूछे गए सवालों पर वित्त मंत्रालय और आरबीआई अधिकारियों ने इतना ही बताया कि अभी इसका आकलन चल रहा है.  बैठक में समिति के सवालों का जवाब देने के लिए आरबीआइ गवर्नर के अलावा डिप्टी गवर्नर आर गांधी और एसएस मूंदरा भी थे. वहीं वित्त मंत्रालय की ओर से आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास और राजस्व सचिव हंसमुख अढिया समेत कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे. समिति के आगे पक्ष रखने के लिए इंडियन बैंक असोसिएशन और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, पंजाब नेशनल बैंक और ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स के नुमाइंदे भी पहुंचे थे.

    सूत्रों के मुताबिक  नोटबंदी पक सरकार और आरबीआइ के जवाब से असंतुष्ट समिति के कई सदस्यों का कहना था कि आरबीआई गवर्नर को फिर से बुलाया जाए. लिहाज़ा अध्यक्ष इस बारे में मशविरा कर गवर्नर को फिर से बुला सकते हैं. संसद के बजट सत्र के दौरान सदन में अपनी रिपोर्ट रखने से पहले समिति की एक-दो बैठक और संभव है.

    Tags: RBI Governor, Urjit patel

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर