Home /News /nation /

Mann Ki Baat: पीएम मोदी बोले- मैं सत्ता नहीं, सेवा के लिए देश में हूं, पढ़ें PM की 10 बड़ी बातें

Mann Ki Baat: पीएम मोदी बोले- मैं सत्ता नहीं, सेवा के लिए देश में हूं, पढ़ें PM की 10 बड़ी बातें

आज मन की बात में पीएम मोदी बोले- प्राकृतिक संसाधन को बचाना हम सबका हित.
हमारे आस-पास जो भी प्राकृतिक संसाधन है, हम उन्हें बचाएं, उन्हें फिर से उनका असली रूप लौटाएं (File pic)

आज मन की बात में पीएम मोदी बोले- प्राकृतिक संसाधन को बचाना हम सबका हित. हमारे आस-पास जो भी प्राकृतिक संसाधन है, हम उन्हें बचाएं, उन्हें फिर से उनका असली रूप लौटाएं (File pic)

Mann Ki Baat: मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि प्राकृतिक संसाधन को बचाना हम सबका हित. उन्होंने कहा, 'हमारे आस-पास जो भी प्राकृतिक संसाधन है, हम उन्हें बचाएं, उन्हें फिर से उनका असली रूप लौटाएं. इसी में हम सबका हित है, जग का हित है.' हर महीने के आखिरी रविवार को प्रसारित होने वाले इस कार्यक्रम का आज 83वां एपिसोड था. आईए एक नज़र डालते हैं इस कार्यक्रम के दौरान उनकी तरफ से कही गई 10 खास बातों पर...

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने कहा है कि वो सत्ता नहीं बल्कि लोगों की सेवा के लिए मौजूद हैं. उन्होंने ये बातें अपने मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात’ (Mann Ki Baat) में कही. उन्होंने लोगों को कोरोना से बचने की भी सलाह दी. पीएम ने कहा कि कोरोना अभी गया नहीं है लिहाजा हमें सावधान रहने की जरूरत है. पीएम ने अपने आज के कार्यक्रम में आयुष्मान कार्ड से इलाज कराने वाले मरीजों से भी बातचीत की.

    हर महीने के आखिरी रविवार को प्रसारित होने वाले इस कार्यक्रम का आज 83वां एपिसोड था. आईए एक नज़र डालते हैं इस कार्यक्रम के दौरान उनकी तरफ से कही गई 10 खास बातों पर…

    पीएम मोदी ने कहा. 'दिसंबर महीने नेवी डे और आर्म्ड फोर्सेस फ्लैग डे भी देश मनाता है. हम सबको मालूम है 16 दिसम्बर को 1971 के युद्ध का स्वर्णिम जयन्ती वर्ष भी देश मना रहा है. मैं इन सभी अवसरों पर देश के सुरक्षा बलों का स्मरण करता हूं, हमारे वीरों का स्मरण करता हूं.'
    पीएम मोदी- अब तो देश-भर में आम लोग हों या सरकारें, पंचायत से लेकर पार्लियामेंट तक, अमृत महोत्सव की गूंज है और लगातार इस महोत्सव से जुड़े कार्यक्रमों का सिलसिला चल रहा है.'
    पीएम मोदी- पिछले दिनों दिल्ली में 'आजादी की कहानी-बच्चों की जुबानी’ कार्यक्रम में बच्चों ने स्वाधीनता संग्राम से जुड़ी गाथाओं को प्रस्तुत किया. खास बात ये रही कि इसमें भारत के साथ नेपाल, मौरिशस, तंजानिया, न्यूजीलैंड और फीजी के स्टूडेंट्स भी शामिल हुए
    पीएम मोदी ने कहा, 'प्रकृति से हमारे लिये खतरा तभी पैदा होता है जब हम उसके संतुलन को बिगाड़ते हैं या उसकी पवित्रता नष्ट करते हैं. प्रकृति मां की तरह हमारा पालन भी करती है और हमारी दुनिया में नए-नए रंग भी भरती है.'
    पीएम मोदी ने कहा, 'मैं आज भी सत्ता में नहीं हूं और भविष्य में भी सत्ता में जाना नहीं चाहता हूं. मैं सिर्फ सेवा में रहना चाहता हूं। मेरे लिए ये पद, सत्ता के लिए है ही नहीं, सेवा के लिए है.'
    पीएम मोदी- आपको ये जानकार बेहद ख़ुशी होगी कि अब Unicorns की दुनिया में भी भारत तेज उड़ान भर रहा है. एक रिपोर्ट के मुताबिक इसी साल एक बड़ा बदलाव आया है. सिर्फ 10 महीनों में ही भारत में हर 10 दिन में एक Unicorn बना है.
    पीएम मोदी- दिसम्बर महीने में ही एक और बड़ा दिन हमारे सामने आता है जिससे हम प्रेरणा लेते हैं. ये दिन है, 6 दिसम्बर को बाबा साहब अम्बेडकर की पुण्यतिथि. बाबा साहब ने अपना पूरा जीवन देश और समाज के लिये अपने कर्तव्यों के निर्वहन के लिये समर्पित किया था.
    मोदी ने कहा, 'StartUps की दुनिया में आज भारत विश्व में एक प्रकार से नेतृत्व कर रहा है. साल दर साल स्टार्टअप को रिकॉर्ड निवेश मिल रहा है. ये क्षेत्र बहुत तेज रफ्तार से आगे बढ़ रहा है. देश के हर छोटे-छोटे शहर में भी StartUp की पहुंच बढ़ी है.
    मोदी ने कहा, 'जालौन में एक पारंपरिक नदी है- नून नदी. नून यहां के किसानों के लिए पानी प्रमुख स्रोत हुआ करती थी. लेकिन धीरे-धीरे नून नदी लुप्त होने के कगार पर पहुंच गई. जालौन के लोगों ने इस स्थिति को बदलने का बीढ़ा उठाया. आज इतने कम समय में ये नदी फिर जीवित हो गई है.
    मोदी ने कहा, 'हमारे देश में अनेक राज्य हैं, अनेक क्षेत्र है जहां के लोगों ने अपनी प्राकृतिक विरासत के रंगों को संजोकर रखा है.इन लोगों ने प्रकृति के साथ मिलकर रहने की जीवनशैली आज भी जीवित रखी है. ये हम सबके लिए भी प्रेरणा है.'

    Tags: Mann Ki Baat, PM Modi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर